loading...

उसकी उंगली काम्या की पेंटी के अंदर होती हुई उसकी चूत के अंदर जा पहुंची

उसकी उंगली काम्या की पेंटी के अंदर होती हुई उसकी चूत के अंदर जा पहुंची

loading...

दोस्तो, कैसे हैंं आप…इंडियन सेक्स कहानी का पूरा आनन्द ले रहे हैंं न? आज की सेक्सी कहानी रिशव और शिम्पी की हैं जो राजपुर का कपल हैं… इनकी शादी हुए दो साल हो गए हैंं, पर परिवार बढ़ाने के लिए अभी दोनों रुकना चाहते हैंं।

शिम्पी कुछ ज्यादा ही चुलबुली और बेबाक हैं, उसकी फिगर भी मस्त हैं, 5’4” की हाईट, गोरा रंग और भरा हुआ शरीर… अमन तो उसके मम्मों का दीवाना हैं… जब मर्जी कहीं भी वो उन्हें मसल देता या शिम्पी की शर्ट में हाथ डाल देता! शिम्पी भी कम नहीं थी, वो भी अमन को उकसाने के काम करती रहती, मसलन बाइक पर जाते समय अमन की शर्ट के अंदर हाथ डाल कर उसके निप्पल सहलाती रही या कान के पीछे काट लेती। एक दो बार तो अमन की बाइक गिरने से भी बची पर दोनों नहीं मानते। अमन की कंपनी चेन्नई की हैं तो उसे महीने में दो बार तो चेन्नई या दिल्ली जाना ही होता था। शिम्पी वैसे तो एमबीए हैं पर वो जॉब करे, यह अमन को पसंद नहीं था। पर शिम्पी ने उससे ये तय कर रखा था की घर बैठना उसके बस की बात नहीं तो अमन उसे घूमने फिरने या दोस्तों के साथ रहने पर मना नहीं करेगा। हाँ अमन के घर से जाने और लौटने से पहले शिम्पी घर आ जाएगी… उनका यह समझौता पिछले छह महीने से अच्छे से चल रहा था। शिम्पी ने भी अपनी एक अच्छी सहेली बना ली थी जिसके साथ उसकी अधिकतर दोपहर कटती… उसका नाम काम्या माथुर था। उसके पति अनिल माथुर बैंक मैनेजर था और जालंधर पोस्टेड था। वो रोज सुबह 7 बजे निकल जाता और रात को -8 बजे तक आता। काम्या दिल्ली मिरांडा हाउस की पढ़ी हुई थी, मॉडर्न होने के साथ साथ मस्त भी थी पर उसका पति अनिल एक सीधा सादा मेहनती व्यक्ति था, उसके लिए उसका काम सबसे ऊपर था। उसे इस बात की परवाह नहीं थी की काम्या क्या पहनती हैं, कैसे मस्ती करती हैं, उसे तो बस अपना काम और फिर रात को एक पेग और फिर गहरी नींद! उनकी सेक्स लाइफ भी कुछ ख़ास नहीं थी… काम्या इस बात से खीजती थी पर अब जिन्दगी को जो भी मंजूर था… काम्या ने अपनी जिन्दगी को मनपसंद कपड़ों, पोर्न मूवीज और सेक्स टॉयज तक सीमित कर लिया था। काम्या को सेक्स का बहुत शौक था पर पति के साथ न दे पाने से वो अपनी इच्छाएं अपनी उंगली और सेक्स टॉयज से पूरी करती… सेक्स को लेकर उसके और अनिल के बीच टेंशन थी, काम्या अनिल को फकींग बूरिया बोलती थी। उन्होंने एक बार बच्चा करने की कोशिश भी की पर दूसरे महीने का गर्भ गिर गया तो डॉक्टर्स की सलाह पर उन्होंने बच्चे का विचार दो साल के लिए छोड़ दिया। काम्या और शिम्पी की मुलाकात एक मॉल में हुई थी… उसके बाद फोन और घर आना जाना शुरू हो गया। दोनों के विचार इतने मिले की अब तीन महीने में ही दोनों पक्की सहेली बन गई। अमन के जाने के बाद घर के काम निबटा कर दोनों फोन पर चिपट जाती,, दिन का प्रोग्राम तय करती और मस्ती करती… हाँ, अभी तक काम्या ने अपने जिस्म की भूख को शिम्पी को नहीं बताया था, बस शिम्पी यही जानती थी की अनिल सीधा आदमी हैं और ज्यादा रोमांटिक नहीं हैं,, तो क्या हुआ, कमाता तो अच्छा हैं और हर आदमी सेक्सी तो नहीं होता। शिम्पी अनिल से नहीं मिली थी पर काम्या एक बार अमन से मिल चुकी थी। काम्या को अनिल ने फ़्लर्ट करने की कोशिश भी की तो काम्या ने लिफ्ट नहीं दी, बात आई गई हो गई. काम्या ने शिम्पी को भी पोर्न मूवीज दिखाई तो शिम्पी ने भी रात को अमन से मूवीज की बात शेयर करी और उस रात से अमन और शिम्पी अक्सर ही इन्डियन पोर्न वीडियोस पर सेक्स मूवीज देखने लगे! एक दिन काम्या ने शिम्पी को सेक्सी स्टोरीज के बारे में बताया तो अब अमन और शिम्पी की रात और रंगीन होने लगीं। अब शिम्पी की सोच सेक्स को लेकर बदलने लगी थी। उसे लेस्बियन सेक्स और थ्रीसम की कहानियों में मजा आने लगा था। उधर अमन के मन में काम्या को लेकर गर्माहट आनी शुरू हो गई थी। तभी अमन को 2 दिनों के चेन्नई जाना पड़ा। अमन सुबह ही चला गया। शिम्पी ने नहा कर काम्या को फोन कीया और उसे अपने घर आने को कहा। तो काम्या बोली- तेरे घर कल आ जाउंगी, आज तू मेरे पास आ जा! शिम्पी दोपहर से पहले ही काम्या के पहुँच गई… काम्या ने उसे बड़े प्यार से गले लगा कर रिसीव कीया। शिम्पी को आज काम्या बदली सी लगी। आज काम्या ने सिर्फ एक शार्ट सा फ्रॉक पहना था, नीचे ब्रा नहीं थी और पेंटी भी जालीदार थी। काम्या की सेक्स अपील शिम्पी से ज्यादा ही थी। शिम्पी ने पूछा- आज क्या बात हैं, आज तो बड़ी सेक्सी लग रही हैं… तेरा फ्रॉक बड़ा स्मार्ट हैं। इस पर काम्या बोली- आज तू भी कपड़े बदल ले, फिर आराम से मूवी देखेंगे। शिम्पी ने मना भी कीया पर काम्या ने जबरदस्ती उसे भी फ्रॉक पहना दी। शिम्पी ने ब्रा जरूर पहने रखी। दोनों बेड पर बैठ कर मूवी देखने लगीं। काम्या ने ब्रेड रोल और कोल्ड ड्रिंक बेड पर ही रख रखी थी… उसने बिना शिम्पी को बताये कोल्ड ड्रिंक में थोड़ी सी व्हिस्की मिला दी थी। शिम्पी को इन कपड़ों में कुछ झिझक हो रही थी पर काम्या ने उसके मम्मे दबाकर और उसके होंठ चूमकर उसकी शर्म ख़त्म कर दी थी। काम्या ने लेस्बियन सेक्स की मूवी लगाई थी,, शिम्पी को भी लेस्बियन सेक्स की मूवी का मन था। मूवी में दोनों लड़कीयों की चिपटा चिपटी और फिर बूर चुसाई देख के और कुछ व्हिस्की का असर, दोनों गर्म हो गई थीं। काम्या ने शिम्पी को चिपटाते ही उसके जलते होंठों पर अपने होंठ रख दिए। अब तो शिम्पी भी काम्या से चिपट गई और उसकी उंगली काम्या की पेंटी के अंदर होती हुई उसकी बूर के अंदर जा पहुंची… दोनों एक दूजे में समा जाना चाहती थीं। काम्या ने शिम्पी की पेंटी और फ्रॉक उतार कर उसको नंगी कर दिया और खुद भी नंगी हो गई। अब दोनों 69 की पोजीशन में आ गई और एक दूसरी की बूर चूसने लगी। आग बुझने की बजाये और बढ़ रही थी… दोनों के होंठ फिर मिल गए और मम्मों से मम्में… बूर को आग तो भड़क गई थी। काम्या ने बेड की ड्रावर से एक डिलडो निकला और उसका वाइब्रेटर ऑन कर दिया। काम्या ने डिलडो का एक सिरा अपनी बूर में दूसरा सिरा शिम्पी की बूर में कर दिया। वाइब्रेटर ने अपना काम करना शुरू कर दिया था। दोनों डिलडो को अपनी बूर की गहराई तक ले गई और अपने हाथों को नीचे टिका कर उछल उछलकर चुदने का मजा लेने लगीं। 5-7 मिनट की उछाल कूद के बाद दोनों थक कर निढाल हो गईं, वाईब्रेटर बंद कीया। काम्या की बूर की आग अभी शांत नहीं हुई थी। पर शिम्पी तो सुबह ही चुदी थी। काम्या ने वाइब्रेटर को अपने हाथ से पकड़कर अपनी बूर में तेजी से अंदर बाहर करना शुरू कर दिया। दो मिनट बाद ही उसका भी काम हो गया। दोनों चिपट कर सो गईं। शाम को उठकर दोनों ने साथ ही शावर लिया… काम्या ने शिम्पी को रात को उसके पास ही सोने को कहा पर शिम्पी बोली- आज नहीं, फिर कभी… काम्या ने एक नया डिलडो शिम्पी को गिफ्ट कीया। शिम्पी 7 बजे तक घर आ गई। रात को शिम्पी ने पोर्न मूवी और डिलडो का खूब मजा लिया, अमन का फोन आया तो उसने कह दिया की वो पोर्न मूवी देख रही हैं और उसकी उंगलियाँ उसकी बूर में हैंं। शिम्पी ने अमन को बता दिया की दिन में उसने और काम्या ने पोर्न मूवी देखी थी… उसकी बात सुन अमन ने भी काम्या की बूर का ख्याल करके मुठ मारी और शिम्पी को बताया की उसने ऐसा कीया हैं। शिम्पी को बुरा नहीं लगा। शिम्पी थ्रीसम मूवी देख कर चुकी थी जिसमें एक आदमी अपनी बीवी और उसकी सहेली के साथ चुदाई करता हैं, तो उसे अमन की बात का बुरा नहीं लगा बल्की उसके मन में यह ख्याल आया की अगर वो, काम्या मिलकर अमन के साथ सेक्स करें तो… अगले दिन शिम्पी ने काम्या को फोन करके अपने यहाँ बुला लिया, काम्या !0 बजे तक आ गई, तब तक शिम्पी नहाई भी नहीं थी। काम्या के आते ही शिम्पी नहाने घुसी और जबरदस्ती काम्या के कपड़े उतरवाकर उसे भी अपने साथ घुसा लिया। शिम्पी के शावर से एक मोटी धार भी निकलती थी, शिम्पी ने अपने पैर फैला कर अपनी बूर पर उस मोटी धार को आने दिया, धार ने उसको मतवाला बना दिया था… ऐसा लग रहा था जैसे कोई मोटा लण्ड उसकी बूर में घुस रहा हो… उसका देखा देखी काम्या ने भी ऐसा ही कीया… दोनों खिलखिला कर मजा ले रहीं थीं। नहाकर बाहर निकल कर दोनों ने आज ब्यूटी पार्लर जाने का प्रोग्राम बनाया। पार्लर में पूरी दोपहर लगाकर उन्होंने फुल बॉडी वैक्सिंग और जाने क्या क्या करवाया… लब्बो लबाब ये की पार्लर में दोनों चिकनी और चमकीली होकर निकली। शिम्पी ने काम्या को रात को अपने घर रुकने को मना लिया क्योंकी आज काम्या का पति भी एक दिन के लिए दिल्ली गया था। रात को डिनर करके दोनों पोर्न मूवी चला कर बैठ गईं। उन दोनों ने कपड़े न के बराबर पहने थे और वो भी जल्दी ही उतर गए। दोनों नंगी होकर चिपट कर मूवी देख रहीं थीं। तभी काम्या के फोन पर अमन का फोन आया… काम्या ने शिम्पी को बताया नहीं था की दिन में भी दो-तीन व्हाट्सऐप मेसेज अमन के आये थे जिनका जवाब काम्या ने भी दे दिया था। अमन दोबारा फ़्लर्ट करने की कोशिश में था और अब काम्या को भी मजा आ रहा था। फोन देख कर काम्या ने शिम्पी को कुछ नहीं बताया और अनिल का फोन हैं, कह कर वाश रूम में जाकर बात करने लगी। अमन काम्या से ज्यादा ही खुलने की कोशिश कर रहा था और आज तो काम्या ने भी उसे छूट दे दी थी… नतीजन जब अमन ने फोन रखा तो दोनों ने कीस कर के फोन रखा। काम्या वापस आकर सीधे शिम्पी की बूर में घुस गई उसने अपनी जीभ से शिम्पी की बूर को चुभलाना शुरू कीया। शिम्पी बोली- आज तो अनिल ने तेरी बूर में आग लगा कर भेजा हैं। शिम्पी ने डिलडो निकाल लिया और काम्या की बूर में तेजी से अंदर बाहर करने लगी। डिलडो से दोनों ने अपनी अपनी आग बुझाई और फिर चिपट कर सो गईं। रात को 2 बजे अमन का फिर फोन आया जिसे काम्या के काट दिया और अपना फोन बंद कर दिया। सुबह काम्या अपने घर आ गई। दोपहर तक अमन भी आ गया था। ऑफिस जाते समय अमन ने उसको एक गिफ्ट दिया जिसमें वो उसके लिए एक सूट लाया था… साथ में प्यार का इजहार एक गुलाब भी था। जाते जाते काम्या ने उसे एक फ्लाइंग कीस भी दिया,, इससे ज्यादा संभव नहीं था क्योंकी दोनों बाहर मिले थे। दिन में अमन ने दो बार फिर फोन पर काम्या से बात करीं। रात को सेक्स के दौरान शिम्पी ने काम्या का जिक्र कर दिया तो अमन ने भी खुले दिल से कह दिया की अगर उसे मौका मिल जाए तो वो शिम्पी के साथ साथ काम्या को भी चोद देगा। शिम्पी ने मजे मजे में कह तो दिया पर उसकी हिम्मत नहीं पड़ रही थी अमन को काम्या के हाथों सौंपने की! उसे मालूम था की काम्या तो प्यासी हैं और उससे ज्यादा सेक्सी हैं। कहीं अमन को उसने उससे छीन लिया तो? पर होगा तो वही जो कुदरत ने रचा होगा! अब काम्या और अमन की खूब चैटिंग होने लगी जो शिम्पी के सोने के बाद भी जारी रहती क्योंकी काम्या का पति तो एक पेग लगा कर सो जाता था और शिम्पी भी घोड़े बेच कर सोती थी। काम्या और अमन की बातें ज्यादा ही सेक्सी होने लगी और जल्दी ही वे बूर और लण्ड की भाषा पर आ गए। काम्या अमन को उसे चोदने को उकसाती तो अमन उसे अपने मोटे और लम्बे लौंडे के सपने दिखाकर उकसाता। अमन काम्या के मम्मों की खूब तारीफ करता। अमन को मम्मों का बहुत शौक था। उसे मोटे और गोरे मम्मे हमेशा ही भाते थे… वो काम्या से बार बार मम्मों की फोटो दिखाने की जिद करता, और काम्या नकली गुस्सा होकर फोन काट देती। फिर कुछ देर बाद दोनों चैटिंग पर चिपट जाते… एक दिन काम्या ने अपने मम्मों का फोटो भेज ही दिया पर ब्रा पहने हुए। अमन तो जैसे ख़ुशी से पागल हो गया। काम्या को केवल सेक्स की बात सूझती थीं जबकी अमन दोस्ती और प्यार की बात भी करता था। अमन को काम्या की परवाह भी थी और वो उसका ख्याल भी रखता था। वो चैटिंग में कभी कोई भद्दी बात नहीं कहता था और कभी भी उसने शिम्पी की बुराई नहीं की। हालाँकी कुछ दिनों से शिम्पी का रुझान सेक्स में कम हो गया था अब उनके बीच रोज सेक्स नहीं होता था और इस बात की शिकायत अमन काम्या से कर देता था। काम्या क्या कहती… वो तो सेक्स की भूखी थी। उसकी रात तो अपनी उँगलियों और डिलडो से बूर की मालिश से ही निकलती थी। काम्या ने अमन को अपनी एक दो फोटो जिसमें वो स्विम सूट में थी भेजी… पर अमन चाहता था की वो उसे अपना शरीर दिखा दे… हालाँकी अमन जिद जरुर करता था फोटो की पर वो काम्या के मान सम्मान के प्रति पूरा सजग था, वो नहीं चाहता था की काम्या कभी भी परेशानी में पड़े। काम्या अमन को एक बार कहीं होटल में एक रात बिताने को कह रही थी… यह अमन के लिए संभव नहीं था। फिर उसने एक तरकीब निकली, एक दिन वो शिम्पी से यह कह कर निकला की आज वो ऑफिस नहीं जायेगा, उसे फील्ड में काम हैं… और वो अपनी कार नहीं ले जा रहा हैं, कीसी और के साथ जायेगा। वो टैक्सी लेकर सीधा काम्या के घर गया,, उधर काम्या ने शिम्पी को कह दिया की आज वो अनिल के साथ जालंधर जा रही हैं इसलिए आज नहीं मिलेगी और प्लीज आज उसे वो फोन भी न करे! अमन के घर पहुंचते ही काम्या ने उसे अंदर कीया और एक बार बाहर घूम आई सिर्फ यह देखने के लिए की कीसी ने देखा तो नहीं हैं अमन को अंदर आते हुए… निश्चिन्त होकर वो अंदर आई और जैसे ही उसने दरवाजा बंद कीया, अमन ने उसे चिपटा लिया अपने से… काम्या भी बेल की तरह चिपट गई अमन से… दोनों के होंठ मिल गए… काम्या को लगा की उसकी कब से अनबुझी प्यार आज बुझ जाएगी। वो अमन के होंठों को चूसने लगी, कभी ऊपर वाले होंठ को कभी नीचे वाले को! अमन ने तो अपना एक हाथ काम्या के मम्मों पर रख ही दिया था। अमन ने अपना हाथ नीचे करके उसके टॉप के अंदर कर दिया और काम्या की पीठ सहलाने लगा। वो उसकी ब्रा तक पहुंचना चाह रहा था। काम्या भी उसके लण्ड को पकड़ने के लिए बेताब थी… तभी अमन ने काम्या को गोदी में उठा लिया और काम्या उसकी गर्दन में बाहें डाल कर लिपट गई, दोनों के होंठ अब फिर मिल गए थे। अमन काम्या को लेकर बेडरूम की ओर चल दिया और धीरे से उसने काम्या को बेड पर लिटा दिया और खुद बेड पर बैठ कर अपनी जीभ से काम्या की नंगी खूबसूरत टांगों को जाँघों तक चूमने लगा। काम्या अब कसमसा रही थी, वो अमन के बाल खींच कर उसे अपनी ओर लाना चाह रही थी। साथ ही उसने अमन की सुविधा के लिए अपनी टांगें चौड़ा दी थीं। अमन ने उसकी पेंटी को एक ओर से उठाया और अपनी जीभ काम्या की गुलाबी फांकों के बीच में कर दी। काम्या की बूर गुलाबी और चिकनी थी और यह तो उसने अमन को चेट पर भी कहा था की वो हमेशा अपनी बूर चिकनी रखती हैं। अमन ने अहिस्ता से उसकी पेंटी उतार दी जिसमें काम्या ने भी पूरा सहयोग दिया। अब काम्या की गुलाबी बूर पूरी अमन के सामने थी, अमन ने उसकी टाँगें चौड़ाई और अपनी पूरी जीभ काम्या की बूर जो पूरी गीली हो चुकी थी के अंदर कर दी। काम्या कसमसाने लगी, उसकी आग और भड़क गई थी, वो झटके से उठी और अमन के ऊपर टूट पड़ी। वो उसके कपड़े उतार रही थी। अमन को भी जल्दी करनी पड़ी वर्ना काम्या तो उसके कपड़े फाड़ ही डालती। कुछ ही देर में दोनों नंगे थे और ऐसे चिपटे पड़े थे जैसे फेविकोल का अटूट जोड़… अमन ने काम्या को नीचे लिटाकर अपनी जीभ उसके मुंह में दे दी थी। काम्या भी अपनी जीभ से उसकी जीभ को लड़ा रही थी और कभी कभी लोलीपॉप की तरह चूस रही थी। अमन काम्या के मम्मे दबा दबा कर लाल कर रहा था… अब उसने एक मम्मे को अपने मुंह में ले लिया था। काम्या ने अपने दोनों हाथों से अपने मम्मे दबाये हुए थे, वो चाह रही थी की अमन एक ही बार में उसके दोनों निप्पल मुंह में ले। अब इतनी बड़े बड़े मम्मे… बेचारा अमन एक बार में कैसे करता… कुछ अमन ने दबाये कुछ काम्या ने दबाये तो पूरे तो नहीं पर दोनों निप्पल जरूर अमन ने अपने मुंह में ले लिए और लगा चूसने! काम्या को बड़ा मजा आ रहा था। अब काम्या ने अपना हाथ नीचे कीया और टटोल कर फनफनाते हुए लण्ड को अपनी बूर के मुंह पर रख दिया। अब ससुराल पहुंचकर दूल्हे राजा को अंदर जाने से कौन रोकता। अमन का लण्ड तेजी से काम्या की बूर को फाड़ता रगड़ता अंदर दाखिल हुआ… काम्या की चीख निकल गई,, एक तो उसकी बूर चुदाई नहीं होने से चौड़ी नहीं हुई थी और अमन का हमला अचानक हुआ था। खैर एक मिनट के दर्द के बाद अब काम्या को भी बूर चुदाई का मजा आने लगा, वो भी उछल उछल कर अमन का साथ देने लगी। तभी काम्या ने दम लगाकर अमन को नीचे कीया और चढ़ गई उसके ऊपर… लण्ड अभी भी बूर में ही था पर अब चुदाई बूर कर रही थी न की लण्ड! अमन ने काम्या के मम्मे पकड़े हुए थे, काम्या के मम्मे और बूरड़ लाल हो गए थे। अब काम्या कसमसा कर बड़बड़ा रही थी_ अमन आज मेरी बूर की प्यास बुझा दो। फाड़ दो आज मेरी… उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरा फकींग बूरिया तो कुछ करता नहीं… आज तुम ही मुझे पूरे मजे दे दो… मै तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ… अमन को होश आया की ये काम्या क्या चाहती हैं… उसने झटके से काम्या को अलग कीया और सारा माल उसके मम्मों पर गिरा दिया। काम्या बहुत नाराज हुई- ये तुमने क्या कीया… तुम मेरी बूर की गोद भर देते… मै तो तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ… यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैंं! अमन अब होश में आ चुका था, वो काम्या से प्यार करता था, वो कीसी पागलपन में आकर उसकी जिन्दगी से खेलना नहीं चाहता था। उसने काम्या के दोनों गालों को बड़े प्यार से अपने हाथों में लिया और उसके थरथराते होंठों को चूम कर कहा- माँ तो तुमको अनिल के बच्चे की ही बनना चाहिए। अगर काम्या अमन के बच्चे की माँ बनी और कल को कोई बात हो गई तो उस बच्चे का भविष्य खराब हो जायेगा… अमन ने काम्या को इतनी प्यार से समझाया तो काम्या फफक कर रो पड़ी। वो अनिल से बहुत नाराज थी, वो गुस्से में उसे फकींग बूरिया बोलती थी। अमन समझ गया की इस समय तो काम्या की सेक्स की प्यास बुझनी जरूरी हैं, बाकी बात तो बाद की हैं। काम्या ने नीचे झुककर अमन का लण्ड अपने मुंह में ले लिया और जोर जोर से उसे चूसने लगी। अमन का लण्ड दोबारा खड़ा हो खुका था। अमन ने फिर एक बार काम्या पर चढ़ाई की तयारी की, उसने काम्या को नीचे लिटाया और बोला- आज तो तेरी बूर फाड़ कर ही रहूँगा… काम्या बोली- हाँ फाड़ दे, वर्ना मै तेरा लण्ड खा जाऊंगी। अमन ने काम्या की बूर में घुसेड़ दिया अपना मूसल… अब दोनों ओर से घमासान छिड़ गया… काम्या ने अमन को कस के पकड़ लिया था। घमासान चुदाई के बाद अमन का फव्वारा छूटने को था तो उसने बाहर आना चाहा पर काम्या की पकड़ इतनी जबरदस्त थी की वो बाहर नहीं आ पाया और काम्या की बूर उसके माल से भर गई। अमन भौंचक्का रह गया की काम्या ने यह क्या करवा डाला! पर काम्या हंसती हुई बोली- घबराओ नहीं, मै टेबलेट ले लूंगी… बस तुम मेरी चुदाई रेगुलर करते रहना… बाद में चाय पीते समय अमन ने काम्या को बताया- शिम्पी तो तुम्हारे साथ थ्रीसम चाहती हैं… काम्या बोली- मजा आ जायेगा… फिर तो हम बेरोकटोक कभी भी सेक्स कर सकते हैंं! पर अमन इससे सहमत नहीं था, वो बोला- अभी नहीं, अभी और वक़्त दो मुझे सोचने का… तुम्हारे साथ मुझे अच्छा लगता हैं। पर शिम्पी भी इसमें इन्वोल्व हो गई तो वो तुम पर और मुझ पर हमेशा शक करेगी। काम्या को अमन की बात ठीक लगी। दोनों में यह तय हुआ की इसका कोई जिक्र शिम्पी से नहीं होगा, पर काम्या की बूर की चुदाई की भूख और बढ़ गई थी, वो अमन से यह वायदा चाहती थी अमन हर दूसरे तीसरे दिन आएगा। अब ये अमन के लिए संभव नहीं था। अब दोनों के बीच लगातार फोन पर बात होती थीं। काम्या की जिद बढ़ती जा रही थी… और उसे मौका मिल ही गया। अनिल का दो दिन का प्रोग्राम दिल्ली का बन गया… काम्या ने शिम्पी को बोल दिया की वो भी अनिल के साथ जा रही हैं। और उधर अमन ने भी शिम्पी को बोला- मै दो दिन के लिए ऑफिस के काम से डलहौजी जा रहा हूँ। शिम्पी ने भी साथ चलने की जिद की तो अमन ने कह दिया की एक स्टाफ और उसके साथ जायेगा। तय प्रोग्राम के अनुसार काम्या शहर के बाहर अमन को मिली और दोनों डलहौजी के लिए निकल लिए। काम्या ने स्कर्ट टॉप पहना था, उसने नीचे कुछ नहीं पहना था। रास्ते भर वो अमन का लण्ड चूसती गई और मौका देखकर अमन कभी उसकी बूर में उंगली कर देता कभी मम्मे दबा देता। डलहौजी पहुंचकर एक रिसोर्ट में उन्होंने कमरा लिया। रिसोर्ट में अमन ने बुकींग पति पत्नी की तरह ही कराई और काम्या लग भी बिलकुल उसकी बीवी ही रही थी… वो ऐसे ही चिपट कर चल रही थी जैसे हनीमून पर आये हों। कमरे में पहुंचते ही दोनों के कपड़े उतर गये और दोनों खिड़की के पास चिपट कर लेट गए। वहां से दूर तक बर्फ से लदी हिमालय की चोटियाँ नजर आ रही थीं, मौसम रोमांटिक था, काम्या नीचे घुस कर उसका लण्ड अपने मुंह में ले चुकी थी। अब दो दिन वहां सिर्फ ‘आह उह और जोर से… फाड़ दो… फुच फुच…’ ये ही आवाज सुनाई देती रहीं… कपड़े पहनने का मौका तो केवल नाश्ते या खाने के लिए बाहर जाने पर ही पड़ता था। इन दो दिनों में सेक्स कीतनी बार हुआ अगर ये गिना जाता तो गिनीज बुक में रिकॉर्ड दर्ज हो जाता… काम्या के मम्मे और पिछवाड़ा तो शायद हमेशा के लिए लाल हो गया था। अमन ने उसके मम्मों की इतनी चुसाई की थी की काम्या का ब्रा का नंबर बदलता तय था। उधर अमन को इन दो दिनों यह डर रहा की कहीं काम्या सच में ही उसका लण्ड न खा ले… वो जितनी बेदर्दी से उसका लण्ड निचोड़ती थी की ऐसा तो गन्ने के जूस की मशीन वाला नहीं करता। पर अब अमन ने काम्या को समझाया की थोड़ा उसे कंट्रोल करना पड़ेगा अपने ऊपर… वरना कहीं पकड़े गए तो दिक्कत हो जाएगी। पर काम्या तो दीवानी हो गई थी अमन की… डलहौजी से राजपुर का रास्ता काम्या ने अमन के लण्ड को चूस चूसकर ही पूरा कीया। अब काम्या के सामने समस्या यह थी की उसने जानबूझ कर प्रेगनेंसी के लिए कोई टेबलेट नहीं ली थी और इन दो दोनों में इतना सेक्स हुआ हैं उससे उसका प्रेगनेंट होना तय था। अब वो क्या करे! क्योंकी अनिल ने तो उससे सेक्स पिछले महीने से कीया नहीं था। यानि अब एक दो दिनों में उसे अनिल से सेक्स करना पड़ेगा, पर उस फकींग चुतिया का वो क्या करे! खैर काम्या ने आज रात की तैयारी करी और रात को एक सेक्सी ड्रेस पहन कर अनिल के सामने आई। अनिल उसे देख कर मुस्कुराया पर उसने अपना पेग पीना जारी रखा। काम्या उसकी गोदी में बैठ गई और अपने हाथों से उसे पिलाने लगी। पेग ख़त्म होते ही उसने एक पेग और बना दिया। अनिल ने मना भी कीया तो जबरदस्ती दो पेग और पिला दिया। अनिल टुन्न हो चुका था, अब काम्या ने अनिल को भी नंगा कीया और खुद भी नंगी होकर उससे चिपट कर लेट गई… उसने अपने हाथों से अनिल का लण्ड हिला हिला कर खड़ा कीया और उसका वीर्य निकाल दिया और पास पड़ी अपनी पेंटी से पोंछ दिया और वहीं रख दिया और सो गई। सुबह जब अनिल उठा तो अपने को और पास सोती काम्या को नंगी देखा, पूरे कमरे में उनके पहने हुए कपड़े फ़ैले थे, ऐसा लग रहा था की उनके बीच जबरदस्त सेक्स हुआ हो! अनिल ने काम्या की पेंटी उठाकर देखी तो उसे एहसास हुआ की उससे कुछ पौंछा गया हैं जिससे उस पेंटी में कड़कपन हैं। अनिल ने अपने लण्ड के पास की बेड शीट को देखा तो उस पर भी वीर्य के निशाँ थे। उसने समझा की रात में उसने शराब के नशे में काम्या की जमकर चुदाई की हैं। तभी काम्या ने आँख खोलकर कहा- अबे ओए मेरे फकींग बूरिये… रात तो मेरे मम्मे चूस चूस कर लाल कर दिये और देखना दांतों के निशाँ भी डाल दिए… और चुदाई भी इतनी करी… मै बार बार कहती रही की कंडोम चढ़ा लो पर तुम माने नहीं और चोद दिया दबा कर… अब कोई गड़बड़ हो गई तो तुम समझना! अनिल ने काम्या की बहुत खुशामद करी की तुम टेबलेट ले लो! तो काम्या बोली- अब कोई टेबलेट नहीं लूंगी, बस हाँ अब हफ्ते में दो चार दिन चुदाई अच्छे से कर देना … ताकी आने वाली औलाद चुदक्कड़ बने… अब काम्या सेफ थी… उसकी प्रेगनेंसी पर कोई शक नहीं था। हफ्ते में दो तीन रात अनिल का वो बलात्कार कर के अपनी बूर की खुजली मिटा लेती थी… एक दो दिन अमन आकर उसको रगड़ देता था और एक दो दिन तो वो और शिम्पी डिलडो से मौज ले ही लेती थीं। बस अब तो काम्या को यह तय करना होता था की आज बूर में कौन जायेगा

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां