loading...

भीख मांगने आई भिखारन का चूत चोद कर फ़ाड दिया

भीख मांगने आई भिखारन का चूत चोद कर फ़ाड दिया

हैंल्लो दोस्तों, में पंकज एक बार फिर से चाहने वालों कि सेवा में अपना एक और सेक्स अनुभव लेकर आया हूँ. दोस्तों यह मेरी तीसरी और अभी कुछ समय पहली कि घटना हैं, यह आज से करीब एक सप्ताह पहले मेरे साथ घटी और में आज इसको आपकि सेवा में लेकर हाजिर हुआ हूँ

और वैसे तो में भी आप सभी कि तरह बहुत सारी कहानियों के मज़े अब तक ले चुका हूँ और ऐसा करना और चुदाई करना अब मेरी एक आदत के साथ जरूरत भी बन चुकि हैं. ऐसा करने से मेरा मन खुश हो जाता हैं.

दोस्तों करीब एक सप्ताह पहले मेरे सारे घर वाले किसी मेरे करीबी रिश्तेदार कि शादी में गये हुए थे और में खुद जानबूझ कर उनके साथ नहीं गया. फिर में उस दिन अपने घर में बिल्कुल अकेला था और कुछ देर बाद अपने जरूरी कामों को खत्म करके के बाद मेरे मन में विचार आया और मैने मन ही मन में सोचा कि आज घर में अकेले रहने का फायदा उठाकर में एक ब्लू फिल्म लेकर आ जाता हूँ और में उसको अकेले में पूरा दिन देखकर हो सकता हैं कि चुदाई के कुछ नये अनुभव को हासिल करूं और मुझे उसको देखकर कुछ अलग करने को मिले और फिर में तुरंत बाजार जाकर एक सेक्सी फिल्म ले आया और उसके बाद में वो देखने लगा.

मुझे उस फिल्म को देखने में बड़ा मज़ा आ रहा था और में फिल्म को देखते हुए मन ही मन सोच रहा था कि कोई हो जिसके साथ में चुदाई करके अपने इस लण्ड कि प्यास को बुझा लूँ. अब मैने सोचा कि में पहले मुठ मार लूँ और फिर मैने सोचा कि क्या फायदा ऐसे समय खराब करने से मज़ा भी वैसा नहीं आने वाला और अपने वीर्य को बाहर निकालकर अपने शरीर को कमजोर करने से क्या फायदा? में अभी यह सभी बातें मन में सोच ही रहा था कि तभी अचानक से हमारा दरवाज़ा बजने लगा. फिर मैने तुरंत ही जाकर दरवाजा खोल दिया और फिर मैने देखा कि दरवाजे के बाहर एक बड़ी सुंदर सेक्सी करीब 28 साल कि औरत थी.

कुछ देर तक तो में उसको चकित होकर देखता ही रह और उसके सुंदर गोल बूब्स गोल सुंदर चेहरा और थोड़ा पीछे से देखा तो उसकि बड़ी आकार कि गांड को देखकर मेरे लण्ड में हरकत होने लगी थी. फिर अचानक से वो कहने लगी भगवान के नाम पर मुझे कुछ दे दो बाबा. अब उसके मुहं से वो शब्द सुनकर मेरे तो चेहरे का रंग ही उड़ गया क्योंकि मुझे बिल्कुल भी विश्वास नहीं था कि वो एक भीख मांगने वाली हैं. उसको देखकर बिल्कुल भी ऐसा नहीं लगता था, लेकिन फिर मेरे दिल में विचार आया कि इससे बात करने पर हो सकता हैं कि मेरा कुछ काम बन जाए?

अब मैने उसको कहा कितुम अंदर आ जाओ, में अभी कमरे से पैसे लेकर आता हूँ मैने उसको यह कहा और में चला गया और फिर में अपने साथ 200 रुपय ले आया. अब मैने सबसे पहले उसको पांच रुपये दिये और वो लेकर बाहर जाने लगी और फिर मैने उसको रोकते हुए कहा कि एक मिनट ठहरो, अगर में तुम्हे इससे भी कुछ ज्यादा पैसे देना चाहता हूँ लेकिन तुम मेरे लिए क्या करोगी? तभी उसने कहा कि वो पैसे लेने के बाद आप जो कुछ भी मुझसे कहोगे में वो सब करने को तैयार हूँ. दोस्तों उसने मुझसे यह बात ज़रा सेक्सी अंदाज़ में कहीं जिसको देखकर में तुरंत समझ गया कि यह बड़ी चालू चीज हैं और यह दिखाने के लिए भीख मांगती हैं, हो सकता हैं कि यह पैसों के लिए हर किसी से अपनी चुदाई भी जरुर करवाती होगी और में उसका वो इशारा तुरंत समझ गया.

अब में भी उसके साथ उसी तरह से बोलने लगा कि क्यों तुम कितने पैसा लेना चाहती हो? उसने कहा कि 150 रूपये. अब मैने उसको कहा कि चलो अच्छा ठीक हैं और फिर मैने उसको कहा कि तुम अच्छी तरह करोगी तो में तुम्हे 200 रूपये दूंगा. दोस्तों मेरे मुहं से वो बात सुनकर वो खुश होकर बोली हाँ में सब अच्छे से करूंगी और अब में उसको अपने घर के अंदर ले आया और मैने सबसे पहले अपने कपड़े उतार लिए और उसके भी कपड़े मैने उतार दिए लेकिन उसने कोई भी विरोध नहीं किया.

फिर उसको अपने सामने पूरी नंगी करने के बाद जब मैने उसकि बूर कि तरफ देखा तो में देखकर बहुत चकित था, क्योंकि उसने अपनी बूर को बड़ी अच्छी तरह से सभी बालों को साफ करके चमका रखा था वो बड़ी सुंदर कामुक नजर आ रही थी और में तो उसकि बूर को देखकर एकदम हैंरान रह गया कि एक भीख माँगने वाली और उसकि इतनी सुंदर बूर जो किसी कुंवारी अमीर घर कि लड़कि से भी ज्यादा आकर्षक नजर आ रही थी. फिर एकदम मुझे ध्यान आया कि मेरे पास तो एक भी कंडोम नहीं हैं और अब में उसको ऐसे छोड़कर भी कहीं बाहर कंडोम लेने नहीं जा सकता था कि कहीं वो मेरे जाते ही भाग ना जाए.

अब मैने उसको कहा कि मेरे पास एक भी कंडोम नहीं हैं अब तुम ही मुझे बताओ में क्या करूं? तभी उसने कहा कि कोई बात नहीं आपको इतना परेशान होने कि ज्यादा आवश्कता नहीं हैं. दोस्तों उसने मुझे यह बात कहकर तुरंत ही अपने थेले से कंडोम का एक पेकेट निकालकर मेरे हाथ में दे दिया. अब में कंडोम देखकर बहुत खुश हुआ क्योंकि बस सब कुछ तैयारी पूरी हो चुकि थी और अब उसकि चुदाई में कुछ ही पल बाकि बचे थे. फिर मैने उसको अपनी बाहों में लेकर लेटा दिया और अब मैने तुरंत लपककर उसके दोनों गोरे गोरे बूब्स को पकड़ लिया और में उसके दोनों बूब्स को दबाने लगा.

loading...

दोस्तों पहले तो वो कुछ देर तक बस लेटी हुई थी जैसे वो कोई बेजान मूरत हो ऐसे पड़ी रही और फिर कुछ देर बाद एकदम उसको पता नहीं क्या हुआ और वो भी अब मेरा साथ देने लगी थी. अब में भी उसका वो जोश देखकर जोश में आ गया और अब मैने अपने एक हाथ से उसके बूब्स दबाए निप्पल को ज़ोर से मसलना शुरू किया, जिसकि वजह से उसके दोनों निप्पल तनकर उठ चुके और दूसरे हाथ को मैने उसकि बूर पर रख दिया. में अब उसकि चिकनी कामुक बूर को और उसकि गदराई हुई जांघो को अपने हाथ से सहलाने लगा था, जिसकि वजह से कुछ देर में ही उसकि बूर ने गीला करना शुरू कर दिया.

करीब दस मिनट के बाद मैने उसको कहा कि मेरा गरमागरम लोहे जैसा लण्ड अब तुम अपने मुहं में डालकर इसको चूसना शुरू करो. अब उसने मेरे कहते ही तुरंत मेरा सात इंच लंबा लण्ड अपने मुहं में डाल लिया और उसको चूसना शुरू किया. दोस्तों उसके यह सब करने कि वजह से मुझे मज़े के साथ बहुत गरमी महसूस होने लगी थी और मैने जोश में आकर अब उसके मुहं में अपने लण्ड को धक्के देकर चोदना शुरू किया. इस काम को में पहली बार करने जा रहा था. फिर करीब दस मिनट के बाद मेरा वो गरम लावा वीर्य मैने उसकि लंबी सुरंग में छोड़ दिया.

फिर उसके बाद मैने दोबारा उसको गरम करना शुरू कर दिया और अब मैने उसको कहा कि तुम मेरे ऊपर लेट जाओ और मज़े करो. अब वो कहते ही मेरे ऊपर लेट गयी और में अपना सोया हुआ लण्ड उसकि गरम बूर में डाल दिया. फिर हम दोनों ने एक दूसरे के होंठो को चूसना शुरू किया, लेकिन मुझे वो काम ज्यादा पसंद नहीं हैं, इसलिए मैने कुछ देर बाद चूमना बंद कर दिया. अब तक मेरे सोए हुए लण्ड में जोश आने लगा था और वो अब 90 डिग्री पर तनकर खड़ा हो गया.

अब मैने उसकि बूर में अपने लण्ड को डालकर तेज झटके देने शुरू कर दिए, लेकिन काम अच्छी तरह से नहीं हो रहा था, इसलिए मुझे धक्के देने में वो मज़े नहीं आ रहे थे. फिर उसी समय उसने मुझसे कहा कि तुम एक मिनट ठहरो और फिर उसने अपने थेले से एक क्रीम निकली और मेरे सात इंच पर लगाकर मालिश करने लगी और उसने कुछ क्रीम अपनी बूर पर भी लगाई, जिसकि वजह से दोनों ही एकदम चिकने हो गए. अब मैने अपने लण्ड को एक ही धक्के में पूरा अंदर उतारकर उसको तेज तेज धक्के देने शुरू किये और अब मेरा लण्ड बहुत आराम से चिकना होकर उसकि बूर कि गहराईयों में फिसलता हुआ अंदर बाहर होने लगा था और अब में खुश होकर लगातार वैसे ही तेज गति से धक्के झटके मारता रहा.

दोस्तों में तो उस समय बहुत जोश में था और एक बार पहले भी झड़ जाने कि वजह से में आधे घंटे के करीब भी धक्के देता ही रहा. में फिर भी नहीं झड़ा था, लेकिन वो इस बीच एक बार झड़ चुकि थी. अब वो उठ गई और मुझसे कहने लगी कि चलो अब कुतिया कि तरह करते हैं. दोस्तों में उसके मुहं से यह बात सुनकर बिल्कुल हैंरान हो गया कि इसको कैसे पता कि चुदाई में ऐसा भी होता हैं? और फिर मैने मन ही मन में सोचा कि शायद हो सकता हैं कि इसको चुदाई के काम में मुझसे ज्यादा अनुभव होगा. अब हम दोनों ने कुतिया कि तरह होकर मैने उसकि खुली हुई बूर में अपने लण्ड को एक तेज धक्का देकर पूरा अंदर कर दिया और मेरा लण्ड फक कि आवाज के साथ उसकि बूर में समा गया, लेकिन उसको जरा भी दर्द नहीं हुआ. दोस्तों क्योंकि शायद वो पहली भी ना जाने कितने लण्ड का मज़ा ले चुकि थी.

अब मैने अपने धक्को कि स्पीड को कम ही रखी. करीब दस मिनट तक धीरे धीरे चुदाई करने के बाद मैने अब अपनी स्पीड को पहले से तेज़ कर दिया. फिर में करीब पांच मिनट धक्के देने के बाद झड़ गया और मुझे ठंडा होता देखकर वो उठकर वापस पकड़े उठाकर पहनकर जाना चाहिए थी, लेकिन मैने उसको कहा कि जान अभी नहीं. फिर उसने कहा कि नहीं अब बहुत हुआ मुझे अब तुम जाने दो.

दोस्तों में अभी भी गरम था मेरा मन उसकि चुदाई से अभी नहीं भरा था, इसलिए मैने उसको कहा क्या तुम्हे पैसे पूरे नहीं करने? उसने कहा कि हाँ बस हो तो गये हैं. अब मैने उसको कहा कि अभी तो बहुत कुछ करना बाकि हैं और इतना कहकर मैने उसके एक हाथ को पकड़कर अपने पास खींच लिया और वापस बेड पर लेटा दिया. अब मैने तुरंत उसके मुहं पर टेप लगाई जिसकि वजह से वो चिल्लना भी चाहे तो उसकि आवाज वो शोर बाहर ना जा सके, मैने उसको पटककर एकदम सीधा लेटा दिया और अपने लण्ड को मैने दोबरा उसकि बूर में डालकर तेज तेज धक्के देने शुरू किए. में बड़े तेज़ झटके मारने लगा था.

उन झटकों को देने के बाद मुझे सही तरह से बड़े मस्त मज़े आने लगे थे और में पूरी तरह से जोश में आकर उसकि चुदाई करने लगा था. ऐसा करने में मुझे बड़ा मज़ा आया. फिर कुछ देर बाद मैने उसके मुहं से टेप को हटाकर अपने लण्ड को उसके मुहं में डाल दिया और कुछ देर धक्के देने के बाद दोबारा लण्ड को उसकि बूर में डाल दिया और वहाँ भी मैने बहुत जोश में आकर रगड़े मारे और उसके बाद मैने दोबारा झड़ जाने के बाद उसको छोड़ दिया और उसको मैने कहा कि शायद यह हमारी चुदाई इस खेल का आखरी दौर होगा, लेकिन जब वो उठकर दोबारा अपने कपड़े पहनने लगी और उसी समय वो पीछे मुड़कर थोड़ा सा नीचे झुकि.

अब एक बार फिर से उसकि गांड को देखकर मुझे फिर से जोश के साथ साथ चुदाई का बुखार चड़ गया और उसकि गांड को देखकर मेरा लण्ड दोबारा तनकर खड़ा हो गया. अब मैने उसको उसी तरह से नीचे झुकाकर उसके दोनों कूल्हों को पकड़कर पीछे खड़े होकर उसकि गांड में अपने लण्ड को डाल दिया और वो दर्द कि वजह से चिल्ला पड़ी, लेकिन मैने उसको चुप कर दिया और फिर मैने करीब बीस मिनट तक तेज गति से धक्के देकर उसकि गांड मारने के भी मज़े लिए. फिर कुछ देर बाद उसने शांत होकर अपनी गांड को आगे पीछे करके मेरा साथ देना शुरू किया और जब में झड़ने लगा तब मैने अपने लण्ड को उसकि गांड से बाहर निकाल लिया और में वैसे ही रुक गया.

करीब पांच सेकिंड के बाद मैने एक बार फिर से अपने लण्ड को डाल दिया और कुछ देर धक्के देकर दस मिनट मज़े लिये और उसके बाद मैने लण्ड को वापस बाहर निकाल लिया. फिर उसके बाद मैने उसको गुड बाय कहा और वो खुश होती हुई वापस मेरे घर से चली गई और फिर उसके चले जाने के बाद मैने मिल्क शेक बनाकर उसको पिया और में उसके साथ उस चुदाई के बारे में सोचने लगा था और मन ही मन बहुत खुश होता गया. दोस्तों यह थी मेरी चुदाई उस अंजान भिकारन लड़कि के साथ जिसमे मुझे बड़े मस्त मज़े आए.

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां