loading...

बैठ कर मुठ मार रहा था तभी सिस्टर ने देख ली

बैठ कर मुठ मार रहा था तभी सिस्टर ने देख ली

loading...

हाय फ्रेंड्स मेरा नाम भोला है। देखनें में एक भोला टाइप का दिखता हूँ। मेरी उम्र 21 साल है। मेरे पास भी हर लड़के की तरह किसी लड़की के साथ सेक्स करने का बड़ा अरमान था।

लेकिन हर लड़की मेरे को भोला भाला समझकर अपनी बूर देने में हिचकिचा जाती थी। कोई भी लड़की मेरे को बूर देने के लिए तैयार ही नहीं थी। सारे लड़के सेक्सी सेक्सी बाते करके मेरा लण्ड खड़ा करा देते थे। उस समय मैं बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो जाता था। मेरी उत्तेजना धीरे धीरे बढ़ने लगी। शरीर से मै कुछ ज्यादा ही मोटा था। मेरा पेट काफी निकला हुआ था। मैंने मुठ मार मार कर अपनेको किसी तरह से कण्ट्रोल कर रहा था। एक दिन एक लड़की का हाथ मैंने पकड़ लिया। उसने मेरे को मोटा गैंडा कहकर चली गईं।मेरे को तब पता चला की मेरे मोटापे की वजह से कोई लड़की मेरे को अपनी बूर चाटने का मौका नहीं दे रही है। एक दिन मेरे पड़ोस में एक लड़की आयी। जिसका नाम दीपिका था। वो बहुत ही गजब की दिखती थी। देखने में ज्यादा सुन्दर तो नही थी। लेकिन उसका बॉडी फिगर बहुत ही लाजबाब था। मेरी बहन से उसकी दोस्ती हो गयी। वो मेरे घर आने जाने लगी। इसी बहाने मेरे को भी बात करने का मौका मिल जाता था। जिसकी वजह से मै उसे थोड़ा इम्प्रेस करने की कोशिश किया करता था। वो मेरे को कभी कभी हसी में छू लेती तो मेरा पूरा शरीर हिल उठता था। जैसे 440 बोल्ट का झटका लग गया हो। उसके बदन के स्पर्श से मेरे लण्ड खड़े हो जाते थे। फिर कुछ जल त्याग करने के बाद ही वो नीचे बैठते थे। इसी तरह से दिन गुजरते चले गए। लेकिन मैं अपने दिल के अरमान को दीपिका से कह नहीं पा रहा था। दीपिका की 34″ इंच की चूंचियो को देखकर मेरा रोम रोम रोमांटिक हो जाता था। उसका चक्कर कही और चल रहा था। ये बात मेरे को फ़ोन के जरिये पता चली। जब वो मेरे घर आती थी तो हमेशा फोन पर ही लगी रहती थी। मेरातो दिल ही टूट जाता था। एक दिन उसका फोन स्पीकर पर था। मेरे घर में मेरे अलावा मेरी बहन ही थी। वो बाहर कुछ लाने गयी थीं। दीपिका को एकपल के लिये लगा कोई नहीं है। काफी देर से फोन को कान में चिपकाए चिपकाए प्रोब्लम हो रही थी। तो उसने फोन को स्पीकर पर करके रख दिया।उसने उस दिन स्कर्ट पहना हुआ था। जब भी वो अपने टांग को उठाती तो चुपके से मै उसकी चिकनी टांगों को देख लेता था। मेरे को उसकी बूर को देखने की बड़ी बेकरारी हो रही थी। किसीलड़के से वो फ़ोन पर बात कर रही थी। जो दीपिका के साथ फ़ोन सेक्स करके उसे गर्म कर रहा था।“डार्लिंग! जब से तुम गई हो हाथ से काम चला रहा हूँ” वो फोन पर बोला“मै भी बहुत ज्यादा बेकरार हूँ चुदने को! कई साल हो गए लण्ड को खाये हुए!” दीपिका बोल रही थीऐसे ही गरमा गरम बाते करके दोनों गर्म हो गए। तभी उस लड़के को कोई काम याद आ गया। और वो किसी काम पर फ़ोन रखकर चला गया। उसके जाते ही दीपिका ने अपनी वीणा बजानी शुरू कर दी। अपनी स्कर्ट में हाथ डालकर ऊपर नीचे करना शुरू कर दिया। मतलब फिंगरिंग शुरू कर दी। दीपिका भी उस समय मेरी तरह ही हो गयी थी। फर्क इतना था कि मैं हिला हिला कर कामचला रहा था और वो घुसा घुसा कर…..मैंने सोचा क्यों न मौके का फायदा उठाया जाये। लोहा तो गर्म है मार दूं हथौड़ा… इतना सोचकर मै दीपिका के पास पहुचा। वो अपनी बूर में ऊँगली घुसाये हुए थी। उसने अपनी बूर से तुरन्त ही ऊँगली निकाल ली। अपनी चुदासी मुह लेकर मेरे से बात करने लगी।“तुम कब आये! मेरे को पता ही नहीं चल पाया” दीपिका ने कहा“तुम स्पीकर पर फ़ोन करके बात कर रही थी। मै तभी आया लेकिन सोचा बात कर रही हो तो कौन डिस्टर्ब करे” मैंने कहादीपिका मेरी बातों को सुनकर समझ गयी की मैने उसकी बातों को सुन लियाहै। वो बहुत ही डर गयी।“तुम्हारी बातो को मैंने सुना है। लेकिन किसी से कहूंगा नही!” मैंने कहाइतना सुनते ही दीपिका मेरे से चिपक गयी।“तुम अपनी स्कर्ट में काफी देर से कुछ कर रही थी” मैंने कहा“वो वहां..वहां.. के बाल बहुत बड़े बड़े ही गए थे तो खुजली हो रही थी” दीपिका ने हिचकिचाते हुए कहा“तो उसमें कौन सी बड़ी बात है। तुम अभी रेजर ले लो और साफ़ कर लो” मैंने कहादीपिका को रेजर उठा कर दे दिया। दीपिका बॉथरूम में जाकर अपनी बूर केबालो की सफाई की। मैंने दीपिका के आते ही उससे उसकी बूर चुदाई के बारे में कहने लगा“दीपिका तू भी मेरी तरह तड़प रही है। मैंने बैठे बैठे सब कुछ देखा है” मैंने कहा“लेकिन यहाँ और किसके नाम ये बूर करू” दीपिका ने कहाधीरे धीरे उसके पास बैठकर मैंने उसको चोदने की कोशिश में लगा रहा। मेरे को सफलता मिल ही गयी। दीपिका चुदने को राजी हो ही गयी। वो भी अपनी बुर को फड़वाने के लिए तैयार थी। मेरी बहन के आने का टाइम हो चुका था। काफी देर हो गया था उसे गए हुए। मैंने दीपिका को ऊपर के कमरे में ले जाकर दरवाजा बंद किया। मेरी बहन आये तो समझे की दीपिका चली गयी है। इसीलिए उसका स्लीपर वगैरह सब ऊपर उठा ले गया। दीपिका भीहसी ख़ुशी से मेरे साथ चल दी। मेरे ऊपर पहुचते ही दीपिका मेरे ऊपर चढ़लिया।“आज मेरे को जी भर के चोदो! मै बहुत दिनों से लण्ड की प्यासी हूँ” दीपिका ने कहा“मैंने तो अभी तक बूर रानी का दर्शन भी नहीं किया है” मैंने कहाउसके बाद दीपिका को कमरे में पड़े बिस्तर पर लिटा दिया। दीपिका पानी बिना मछली की तरह तङप रही थी। लेकिन उसके बदन को चूम कर मेरा मन गदगद हो गया। उसके पूरे बदन को चूमते हुए उसके गले को किस करते हुए होंठ पर होंठ चिपका दिया। फूले हुए रसीले होंठो को चूसने में मेरे को बहैत मजा आ रहा था। दीपिका भीएरा साथ दे रही थी। एक दूसरे की होंठ को बारी बारी पीकर हम दोनों तृप्त हो रहे थे। होंठो की प्यास तो बुझ गयी थी। लेकिन अब लण्ड की प्यास भड़क चुकी थी। मैने दीपिका के टॉप को निकाल दिया। अब वो सिर्फ ब्रा में हो गयी थी। उसके चूचे साँवले रंग का दिख रहा था।सफ़ेद रंग की ब्रा में वो काफी जबरदस्त लग रहा था। मेरे को उसे चूसनेकी बहुत ही बेचैनी होने लगी। एक पल में उसके चूचे से ब्रा को अलग किया। उसके बाद मैंने अपना मुह लगाकर उसके काले काले निप्पल को चूसने लगा। लेकिन मेरे लण्ड का मौसम बना हुआ था। दीपिका भी मेरा लण्ड देखने को व्याकुल हो रही थी। उसके दूध को काटते ही वो “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” की आवाज निकाल रही थी। मेरे मेरे को मेरी पैंट उतारने को बोली तो मैंने अपनी पैंट ऊतार दी। उस समय मेरा लण्ड मुरझाया हुआ था। फिर उसने मुझे अंडरवियर भी उतारने को कहा तो मैंने वो भी ऊतार दी। अब में दीपिका के सामने सिर्फ़ बनियान में खड़ा था।मेरा 5 इंच का मुरझाया हुआ लण्ड देखकर दीपिका के मुँह से निकला ओह गॉड कितना इतना मस्त लण्ड है तुम्हारा? फिर वो मेरे लण्ड को पकड़कर देखने लगी। उसके हाथ लगते ही मेरा लण्ड खड़ा होने लगा। थोड़ी ही देर में मेरा पूरा लण्ड 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा हो गया। मेरे को पूरा लण्ड सहलाते हुए वो मजे लेने लगी।“पहली बार मेरे को इतना मोटा लण्ड मिला है। इतने दिनों का फल मेरे को बहुत ही जबरदस्त मिला है” दीपिका बोलने लगी। फिर मैं बोला अब इसे शांत तो कर दो। तो लतिका मेरे पास आई और मेरे लण्ड को सहलाने लगी। मेरे लण्ड को चूसने लगीं। इतने में मेरा लण्ड सख्त होने लगा।““….ऊँ…ऊँ….ऊँ …मेरी बूर की रानी!!….चूसो और अच्छे से चूसो मेरे पप्पू को!!” की आवाज निकालते हुए और भी ज्यादा तेजी से उसे अपना लण्ड चुसाने लगा। उसके मुह में पूरा लण्ड चुसाने लगा। 5 मिनट में मेरे लण्ड ने अपना माल उगल दिया। जब दीपिका ने मेरा वीर्य देखा तो देखती ही रह गयी। मेरे लण्ड से माल छूटते ही मैं नार्मल हो गया। इतने में मेरी बहन भी आ गयी। मैंने झाँट से अपना तौलिया लपेटकर नीचे गया। अपनी बहन को दीपिका के घर जाने की झूठी खबर दे दी। मेरी बहन ने चाय बनाया और मै चाय को लेकर ऊपर आ गया। मैने दीपिका के साथ चुदाई का आनंद लेने के लिए फिर से ऊपर वाले कमरे में पहुँच गया।“मेरी जान लण्ड का मौसम बन गया हो तो फिर से अपना खेल स्टार्ट किया जाये” दीपिका ने कहामै चाय का आनंद लेते हुए उसकी बूर की तरफ देखने लगा।“दीपिका अपने दूध का दर्शन तो करा ही चुकी हो, अब अपनी बूर का भी दर्शन करा दो!” मैंने कहाइतना सुनते ही दीपिका ने दरवाजा बंद करके अपना स्कर्ट निकाल दिया। अब मेरे सामने वो सिर्फ पैंटी में थी। मैंने उसकी बूर को देखने के लिए जल्दी से चाय ख़त्म की। उसकी बूर को चाटने के लिए उसे बिस्तर पर लिटाया और पैंटी निकाल दी। बूर तो उसकी वैसी ही थी जैसे मैंने सोचा था। बहुत ही चिकनी बूर थी। मेरे को देखकर रहा नहीं जा रहा था। मैंनेतुरंत ही अपना मुह उसकी बूर पर रख दिया। वो तड़प सी उठी। मैने अपनी जीभ लगाकर उसकी बूर को चाटने में बहुत ही ज्यादा मजा ले रहा था। वो गर्म होकर गरमा गरम सिसकारियां निकालने लगी। वो जोर जोर से “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” की सिसकारी निकालने लगी। कुछ देर तक तो मैने उसकी बूर को चाटा लेकिन वोमेरे सर को पकड़कर और जोर और जोर से “… उंह हूँ.. .हूँ… मेरे बूर के देवता!! मोटे लण्ड के स्वामी!! अच्छे से चाटो मेरी रसीली बूर को!! हूँ…..ह मम अहह्ह्ह….अई…अई….” की आवाज के साथ अपनी बूर चटाने में मस्त थी। फिर मैंने उसे लेटा दिया और उसकी बूर को किस किया और फिर अपना लण्ड उसकी बूर के छेद पर लगाया। उसकी बूर में अपना लण्ड मै रगड़ रहा था। “आहहहहह!! अब नहीं रहा जा रहा है. जल्दी करो शांत कर दो मेरे बूर की आग को मेरे राजा!” दीपिका ने कहामैंने उसके बूब्स कसकर पकड़े और एक जोरदार धक्का लगाया तो दीपिका चिल्लाई। आआईईई म्म्म्म्म् आआआआ उधर मेरे लण्ड में बहुत तेज दर्द हुआ। फिर कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद मैंने दूसरा धक्का लगाया और मेरा पूरा का पूरा लण्ड दीपिका की बूर में चला गया। फिर मैंने उसे आराम से चोदना शुरू किया तो थोड़ी देर मे लतिका भी मस्त होने लगी औरबोलने लगी आआआह्ह्ह लण्ड के सरदार , मेरी जान चोदो अपनी लतिका को, बुझा दो मेरी प्यास! फिर मैं भी बोला कि हाँ जान ये लो फिर मैंने अपने धक्को की रफ़्तार बढ़ा दी और 10 मिनट के बाद जब मेरा निकलने वाला था तो मैंने और कसके धक्के लगाने शुरू कर दिया। उसकी बूर में अपना जड़ तक लण्ड घुसाकर चुदाई कर रहा था। मैने उसे बिस्तर पर झुकाया और जोर जोर से अपना लण्ड पेलना शुरू कर दिया। उसकी तो जान ही निकलने लगी। मै भी झड़ने वाला हो गया। जोर जोर से उसकी चुदाई करके मैंने एक बार फिर से उसकी “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की चीखें निकलवा रहा था। कुछ ही देर में मै झड़ने वाला हो गया। मैंने अपना लावे की तरह गरमा गरम माल उसकी बूर के अंदर ही गिरा दिया और मेरे साथ ही दीपिका भी झड़ गयी थी। फिर जब मैंने उसकी बूर से लण्ड बाहर निकाला तो देखा कि मेरे लण्ड की खाल हल्की सी कट गयी थी। जिससे मुझे दर्द हुआ था। फिर हम साथ में बाथरूम गये और एक दूसरे की सफाई की. फिररूम में रखे क्रीम को दीपिका ने मेरे लण्ड पर क्रीम लगाया। हम साथ मे चिपककर कुछ देर तक मजा लिया। उसके बाद वो अपने घर चली गयी। जब भी मौक़ा मिलता वो मेरा लण्ड खा लेती थी।

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां