loading...

चोदीये मग़र प्यार से

चोदीये मग़र प्यार से

पुरुष को यदि कोई स्त्री आसानी से हासिल हो जाए तो वो जल्द ही उससे ऊब जाता हैं। जो स्त्री पुरुष को जितना ज्यादा तरसाती हैं पुरुष उसको हासिल करने के लिए उतना ही ज्यादा लालायित होता जाता हैं।

सुधा के साथ मेरे अधूरे संभोग ने उसे पाने की मेरी इच्छा को और बढ़ा दिया था। मै अगले ही दिन शाम को सुगंधा के छात्रावास पहुँचा। मैने उस तक संदेशा भिजवाया कि बहुत जरूरी काम हैं जल्द से जल्द वो बाहर आ जाए। वो बाहर निकली। उसने सलवार सूट पहन रखा था।

उसने पूछा, “क्या हुआ भैया, इतने दिनों तक मेरी कोई खोज खबर नहीं ली आपने और अचानक इतना जरूरी काम आ पड़ा कि दौड़े चले आए? कल सुबह आठ बजे से मेरी पहली कक्षा हैं, उसके लिए मेरा कुछ काम बाकी रह गया हैं, जो कहना हो जल्दी कहिए।”

मैने कहा, “तुमसे कुछ जरूरी बातें करनी हैंं जो यहाँ खड़े खड़े नहीं हो सकतीं। चलो मेरे साथ। मै कल एकदम सुबह सुबह तुम्हें वापस छोड़ जाऊँगा।”

वो बोली, “तो क्या मै रात भर आपके साथ रहूँगी।”

मैने कहा, “हाँ।”

वो मुस्कुराकर बोली, “तो मै अपने कपड़े ले लूँ और पुस्तक-पुस्तिका भी ले लूँ ताकि मै अपनी पढ़ाई कर सकूँ।”

मैने कहा, “हाँ ले लो।”

वो अपने कपड़े और अन्य सामान लेकर बाहर आई। हम कमरे पर आ गए। जैसे ही मैने दरवाजा अंदर से बंद किया उसने अपने हाथ में थमा सामान बिस्तर पर फेंका और पीछे से मुझसे लिपट गई।

मैने कहा, “यह क्या कर रही हो? तुम्हें तो पढ़ाई करनी हैं न? हम दोनों चचेरे हैंं तो क्या हुआ, हैंं तो बहन भाई ही न। अब तक हमारे बीच जो कुछ हुआ वो सब मेरी भूल थी। अब आगे से हम दोनों के बीच ऐसा कुछ भी नहीं होगा।”

उसने मुझे छोड़ दिया और अपनी कमर पर दोनों हाथ रखकर खड़ी हो गई और अजीब से नज़रों से मुझे देखने लगी, उसने कहा, “क्यों कोई और मिल गई हैं क्या?”

ये लड़कियाँ संभोग करने के बाद ज्यादा समझदार हो जाती हैंं क्या? मैने कहा, “हाँ।”

उसने पूछा, “कौन?”

मैने कहा, “वो पड़ोस में जो राधा रहती हैं ना वो।”

उसने कहा, “ये राधा कौन हैं? पहले तो आपने कभी उसका जिक्र नहीं किया।”

मैने कहा, “पहले कभी मौका नहीं लगा।”

उसने कहा, “तो अब मै क्या करूँ?”

मैने कहा, “तूम भी अपने लिए कोई पुरुष मित्र ढूँढ लो। हमारे बीच ये सब ठीक नहीं हैं।”

उसने कहा, “तो मुझे यहाँ क्यों लेकर आए?”

मैने कहा, “कुछ पूछना हैं तुमसे इसलिए।”

वो बोली, “क्या पूछना हैं?”

मैने कहा, “जब मैने पहली बार तुम्हारी योनि में अपना लिंग डाला था तो ज्यादा खून नहीं निकला था और दर्द भी तुम सह गई थी। लेकिन जब मैने राधा की योनि में लिंग घुसाने की कोशिश की तो ढेर सारा खून निकला और उसे इतना दर्द हुआ कि उसने घुसवाने से मना कर दिया। तुम तो जीव विज्ञान की छात्रा हो बताओ ऐसा क्यूँ हुआ।”

उसने कहा, “तो इसलिए मुझे लेकर आए हैंं आप। जाइये नहीं बताऊँगी।”

मैने कहा, “प्लीज सुगंधा बता दे न यार। प्लीज।”

वो बोली, “एक शर्त हैं।”

मैने कहा, “क्या?”

उसने कहा, “आज रात आपको मेरे साथ संभोग करना होगा।”

मैने कहा, “नहीं मै नहीं कर सकता।”

उसने कहा, “तो जाइए मै नहीं बताती।”

यह लड़की भी न। चलो झूठ मूठ का वादा कर देता हूँ बाद में तोड़ दूँगा तो यह क्या कर लेगी, मैने कहा, “अच्छा ठीक हैं। लेकिन सिर्फ़ आज की रात, उसके बाद कभी नहीं।”

वो खुश हो गई और उसने बताना शुरू किया, “हर लड़की की योनि के भीतर योनि का छेद ढँकने के लिए एक झिल्ली होती हैं जिसकी मोटाई, आकार एवं आकृति अलग अलग लड़कियों में अलग अलग होती हैं। मेरी योनि की झिल्ली पतली रही होगी और उसका छेद बड़ा रहा होगा जिससे मुझे दर्द कम हुआ और आपने आसानी से फाड़ दी। राधा की योनि की झिल्ली काफी मोटी होगी और उसका छेद भी छोटा सा होगा जिसकी वजह से आप उसे नहीं फाड़ पाए होंगे और मोटी झिल्ली में रक्त की नसें ज्यादा होने से खून भी खूब निकला होगा।”

मैने कहा, “तो अब मै क्या करूँ। कैसे फाड़ूँ इस झिल्ली को।”

वो बोली, “प्यार से फाड़ोगे तो हर झिल्ली फट जाएगी। पहले कोई पतली सी चीज क्रीम वगैरह लगा कर उसके भीतर डालो फिर और मोटी डालो फिर और मोटी। धीरे धीरे योनि की मांसपेशियाँ ढीली होती जाएँगी। आखिर बच्चा भी तो इसी छेद से निकलता हैं। यह ध्यान रहे कि यह काम रोज करते रहिएगा वरना मांसपेशियाँ फिर अपने पुराने आकार में आ जाएँगी। यह वैसे ही हैं जैसे कान में छेद करके अगर कुछ पहना दिया जाय तो छेद बना रहता हैं वरना भर जाता हैं। जैसे बच्चा निकलने के बाद योनि का छेद फिर अपने पुराने आकार में आ जाता हैं। इस तरह धीरे धीरे मगर लगातार छेद चौड़ा करते जाइए। अंत में तो आपका भीमकाय लिंग हैं ही।”

मैने कहा, “इसमें तो कई दिन लगेंगे।”

उसने कहा, “सब्र करना सीखिए। सब्र का फल मीठा होता हैं।”

मैने कहा, “एक बात और पूछनी हैं।”

उसने कहा, “क्या?”

मैने पूछा, “तुमने उस दिन संभोग के दौरान कहा था कि आज सुरक्षित समय हैं। यह सुरक्षित समय क्या होता हैं?”

उसने कहा, “माहवारी आने के पाँच दिन पहले और खत्म होने के दो दिन बाद तक का समय सुरक्षित होता हैं। इसके अलावा बाकी सारे दिनों में वीर्य योनि के भीतर डालने पर लड़की को गर्भ ठहर सकता हैं।”

loading...

मैने पूछा, “ऐसा क्यों होता हैं?”

वो बोली, “अब पूरी बात समझाने में तो मुझे सुबह हो जाएगी। यह समझ लीजिए कि यदि आप शादीशुदा होते तो पहले सात दिन और बाद के तीन दिन सुरक्षित होते हैंं। लेकिन आप शादीशुदा तो हैंं नहीं इसलिए बिल्कुल भी खतरा मत मोल लीजिएगा। पाँच दिन पहले के और दो दिन बाद के, बाकी के दिन बाहर डिस्चार्ज के।”

मुझे हँसी आ गई। यह तो वाकई पढ़ाकू लड़की हैं। या हो सकता हैं कि मेरे साथ संभोग के बाद इसने ये सब पढ़ा हो ताकि जान सके कि कब गर्भ ठहरने का खतरा हैं कब नहीं।

सुगंधा बाथरूम में गई। मै बिस्तर पर बैठकर सोचने लगा कि क्या बहाना करूँ ताकि इसके साथ संभोग न करना पड़े। वो बाहर निकली। उसके शरीर पर सिर्फ़ पैंटी और ब्रा थी। यह लाल वाली पैंटी तो मैने ही खरीदी थी। जानबूझ कर मैने दस में से तीन पैंटी छोटी छोटी खरीदी थी। खरीदते समय मुझे यह पता नहीं था कि मै सुधा से संभोग कर बैठूँगा और वो मुझे सुगंधा के साथ संभोग करने से मना कर देगी। सुगंधा ने पता नहीं कब जाकर लाल रंग की ब्रा भी खरीद ली थी।

क्या लग रही थी वो। उसका हल्का साँवला रंग बल्ब की सुनहली रोशनी में जगमगा रहा था। मेरे हृदय ने जोर लगा लगाकर मेरे लिंग में अतिरिक्त रक्त भेजना शुरू कर दिया। छोटी सी पैंटी जो आधी पारदर्शी थी उसमें से साफ दिख रहा था कि उसने अपनी योनि के बाल साफ कर लिए हैंं।

हे कामदेव, यह लड़की तो पूरी तैयारी के साथ आई हैं।

वो कमर पर हाथ रखकर थोड़ा सा तिरछा होकर खड़ी थी। मै अपनी आँखें बंद कर लेना चाहता था मगर पलकें मेरा साथ नहीं दे रही थीं। जब मै थोड़ी देर तक नहीं उठा तो वो रसोई के अंदर गई। बाहर आई तो उसके हाथ में शहद की शीशी थी। उसने अपनी ब्रा उतार दी। उसके मांसल उरोज जो आज और बड़े लग रहे थे, फड़फड़ा उठे। वो शीशी में से शहद निकालकर अपने चूचुकों पर लगाने लगी।

अब बात मेरे बर्दाश्त के बाहर थी। मै उठा और उसके पास गया। उसके एक चूचुक को मुँह में लेकर पागलों की तरह शहद चूसने लगा। वो आहें भरने लगी। सारा शहद चूसकर मैने दूसरे चूचुक को मुँह में लिया। उसका भी शहद चूसकर सुखा दिया। मैने शहद की शीशी उसके हाथ से लेकर वहीं जमीन पर रख दी। फिर मैने उसे गोद में उठाया और ले जाकर बिस्तर पर पटक दिया।

मेरा लिंग पूरी तरह तना हुआ था। मैने उसकी पैंटी एक झटके में उतार दी। उसकी चमकती हुई सफाचट योनि मेरे सामने थी, मैने उसकी योनि को मुँह में भरकर चूसना शुरू किया। मुझसे जितना हो सकता था मै उतनी तेजी से योनि चूस रहा था। फिर मैने योनि को थोड़ा सा फैलाकर उसके भीतर स्थित मटर के दाने को चूसना शुरू किया। वो मस्त होकर अपनी कमर उछालने लगी। अब सुगंधा पूरी तरह गर्म हो चुकी थी। मैने मौके का फायदा उठाने का निर्णय किया।

मै एक झटके से उसकी योनि छोड़कर उठा और शहद की शीशी उठाकर ले आया। मैने फटाफट अपने कपड़े उतारे और अपना लिंगमुंड निकाल कर उस पर शहद लगाया।

सुगंधा ने आश्चर्य से मेरी ओर देखा, उसने पूछा, “शहद लगाकर डालेंगे क्या।”

मैने कहा, “डालूँगा तो मगर तुम्हारी योनि में नहीं, तुम्हारे मुँह में।”

उसने जोर से मुँह बंद कर लिया और अपना सिर हिलाने लगी। मै उसके ऊपर इस तरह बैठ गया कि मेरा भीमकाय लिंग उसके मुँह तक पहुँचे। मैने एक हाथ से उसका चेहरा पकड़ा और दूसरे हाथ से उसके होंठों पर अपना लिंग रगड़ने लगा। शहद उसके होंठों पर लग चुका था। अब मैने एक हाथ से उसकी नाक बंद कर दी। उसने साँस लेने के लिए अपना मुँह खोला और मैने अपना लिंग उसके मुँह में डालकर उसकी नाक छोड़ दी। वो जोर जोर से साँस लेने लगी। साँस रुकने की वजह से कुछ पलों के लिए लिंग पर से उसका ध्यान हट गया था।

लिंग पर लगा शहद उसके मुँह में घुलने लगा। उसने अपना चेहरा हिलाकर लिंग निकालने की कोशिश की मगर मैने एक हाथ से उसका चेहरा कस कर पकड़ा हुआ था। कुछ क्षणों बाद उसने हालात से समझौता कर लिया। शहद उसके मुँह में लार के साथ मिलकर उसके गले में उतर रहा था। मीठा मीठा शहद उसे अच्छा लग रहा था।

मैने धीरे धीरे धक्के लगाना शुरू किया। वो अभी भी लिंग चूसने के मूड में नहीं थी। लेकिन अब मै बिना चुसवाए उसे छोड़ने वाला नहीं था। कुछ देर तक मैने धीरे धीरे लिंग मुंड अंदर बाहर किया फिर मैने अपनी गति बढ़ा दी। जब लगा कि मै अब सँभाल नहीं पाऊँगा और इसके मुँह में ही मेरा वीर्य गिर जाएगा तो मैने अपना लिंग बाहर निकाला।

वो बोली, “छिः बहुत गंदे हो गए हो आप।”

पर अब लिंग को छोड़कर मेरी बाकी इंद्रियों ने काम करना बंद कर दिया था। मै तुरंत उसके ऊपर आया और उसकी योनि पर लिंग रखकर एक जोरदार झटका मारा। मेरा लिंगमुंड उसकी योनि में उतर गया।

वो चीख पड़ी।

मैने पूछा, “क्या हुआ?”

वो बोली, “दर्द हो रहा हैं।”

मैने कहा, “क्यों। तुम्हारी योनि तो मै पहले ही फाड़ चुका हूँ।”

वो बोली, “इतनी जल्दी भूल गए मैने कहा था न कि यदि लगातार संभोग न किया जाय तो योनि अपनी पहली वाली अवस्था में आने लगती हैं ऊपर से आपका लिंग इतना मोटा हैं। हर हफ़्ते मेरे साथ संभोग करते रहिए तो मुझे दर्द नहीं होगा। और एक बात तो आप हमेशा के लिए गाँठ बाँध लीजिए आपके भीमकाय लिंग को देखते हुए बहुत काम आएगी। फाड़िए मगर प्यार से।”

कहकर उसने हथेलियों में अपना मुँह छिपा लिया।

बात तो वो सही कर रही थी मुझे अपने लिंग पर उसकी योनि का कसाव महसूस हो रहा था। मैने अपने आप को काबू में किया और धीरे धीरे धक्के लगाने लगा। मेरा लिंगमुंड उसकी योनि की गहराइयों में उतरने लगा। थोड़ी देर बाद मेरा पूरा लिंग उसकी योनि में समा गया।

अब मैने धक्कों की गति बढ़ा दी। तेजी से उसकी योनि में अपना लिंग अंदर बाहर करने लगा। उसकी सिसकारियाँ कमरे में गूँजने लगीं। वो अपने नितंब उठा उठाकर मेरा साथ देने लगी। मैने उसे कसकर अपनी बाहों में ले लिया और जोर जोर से धक्के मारने लगा। उसने भी मुझे कसकर चिपका लिया। एक बार फिर मेरे मुँह से गंदे गंदे शब्द निकलने लगे।

फिर मैने उसकी टाँगें अपने नितंबों के ऊपर चढ़ा लीं। अब उसके गर्भाशय तक मेरा भीमकाय लिंग पहुँच रहा था। मैने उसके कान में कहा, “सुगंधा मेरी जान योनि के अंदर वीर्य गिरा दूँ।”

वो बोली, “गिरा दीजिए। सुरक्षित समय हैं।”

मैने और कसकर उसे पकड़ लिया और पूछा, “सुगंधा मेरे बच्चे की माँ बनेगी।”

वो बोली, “हाँ बनूँगी। मेरी योनि में अपना सारा वीर्य डाल दो। मै तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूँ।”

उसके मुँह से ऐसे शब्द सुनकर मेरा जोश और बढ़ गया। मैने और जोर जोर से धक्के मारना चालू कर दिया। थोड़ी देर बाद मेरा वीर्य निकल निकलकर उसकी योनि में गिरने लगा। वो भी मुझसे कसकर चिपक गई। उसका बदन काँपने लगा। थोड़ी देर तक हम दोनों ऐसे ही लेटे लेटे अपनी साँसें व्यवस्थित करने की कोशिश करते रहे। यह कहानी आप काम वासना एप्प पर पढ़ रहे हैंं।

फिर मै उठा और बाथरूम गया। वापस आकर मैने अपने कपड़े पहने। सुगंधा ने भी यही किया।

अचानक उसने मुझसे पूछा, “आपकी यह राधा सुधा ही हैं न।”

मुझे आश्चर्य हुआ कि इसे कैसे पता चल गया, मैने कहा, “नहीं तो?”

वो बोली, “सोच लीजिए अगर सुधा हो तो मुझे उससे मिला लीजिए, मै उसे सब समझा दूँगी। फिर वो आपके लिंग से डरना छोड़ देगी। वरना आपकी मर्जी। मेरा क्या जाता हैं।”

मै थोड़ी देर तक सोचता रहा। बात तो इसकी सही हैं। एक लड़की ही दूसरी लड़की को संभोग के बारे में विस्तार से समझा सकती हैं। मै सुगंधा को लेकर नीचे गया। मकान मालिक अभी आए नहीं थे। मकान मालकिन और सुधा नीचे थे। मैने उन्हें नमस्ते किया और उनके पास बैठ गया।

उन्होंने सुधा को चाय बनाने के लिए भेजा तो सुगंधा ने कहा- मै भी मदद करती हूँ !

और वो भी भीतर चली गई। दोनों चाय बनाकर लाईं। हमने चाय पी। थोड़ी इधर उधर की बातें हुईं फिर मै और सुगंधा ऊपर आ गए।

ऊपर आकर सुगंधा ने कहा- अब आप जाइए और घूम घामकर तीन चार घंटे बाद आइएगा, मैने सुधा को बुलाया हैं, वो आएगी तो मै उसे सब समझा दूँगी।

हे कामदेव यह लड़की कितनी बेशर्म हो गई हैं। अभी एक साल पहले की ही बात हैं मै इसके सामने मुँह से गालियाँ निकालते हुए भी डरता था और अब ये मेरे लिए लड़की तैयार कर रही हैं।

“हे कामदेव, तुम जो न करवा दो।”

फिर मै अपने एक दोस्त के यहाँ जाने के लिए निकल पड़ा। रास्ते में मै सुधा के साथ संभोग के ख्याली पुलाव पका रहा था और आगे की योजना बना रहा था।

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां