loading...

मैं उठी और गप से उसके लण्ड को मुंह मे ले ली

मैं उठी और गप से उसके लण्ड को मुंह मे ले ली

मै संजय कुमार, आपने मेरी लम्बी कहानी ‘मेरा हंसता खेलता सुखी परिवार’ पाँच भागों में पढ़ी होगी.
प्रस्तुत कहानी मेरी पुत्रवधू की सहेली रिया (संयोग से मेरी छोटी बेटी का नाम भी रिया है), उसकी किशोरावस्था की है, इसे मैने अपनी पुत्रवधू पूनम के आग्रह पर ही लिखा है.

पेश है रिया के अपने शब्दों में जैसे मुझे पूनम ने बताया वैसे ही !

उम्र के साथ साथ हम सबकी जरूरतें भी बदलती रहती हैं और लालसा भी!

मै रिया शर्मा अभी इसी साल मैने बारहवीं कक्षा की परीक्षा पास की है।

और मेरे शरीर के साथ हो रहे परिवर्तनों के साथ ही मेरे मन में भी सेक्स को लेकर अजीब अजीब से भाव आते जाते रहते हैं।

अब मै आपको अपनी आपबीती बताने जा रही हूँ और यह भी कि कुछ पाने का लालच क्या-क्या गुल खिलवा सकता है, काम वासना कहाँ से कहाँ तक ले जा सकती है और कुछ पाने के चक्कर में क्या क्या नहीं देना पड़ सकता है।
यह बात तब की है जब मै बारहवीं क्लास की परीक्षा देकर चुकी ही थी।

हमारे घर के ठीक साथ वाले मकान में हमारे ही कुनबे के दो खूबसूरत लड़के रहते थे, उनके पिता मेरे ताऊ लगते थे।
वे दोनों ही देखने में किसी फिल्म अभिनेता से कम न थे और न ही इधर उधर की बातों से उन्हें कोई लेना देना था, बस अपने काम से काम और उनकी यही बात मुझे सबसे अच्छी लगती थी।

मोहल्ले की सभी लड़कियाँ उन्हें पटाना चाहतीं थीं क्योंकि उनमें कुछ अलग ही बात थी।

मै भी उन लड़कियों में से एक थी और उनके बारे में सोचकर कर ही मेरी बूर के रेशमी बाल गीले हो जाया करते थे, उनके लण्ड की चाहत में मै अन्दर ही अन्दर घुली जा रही थी और रात-दिन बस एक बार उनमें से कम से कम किसी एक एक लण्ड अपने हाथ में लेकर उसे मुँह में लेकर चूसने का, उनसे चुदवाने की कल्पना किया करती थी।

पर कोई मौका ही नहीं मिल रहा था बात करने का, उन्हें अपनी इच्छा बताने का।

ऐसा नहीं कि उनसे मुलाकात ही नहीं होती थी, मै कभी कभार उनके घर भी जाती थी, थोड़ा ही आना जाना था।

किस्मत हमेशा एक सी नहीं होती, जब मेहरबान होती है तो बिन बताये ही सब कुछ दे देती है।

उस दिन मेरी किस्मत भी मेरे साथ थी। कम से कम मुझे तो यही लग रहा था।

पर किस्मत को कुछ और ही मंजूर था और जो किस्मत को मंजूर हो उस पर मेरा, मेरी बूर का तो कोई बस चल नहीं सकता, तो चला भी नहीं।

हर रोज की तरह उस दिन भी मै जब अपनी छत पर घूम रही थी और उनमें से एक अपनी छत पर था।

मै टकटकी लगाए एकटक उसको देख रहा थी तो एकदम उसने मुझे देखा।

और मै मुस्कुराने लगी और वो भी प्रति-उत्तर में मुझे देख कर मुस्कुराये बिना न रह सका।

मै समझ गई कि यहाँ मेरी दाल गल सकती है और मेरी तमन्ना पूरी हो सकती है।

मुझे रह रह कर अपने शरीर में सिहरन सी महसूस होने लगी, मेरे अंग अंग से आग बरसने लगी, चूचियाँ सख्त होने लगीं, बूर की बाहरी पंखुड़ियों में हलचल होने लगी और दिमाग में उसके लण्ड का ख्याल घूमने लगा।

न जाने वो मानेगा भी कि नहीं, कितना बड़ा और मोटा है इस सुन्दर से दिखने वाले लड़के का लौड़ा?
क्या इसी की तरह इसका लण्ड भी हट्टा कट्टा और रसीला है?

और ऐसे न जाने कितने ख्याल एक एक कर के आने-जाने लगे।

वो भी कभी मुझे देख रहा था और कभी धीरे से अपने लण्ड को टटोल रहा था, लगता था उसके दिमाग में भी मेरी बूर को लेकर, मेरे उभारों और चूचियों को लेकर उथल पुथल हो रही थी।

इससे अच्छा मौका और क्या हो सकता था, मैने अपने मन के भावों को छुपाते हुए उसकी तरफ पत्थर में लपेट कर एक कागज़ का टुकड़ा भेजा जिसमें लिखा था- तुम मुझे बड़े अच्छे लगते हो, मुझसे दोस्ती करोगे?

शायद मेरी पहल का ही इन्जार कर रहा था, उसने भी झट से उत्तर दिया- अनु, तुम भी मुझे बहुत अच्छी लगती हो पर कभी कहने की हिम्मत नहीं हुई, तुमसे दोस्ती करके मै अपने को धन्य समझूंगा।

धीरे-धीरे हम एक दूसरे से प्रेम-पत्रों से बात करने लगे क्योंकि उन दिनों बात करने का और कोई अच्छा साधन नहीं था।

अब तो हर रोज ही हम लोग छत पर मिलने लगे और बस एक दूसरे को हसरत भरी आँखों से देखते रहते और मन ही मन उस दिन की कल्पना करते रहते जिस दिन हम एक दूसरे की बाँहों में समा पाएँगे।

मै उसके लण्ड को धीरे धीरे सहला हुए अपने मुँह में भर लूंगी और वो मेरी बुर के काले काले बालों के बीच में से अपने होटों और अपनी जीभ से मेरी बूर के दरवाजे पर दस्तक देगा।
यह कहानी आप isexstory डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

आखिर वो दिन आ ही गया…
इन्तजार ख़त्म हुआ…
मन में ख़ुशी भी थी और डर भी…
चुदवाना भी चाहती थी और प्रेगनेंट होने का डर भी सता रहा था…
पर जीतना तो चुदने-चोदने के खेल ने ही था तो प्रेगनेंट होने का डर जाता रहा और मै सज धज कर, अपनी बुर के रेशमी बालों को साफ़ करके रात की प्रतीक्षा करने लगी।

हुआ यूँ कि एक दिन उसने मुझे रात को मिलने के बारे में पूछा।

मैने तुरन्त उससे उस रात उसके घर आने की बात लिखकर चिट्ठी उसके दरवाजे पर फेंक दी। वो चिट्ठी पढ़ कर फ़ूला नहीं समा रहा था।

और मै… मै तो मन ही मन किसी मोरनी की भांति नाच रही थी, मानो जिंदगी की सबसे बड़ी ख़ुशी मिल गई हो।
किसी ने कुबेर का खज़ाना दे दिया हो…
उसके लण्ड की गर्मी को महसूस करना, उसको चूमना चाटना, अपनी बूर पर उसके लण्ड को रगड़ना का ख्याल किसी कुबेर के खजाने से कम भी तो नहीं था।

उस दिन तो उसका लौड़ा भी अलग ही तेवर में दिखा रहा होगा…
तनतनाया हुआ खम्बे की तरह खड़ा उसके पजामे से बार बार बाहर आ रहा होगा मेरी गुलाबी बूर के दर्शन करने, मेरे मुँह में समा जाने के लिए और मेरी उभरी हुई मस्त गांड में धकापेल करने के लिए?
तभी तो वो बार बार छत पर आ जा रहा था…

मै उसकी मनोदशा देखकर बहुत खुश थी और बार बार अपनी ब्रा के अन्दर से हाथ ले जाकर अपनी चूचियों को मसल रही थी।

उस दिन की रात भी कितनी बेरहम थी, होने को ही नहीं आ रही थी!

ख़ुशी-ख़ुशी में मैने रात को खाना भी नहीं खाया।
धीरे-धीरे रात के बारह बज गए।
मै रजाई से निकल कर उनके घर के बराबर वाली दीवार से उनकी छत पर पहुँच गई।

उनकी छत पर एक कमरा था जिसमें वो पढ़ा करता था।
उसी कमरे में मिलने के बारे में मैने चिट्ठी में लिखा था।

जैसे ही मैने दरवाजा खटखटाना चाहा तो दरवाजा पहले से ही खुला मिला।

उस वक़्त मेरी खुशियाँ सातवें आसमान पर थी।

loading...

कमरे में काफी अँधेरा था, मै धीरे-धीरे उसका नाम पुकारते हुए उसके बेड पर पहुँच गई जिस पर कोई सोया हुआ था।

तब मुझे लगा कि वो शायद शरमा रहा है और सोने का नाटक कर रहा है।

मुझे लगा कि हम दोनों का यह पहला ही अनभव होगा, पर मुझे शर्म से ज्यादा चुदने का उत्साह था और उसे शर्म के साथ साथ चोदने का !

मै उसके बराबर में जाकर लेट गई और धीरे धीरे उसके गालों को सहलाने लगी।

अब उसकी शर्म भी फ़ूँ करके उड़ गई और उसका हाथ मेरे मम्मों पर आ गिरा।

वो उन्हें बेसब्री से मसलने लगा, उसका लण्ड मेरी जांघों से टकरा टकरा कर वापस लौट जाता, मानो विनती कर रहा हो ‘मुझे अपनी टांगों के बीच में समा लो !’

उसने दूसरे हाथ से धीरे धीरे मेरे बूरड़ों को सहलाना शुरू कर दिया, मै आनन्द और मस्ती में पागल हुए जा रही थी…

मेरा हाथ उसके लण्ड को टटोल रहा था, पजामे के अन्दर एकदम फुंकारते सांप की तरह, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मै तो हाथ में लेकर उसके लण्ड से खिलवाड़ करना चाहती थी, उसे किसी आम के तरह चूस चूस कर उसका सारा रस पी जाना चाहती थी…

तो बिना समय गवाए मैने पजामे का नाड़ा खोल दिया और उसमें से बाहर झांकते तनतनाते लण्ड को अपनी मुट्ठी में जोर से भींच लिया।

उसने एक बार तो उफ़्फ़ की मगर फिर मेरी चूचियों और बूरड़ों को सहलाने पुचकारने में लग गया।

मै उठी और गप्प से उसका लण्ड मुख में भर कर जैसे निगल गई।

उसकी चीख निकल गई्…

पर मुझसे इन्तजार ही नहीं हो रहा था तो मैने तो अपने दांतों से जोर से उसका लौड़ा काट लिया।

वो दर्द में उई मा… करके चिल्लाया तो मुझे होश आया…

और मैने धीरे धीरे अपने होटों से उसको ऊपर नीचे करना शुरू किया।

उसे मजा आ रहा था और उसकी पकड़ मेरी गांड के उभारों पर बढ़ती जा रही थी…

पर मै तो अपनी ही मस्ती में उसका बड़ा सा लण्ड चूस चूस कर अपनी बूर की आग को और भड़काने में लगी थी।

अब उसका लौड़ा उसे और इन्तजार करने की इजाजत नहीं दे रहा था,
वो धीरे से उठा और मुझे कंधों से पकड़ कर ऊपर उठाया…

मैने सोचा अब वो मेरी बूर को चाटेगा, अपनी जीभ को मेरी बूर के अन्दर तक घुसा देगा, अपने लण्ड से जांघों की दीवारों से टकरा टकरा कर मेरा बैंड बजा देगा…

पर जब उसने ऐसा कुछ नहीं किया तो मेरा नशा उतरने लगा, मै तडफ़ने लगी और अपने ही उंगलियों को बूर पर ले जाकर उसको सहलाने लगी।

मुझे समझ नहीं आ रहा था उसका बर्ताव…

मैने सोचा शायद वो घबरा रहा होगा, मैने उसका हाथ पकड़ा और अपनी बूर के पास ले गई, उसकी एक उंगली अपनी फुद्दी में डाल दी सोचा वो उत्तेजित होकर अपना लण्ड मेरी बुर में डाल देगा…

पर उसने ऐसा नहीं किया, वो तो और जोर जोर से मेरे बूरड़ों को दबाने लगा, उसके छेद में अपनी उंगली डालने लगा।

दर्द से मेरी चीख निकल गई, मै समझ गई उसको मेरी बूर में नहीं मेरी गाण्ड में ज्यादा दिलचस्पी है।

मेरा काम का बुखार उतरने लगा, चुदवाने की सारी कल्पना पर पानी फिर गया, पर मजबूरी थी, मेरे पास और कोई चारा भी नहीं था तो मैने कोई विरोध नहीं किया और जो वो कहता गया, वो मै करती गई, जो वो करता गया गया, वो सहती रही।

उसने धीरे धीरे मुझे पूरी नंगी कर दिया और बिस्तर पर उल्टा लिटा दिया।

उस वक़्त मै सोच रहा थी कि जो भी होना है, अब जल्दी हो जाए !

मेरा मन खिन्न हो रहा था, मुझे सिर्फ गांड मरवाने में कोई दिलचस्पी नहीं थी…
मै तो चुदना चाहती थी फिर भले ही वो मेरी गांड मारे या अपनी मुठ…

मै चुपचाप अपनी बूर को अपने ही हाथों से दबाये उल्टा लेटी रही, वो भूखे कुत्ते की तरह मेरी गाण्ड पर टूट पड़ा।

दर्द के मारे मेरी चीख निकल गई पर वो कब रुकने वाला था, जैसे जैसे मेरी चीख की आवाज बढ़ती जाती।

उसके झटके से मेरी गांड और फटती जाती, उसने दोनों हाथों से मुझे कमर से पकड़ रखा था और जोर जोर से गांड में अपने लण्ड को अन्दर बाहर कर रहा था, मानो किसी लड़की की नहीं किसी कुतिया की गांड मार रहा हो।

मैने सुना था कि जब लड़की के साथ पहली बार सेक्स करते हैं तो उनकी बूर से खून निकलता है, आज मेरी गांड की हालत कुछ ऐसी ही थी।

मेरी गांड से खून निकल रहा था लेकिन वो खून की परवाह न करते हुए धक्के मारता ही रहा।

उसका लण्ड जल्दी से झड़ने का नाम नहीं ले रहा था क्योंकि अभी वो जवान था, शायद पहली बार किसी की गांड मार रहा था?

लगभग बीस मिनट बाद उसका लण्ड से पिचकारी जैसे पानी निकला और वो निढाल होकर मेरी गांड के ऊपर ही लेट गया।

मै कुछ देर इन्तजार करती रही और फिर उसे बराबर में धकेल दिया, अनमने मन से अपने कपड़े पहने और चुपचाप अपनी बूर का पानी बूर में ही लिए अपने घर लौट आई।

इस दिन के बाद मैने मन ही मन सोच लिया अब कभी किसी मर्द से चुदवाने का ख्याल भी अपने मन में नहीं आने दूँगी।

पर मन तो मन है, कब फिसल जाये कोई नहीं जानता !

इस बार जो मेरा मन फिसला तो बस ऐसे की आज तक भी उसके भाई के साथ अटका हुआ है!

क्या चोदता है… उफ्फ्फ तौबाआह… फिर कभी बताऊँगी…

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां