loading...

चूत की खूजली बरदास नही कर पाई 

Hindi sex story, chudai ki kahani, desi kahani, antarvasna, porn Story

​हेल्लो फ्रेंड्स मेरा नाम काजल है. मै अजमेर में रहती हूँ. मै अभी 19 साल की कच्ची कली हूँ. मेरे दूध बड़े बड़े हैं. मेरे घर में न्यू ईयर की पार्टी थी. उसी में आये हुए कुछ खाश मेहमान मेरी खूबसूरती को निहार रहे थे. मेरे खूबसूरत से 34 32 32 के बदन को घूरने वाले लड़को की भीड़ थी. सारे लड़के मेरी तरफ देखकर अपनी हवसी नजरों से मुझे देख रहे थे. मेरे को भी चुदने की इच्छा होने लगीं। लेकिन किसी अनजान लड़के से कैसे चुदवा सकती थी. मेरी चूxत में हलचल मची हुई थी. मैं चुदने को तड़पने लगी. लड़को के साथ साथ जवान मर्द भी घात लगाए मेरी तरफ देख रहे थे. मै उस दिन बहोत ही हॉट और सेक्सी लग रही थी. मेरे को देखकर मेरी सारी फ्रेंड जल रही थी. उनकी तरफ कोई घास ही नहीं डाल रहा था. मेरे उभरी हुई दोनों बूब्स पर ही सबकी नजर अटकी पड़ी थी. अचानक मेरी चूxत की किस्मत खुल गई. मेरे को पार्टी में पुराना फ्रेंड दिखा.
वो मुझे लाइक नहीं करता था. मै तो उसे देखते ही फ़िदा हो गयी. उसका नाम सोनू था. वो मेरे को 12th में मिला था. वो मेरे फ्रेंड का भाई था. मैंने उसे कई बार अपना बॉयफ्रेंड बनाने के लिए उसकी बहन से सिफारिश की. लेकिन वो मेरे को हर बार इग्नोर कर दिया करता था. आज जब वो मेरे को 3 साल बाद मिला तो वो मुझे देखकर दंग रह गया. मेरे को वो पहचान ही न सका. मेरे अंदर बहोत सारी चेंजिंग भी आ चुकी थी. मेरे दूध बड़े बड़े हो चुके थे. गोरे गोरे गालो को देखकर सोनू से भी रहा नहीं गया. हर लड़को की तरह वो भी मेरे को देखकर रियेक्ट करने लगा. उसको पता होता तो आज भी शायद वो मेरे को ऐसी नजरो से नहीं देखता जिसका मेरे को बहोत पहले से ही था. मैंने भी सोनू को लाइन देना शुरू किया. वो मेरी तरफ धीरे धीरे खिंचता आ रहा था. कुछ देर बाद वो भी मेरे बगल आकर बैठ गया.
सोनू: मेरे को तुम कुछ जानी पहचानी लग रही हो!!!

मै: हो सकता है मैं तुम्हारे बहोत क्लोज़ हूँ!! पहचानो मै कौन हूँ??

सोनू: मुझे याद नहीं आ रहा है

मैंने उसे अपने बारे में बताया. उसके तो पैरों तले जमीन खिसक गयी. वो मेरे को देखता ही रह गया. बार बार मेरे दूध को ताड़ रहा था. मुझे उसकी जरूरत समझ में आ रही थी. मै भी उस हैंडसम पर्सनालटी वाले बन्दे से चुदवाने को तड़प उठी. मेरे को उसके बॉडी की साइज़ देख कर अच्छा लगा . इस बार की फीलिंग चुदाई वाली थी. 
सोनू: ओ माई गॉड! तुम कितनी बदल गयी हो. लगता ही नहीं की तुम काजल हो!

मैंने भी थैंक यू! बोल के वहाँ से चलने का नाटक किया. उसने मेरा हाथ पकड़ कर बिठा लिया. पहली बार मेरे को उसने छुआ था. मेरे पूरे बदन में आग लग गई. खासकर के चूxत में और भी ज्यादा.

loading...

सोनू : इतने दिनों के बाद मिली हो. आज तो कुछ देर बैठ कर बाते कर लो
हम लोग पुरानी बातें करने लगे. वो बार बार मेरे हाथों को पकड़ रहा था. मुझे डर लग रहा था कि कही कोई देख ना ले. तो मैंने उसे वहाँ से चलकर टेन्ट के पीछे बात करने को कहा. वो मेरे साथ टेन्ट के पीछे बात कर रहा था. आज पहली बार किसी लड़के के साथ अकेले में बात कर रही थी. सब्जियों से तो काम चला चला कर बोर हो चुकी थी. अपनी चूxत में गाजर , बैगन, मुली डालकर बोर हो गयी थी. अब मुझे रियल का लंड चाहिए था. वो मुझसे प्यार जताने लगा. मै कुछ समझ नहीं पा रही थी. वो जो भी करता मै करने दे रही थी. बार बार मेरे हाथ को सहला कर मेरे को ख़ूब गर्म कर दिया.
सोनू ने बातो ही बातो में मेरे को किस किया। मैंने उसका कोई भी विरोध नहीं किया. वो भी समझ गया मै भी चाहती हूँ. उसने मेरे को कस के चिपका कर लव यू लव यू!! बोलने लगा. मैंने भी उसे लव यू टू!! बोल कर उसका प्रपोसल एक्सेप्ट कर लिया. इतना सुनते ही मेरे को उसने सीने में कस के भर लिया. मेरे दोनों दूध उसके सीने से चिपक गए. मेरे सॉफ्ट सॉफ्ट दूध को उसने महसूस किया. सोनू ने मेरे दोनों कानो पर अपना हाथ रख कर दबा लिया. उसके बाद वो अपने होंठ मेरे होंठ के करीब ले जाकर किस करने लगा. मेरे कलेजे को ठंडक पहुच रही थी. पूरे बदन में शोले भड़क रहे थे. सोनू ने मेरे को कुछ देर तक किस करने के बाद बूब्स को सहला कर उसकी तारीफ करनी शुरू कर दी.
सोनू: कितना सॉफ्ट दूध है तुम्हारा? बिलकुल मख्खन की तरह!

मैं बेकाबू होती जा रही थी. घर के बाहर पार्टी चल रही थी. अंदर सारे कमरे खाली पड़े थे. वो मेरे को अंदर ले गया. कमरे में घुसते ही दरवाजा अंदर से लॉक कर लिया. उसके बाद उसने मेरे को घूरने लगा. उसने मुझे सेक्स करने के लिए कहने लगा. मैं बहाने मारते हुए न न करने लगी. उसनें मुझे चिपका लिया। बस दूध को देखने के बहाने करने 
सोनू: काजल बस तुम एक बार मेरे को अपने दूध दिखा दो। मै और कुछ नहीं करूंगा

मैंने बहोत कहने पर अपना टी शर्ट निकाल दिया. वो मेरे दूध को ब्रा में ही देख रहा था. वो मेरे पीछे गले से नीचे पीठ पर किस करने लगा. उस पर किस करते ही मैं सिसकारी भरने लगी. सोनू मेरे को गले से लेकर पीठ पर बार बार किस कर रहा था. मेरे को अब रहा नहीं जा रहा था. मै भी अपना हाथ पीछे किये हुए उसे पकडे हुए थी. ब्रा के हुक को उसने खोल दिया. खुलते ही ब्रा की पट्टियां फ्री हो गयी. मेरे दूध भी अब फ्री होकर थोड़ा नीचे हो गए. पटट्टियो के निशान मेरे कंधे पर बने हुए थे. सोनू ने मेरे को घुमा कर अपनी तरफ मेरे दूध को कर लिया. मेरे को शर्म आ रही थीं. मैंने अपने दोनों हाथों से अपने बूब्स को ढक लिया. सोनू ने मेरे हाथों को हटाकर मेरे दूध के अच्छे से दर्शन किया. मेरे दूध पर भूरा निप्पल चार चांद लगा रहा था. उसने उंगलियों से निप्पल को पकड़ कर दबा दिया. मै चीख उठी. वो मेरे निप्पल को अपने मुह में लेकर बच्चे की तरह चूसने लगा. मै “……अई… अई…. अई….. अई….इसस्स्स्स्स्…… .उहह्ह्ह्ह… ..ओह्ह्ह्हह्ह….” की सिसकारी छोड़ने लगी. वो चुप.. चुप..करके मेरा दूध पी रहा था. खड़े खड़े ही वो ये सब कर रहा था.
मैं थक गयी और बिस्तर पर लेट गयी. सोनू मेरे ऊपर आकर फिर से मसल मसल कर पीने लगा. बीच बीच में दांतो से मेरे निप्पल को काट रहा था. निप्पल को काटते ही मै जोर से सिसक पडती थी. वो मुझे गर्म करता ही जा रहा था. अब मैंने भी उसे अपने बूब्स में दबा लिया. वो समझ गया मेरा भी चुदने का मूड बन रहा है. सोनू ने मेरे को जोश दिला दिला कर मदहोश कर दिया. सोनू ने अपना मुह मेरे चूxत जैसी नाभि पर लगा दीया. नाभि को बहोत अच्छे से पीने लगा. मेरे बदन पर हाथ फेर फेर कर मेरा बुरा हाल कर दिया. अब मैंने भी अपना कारनामा दिखाना शुरू किया. मैंने सोनू के कोट को उतारा उसके बाद एक एक करके सारे कपडे को निकाल दिया. वो अब मेरे सामने अपना लंड खड़ा किये खड़ा था. मैं उसके लंड को देखकर डर रही थी.
मै: ओह गॉड!! कितना बड़ा है तुम्हारा??

सोनू: बड़े से ही तो मजा आता है. तुम्हे इसका असली रूप देखना है तो तुम्हे चूसना होगा.

मेरे को उसका लंड छूने में अच्छा लगा. मैने उसके अंडरविअर को निकाल कर उसके गोरे गोरे लंड का दर्शन किया. उसके बाद मैंने उसे हाथो से आगे पीछे करके मुठ मारना शुरू किया. सोनू के लंड के गुलाबी रंग के टोपे को देखकर पार्टी की आइसक्रीम की याद आ गयी. मैंने सुपारे पर अपना जीभ लगाकर उसे चाटना शुरू किया. धीरे धीरे पूरे सुपारे को अपने मुह में रख कर चूसना शुरू किया. वो धक्का मार कर अपना आधा लंड मेरी मुह में घुसाकर चुसवाने लगा. मै भी लॉलीपॉप की तरह मजा ले ले कर चूस रही थी. दोनों गोलियों को हाथो से खींचकर दबा दबा कर मजा ले रही थी. सोनू ने कुछ देर तक मुझे चुसाने के बाद मुझे लिटा दिया. 
मेरे जीन्स के हुक को खोलकर पैंट को निकाल कर पैंटी में कर दिया. उसने मेरी पैंटी को भी निकाल दिया. अपने नाक से लगाकर जोर जोर से सूं…सूं… करके सूंघने लगा. मेरी चूxत की खुशबू उसे बहुत पसंद आयी. सोनू फिर से तारीफ़ करने लगा. उसने मेरे दोनों टांगो को खोलकर मेरी चूxत के छेद का दर्शन किया. मेरी रसीली चूxत का रस पीने के लिए अपना मुह मेरी चूxत पर लगा दिया. मेरे चूxत की उभरी हुई खाल को अपनी जीभ से पकड़ पकड़ कर खींच रहा था. चूxत के दाने को बहोत ही तेजी से खींचता था. मैं जोर से चीख पड़ती थी. उसने एक एक टुकड़े पर अपना मुह लगाकर चाटना शुरू किया. मै “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….” की आवाज निकाल रही थी. वो मेरे रसीली चूxत को चाटकर रसमलाई का आनंद ले रहा था. मेरे को बहोत ही अच्छा लग रहा था.
मेरा मन उसका सर ही अपनी चूxत में घुसाने को करने लगा. मै बहुत ही बेकरार हो गयी. सोनू ने अपनी आँखे उठाकर मेरी तरफ देखी. मेरे को देखकर वो समझ गया मै चुदने को तैयार हूँ. उसने मुझे कुतिया बनने को कहा. मै उस तरह से घुटनों को मोड़कर बैठ गयी. वो मेरी चूxत में बार बार अपना लंड लगाकर रगड़ने लगा. मेरे को बहोत ही खुजली होने लगी. फिर उसने जोर का धक्का मारा. सोनू के लंड ने मेरी चूxत को फाड़ डाला. मै जोर से “आआआअह्हह्हह…..ईईईईईईई….ओह्ह्ह्….अई. .अई..अई…..अई..मम्मी….” चिल्लाने लगी. उसने धीरे धीरे करके मेरी पूरी चूxत फाड़कर अपना पूरा लंड घुसा दिया. अब मेरे को बहोत तेज दर्द हो रहा था. सोनू अपना लंड धीरे धीरे से अंदर बाहर करके मेरी चुदाई कर रहा था. आज पहली बार मुझे लंड खाने को मिला था. उसके 6 इंच के लंड ने मेरी चूxत में धमाल मचा दिया. कुछ देर बाद मेरा दर्द खत्म हो गया.
दर्द से आराम मिलते ही वो जोर जोर से अपना लंड मेरी चूxत में पेलने लगा. मेरे को लगने लगा की आज तो मेरी चूxत का हलुआ बन जाएगा. सोनू झटके पर झटका लगाए जा रहा था. मेरी कमर को पकड़ कर हिला हिला कर कुतिया बनाये जल्दी जल्दी चोद रहा था. मेरी गांड पर बार बार मार कर कुत्ते की तरह हाँफते हुए चोद रहा था. मेरे को आज उसने छठी का दूध याद दिला दिया. इतने दर्द में भी चुदाई का बहुत आनंद मिल रहा था. मेरे को उसने दीवाल से सटा कर खड़ा करके चोदने लगा. मै बहुत ही मस्ती से कमर मटका मटका कर चुदवा रही थी. मै जोर जोर से “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” की आवाज के साथ चुदवा रही थी.
आज मेरी जिंदगी की सबसे हसींन रात लग रही थी. मेरे को उसने कई स्टाइल में चोदा. सोनू मेरे को बिस्तर पर लिटाकर एक टांग को उठाकर चोदने लगा. सट सट लंड अंदर बाहर करके जबरदस्त चुदाई कर रहा था. पूरा कमरा मेरी मधुर जोशीली आवाज से भरा हुआ था. मेरी चूxत में अब वो अपना लंड हचक हचक कर पेल रहा था. मुझे फिर से दर्द होने लगा. मै अपनी उंगलियों से चूxत को सहलाते हुए “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की चीख निकाल रही थी. अचानक उसने चोदने की स्पीड बढ़ा दी. इतनी तेज चुदाई ने मेरी माँ चोद दी.

वो भी अब झड़ने वाला था. अब मेरी चूxत से घच पच घच पच की आवाजे निकल रही थी. सोनू तो चुदाई की रफ़्तार को बढ़ाता ही जा रहा था. उसने जल्दी से खड़ा होकर सारा माल मेरे चेहरे पर गिरा दिया. मुझे बहोत अच्छा लग रहा था. चादर से मैंने अपने मुंह को पोंछा. सोनू बेहाल होकर बिस्तर पर लेट गया. कुछ देर बाद हमने कपड़ा पहना और फिर से पार्टी में आ गए. उसके बाद मैं उससे कई बार चुदी. कई बार उसने मेरी गांड चुदाई भी की.

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां