loading...

चुत चोदे बिना रहा नही जाता है

चुत चोदे बिना रहा नही जाता है

loading...

आज मै आपको अपनी पहली इंडियन सेक्स स्टोरी बताने जा रहा हूँ. ये कहानी मेरी आपबीती हैं जो कि 5 महीने पहले मेरे साथ घटित हुई. पहले मै आपको अपने बारे में बता दूँ, मेरी उम्र 22 साल हैं और मै हरियाणा में रहकर बी.ए. कर रहा हूँ. मेरी हाईट 5.7 हैं. मेरा लण्ड 8 इंच का हैं जो किसी कॉलगर्ल कि भी चीखें निकाल सकता हैं. मुझे एक्सरसाइज करने का शौक हैं,

जिसकि वजह से मेरा शरीर काफी हट्टा-कट्टा हैं. बहुत सी लड़कियाँ कॉलेज में मुझ पर मरती हैंं लेकिन हरियाणा कि लड़कियां भाव बहुत ज्यादा खाती हैंं इसलिए मै कॉलेज में लड़कियों को ज्यादा नहीं देखता. वैसे भी कॉलेज कि लड़कियां बहुत स्लिम सी होती हैंं और मुझे स्लिम लड़कियां ज्यादा पसंद नहीं हैंं. मुझे यहाँ कि आटियां बहुत पसंद हैंं, उनकि गदराई सी जवानी देख कर मेरे भी बदन में करंट दौड़ जाता हैं. ये कहानी तब कि हैं, जब मैने कॉलेज जाना शुरू किया था. तब मै शाम को एक्सरसाइज करने यूनिवर्सिटी के ग्राउंड में जाता था. एक दिन मै यूनिवर्सिटी गया हुआ था तो वहां पे रात को दोस्त के साथ रुकने का प्रोग्राम था, पर बाद में मेरे दोस्त को कुछ काम आ गया और वो वहां से जल्दी में चला गया. अब मुझे भी रात को अपने घर आना पड़ा. पर हरियाणा शहर रात को जल्दी ही बंद हो जाता हैं तो वहाँ पे ऑटो रिक्शा भी नहीं था. वैसे भी मौसम अच्छा था तो मै रात को पैदल ही चल पड़ा. उस समय रात के 11 के करीब टाइम था. मै थोड़ी दूर ही गया था कि एक गाड़ी मेरे पास में आकर रुकि, गाड़ी में एक सुंदर सी औरत बैठी थी. उसने गाड़ी रोक कर पूछा- मे आई हेल्प यू? तो मैने भी बोल दिया- मुझे तो हेल्प नहीं चाहिए पर अगर आपको हेल्प चाहिए तो बताइए… मै मदद कर सकता हूँ. ये बातें करते हुए मै उसकि गाड़ी के पास चला गया. उसने मेरे लण्ड को हाथ लगा दिया और बोली- मुझे तो इसके साथ खेलना हैं. मैने कहा- मै ऐसा लड़का नहीं हूँ जैसा आप सोच रही हैंं. तो उसने कहा- चलो तो मै तुम्हें घर छोड़ देती हूँ. मै उसके साथ गाड़ी में बैठ गया. अभी हम थोड़ी दूर ही गए थे कि उसके हाथ मेरे लण्ड को छूने लगे. अब क्या बताऊं दोस्तों… उसके हाथ लगते ही मेरी सारी बॉडी में करंट आ गया और मेरा लण्ड राकेट कि तरह सीधा खड़ा हो गया. वो बोली- मन तो तुम्हारा भी कर रहा हैं… फिर तुम मना क्यों कर रहे हो? मैने कहा- मै बिना जाने पहचाने सेक्स नहीं कर सकता. बोली- तो उसमें क्या हैं, जान-पहचान कर लेते हैंं. हम दोनों ने अपना परिचय दिया. उसने अपना नाम हरमीत कौर बताया. अब हम चलती गाड़ी में ही एक-दूसरे को छूने लगे. उसने मेरा लण्ड पैंट से बाहर निकाल दिया. वो मेरा बड़ा लण्ड देखकर खुश हो गई. खुशी उसके चेहरे पे साफ़ झलक रही थी. मेरा लण्ड खड़ा होने कि वजह से काफी गरम हो गया था. अब मैने भी उस कि सलवार के अन्दर हाथ डालकर उसकि बूर में उंगली करनी शुरू कर दी. फिर थोड़ी देर में ही हम उसके घर पहुँच गए. उसका घर देखने में बहुत शानदार था. उसने बताया कि उसकि शादी को 3 साल हो गए हैंं लेकिन उसके पति बिजनेसमैन हैंं तो उनको बहुत बार बाहर जाना पड़ता हैं. वो महीने 3-4 दिन ही घर पर रुक पाते हैंं. वो अकेली घर पर बोर हो जाती हैं और वो खुद एक टीचर हैं. उसके फिगर के बारे में बताना तो मै भूल ही गया. उसका फिगर 34-30-36 का हैं. अब हम सीधा उसके बेडरूम में आ गए. अन्दर जाते ही हमने एक दूसरे को चूमना शुरू कर दिया. हमारी दोनों कि जीभ आपस में खेल रही थीं. हम दोनों एक दूसरे कि जीभों को काट रहे थे. हमने 10 मिनट तक किस किया. फिर उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए उसने मेरे कपड़े उतारते ही मेरा लण्ड मुंह में ले लिया. मुझे लण्ड चुसवाने में इतना मजा आ रहा था कि मै आपको बयां भी नहीं कर सकता. मैने इससे पहले कभी सेक्स नहीं किया था इसलिए मेरे लिंग कि खाल पीछे नहीं होती थी. वो मेरे लण्ड को ऊपर से ही चूस रही थी. इतने में वो अपने कपड़े भी निकाल चुकि थी. उसने मुझे बूर चाटने को बोला और कहा- आज मै पूरी तुम्हारी हूँ; तुम जो भी मेरे साथ करना चाहो कर सकते हो. पहले तो मेरा मन नहीं किया पर जब मैने उसकि बूर देखी तो मै खुद को रोक ही नहीं पाया. उसकि बूर बिल्कुल क्लीन शेव थी और गुलाबी रंग कि थी. मैने पांच मिनट तक उसकि बूर चाटी. इस दौरान वो काफी गरम हो चुकि थी और मेरा लण्ड लेने के लिए मचल रही थी. वो 69 में होकर मेरे लण्ड को चाटते हुए बोली- तेरा लौड़ा तो मेरे पति के लौड़े से भी बड़ा और मोटा हैं. मै एक हाथ कि दो उंगलियाँ उसकि बूर के अन्दर-बाहर कर रहा था और आज मै हरमीत कि गांड भी मारना चाहता था. मैने गांड में उंगली लगाई तो हरमीत भी यह समझ गई और बोली- साले, गांड में उंगली क्यों डाल रहा हैं. मैने हँसते हुए कहा- अभी तूने ही तो मुझे कहा था कि कैसे भी चोद ले… और अब कह रही हैं कि गांड में क्यों उंगली डाल रहा हैं. अरे मेरी जान मै तो गांड भी मारूंगा ना…! यह कहते हुए मैने उसकि कमर पकड़ कर उसको उल्टा किया और उसको एक कुतिया कि तरह बैठा दिया. मै हाथ बढ़ा कर जोर-जोर से उसके मम्मों को दबाने लगा. वो तो जैसे पागल ही हो गई और जोर-जोर ‘आआहह…’ कि आवाजें निकालने लगी. फिर मैने अपने लण्ड में बहुत सारा तेल लगाया और उसकि गांड के छेद में भी तेल कि शीशी खाली करके अपना लण्ड उसकि गांड के छेद पर घिसने लगा. तब हरमीत बोल उठी- सैम, ज़रा आराम से करना… अभी तक मै गांड से कुंवारी हूँ. मैने हँसते हुए उसके मम्मों को दबाते हुए कहा- मेरी रानी, पहली बार थोड़ा दर्द तो होगा ही… लेकिन फिर तुझे बहुत मजा आएगा. बस उससे यूँ ही बात करते-करते मैने अचानक से उसके पिछवाड़े में अपने लण्ड का टोपा डाल दिया. जैसे ही लण्ड अन्दर गया… वैसे ही उसकि जान बाहर आ गई, वो जोर से चिल्ला उठी- प्लीज़ सैम प्लीज़, लण्ड बाहर निकालो… बहुत दर्द हो रहा हैं. मैने उसकि कमर सख्ती से पकड़ रखी थी ताकि वो मेरा लण्ड निकाल ना पाए. मै इसी पोजीशन में कुछ देर खड़ा रहा और एक हाथ नीचे करके उसकि बूर को मसलने लगा… ताकि उसको थोड़ा आराम मिले और वो दर्द को भूल जाए. वही हुआ… थोड़ी देर में जब वो अपनी बूर में उंगली का मजा ले रही थी… तो मैने फिर एक जोर का धक्का दे मारा और लण्ड उसकि गांड कि गहराई में घुसा दिया. वो जोर से चीखी और मुझे गंदी-गंदी गालियाँ देने लगी, रोते हुए कहने लगी- साले मादरचोद… भेनचोद निकाल अपना लण्ड. मै कोई रंडी हूँ क्या… जो मेरी गांड में ऐसे लण्ड पेल रहा हैं… भोसड़ी के… अपना लौड़ा निकालता हैं या नहीं? यह सुन कर मुझे डर भी लगा क्योंकि मुझे तब तक ज्यादा एक्सपीरिएंस नहीं था और जोश भी आ गया और मै उसके बाल पकड़ कर जोर-जोर से उसकि गांड मारने लगा. उसकि गांड से खून निकलने लगा. फिर भी मै नहीं रुका… मै उसको चोदता गया. थोड़ी देर में जब उसको भी मजा आने लगा तो वो भी बड़े मजे से अपनी गांड मरवाने लगी. अब दस मिनट हो चुके थे और मैने उसको सीधा करके उसकि बूर में अपना लौड़ा डाल कर उसकि गुलाबी बूर में लण्ड पेलने लगा. साथ ही उसके मुलायम-मुलायम मम्मों को भी दबाने लगा. क्या बोलूँ दोस्तो… क्या मस्त बूर थी साली कि… पूरी गुलाबी… मानो जैसे गुलाब के फूल कि पंखुड़ियाँ का रंग चुराया हो. अब मै उसके चूचे दबाते हुए उसको पूरी ताकत से धकापेल चोद रहा था. कुछ देर कि चुदाई के बाद मुझसे रहा नहीं जा रहा था… लण्ड झड़ने को हो गया था… वो भी झड़ चुकि थी. इसलिए मैने उसकि बूर से लण्ड निकाला और सीधा उसके मुँह में डाल कर उसके मुँह को चोदने लगा और अपना सारा माल उसके मुँह में डाल दिया. उसने बड़ी मस्ती से मेरे लण्ड के रस को गटक लिया. उस रात मैने चार बार उसकि चुत कि बेरहमी से चुदाई कि और सारी रात उसके साथ ही काटी. सुबह जाते वक़्त उसने मुझे 4000 रूपये दिए. उसके बाद कई बार मैने हरमीत को व उसकि सहेलियों को भी चोदा. आज मै हरमीत कि बदौलत एक अनुभवी कालबॉय बन चुका हूँ और ढेर सारी प्यासी लड़कियों व आंटियों को चोद कर खुश कर चुका हूँ.

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां