loading...

मैं उसे खड़े खड़े ही चोद रहा था

मैं उसे खड़े खड़े ही चोद रहा था

हेलो दोस्रो मैं सोनू फिर से अपने जीवन की छोटी सी घटना लेकर हाजिर हुआ हूँ आशा करता हूँ कि आपको पसंद आएगी।

सुधा ओर प्रीतम के साथ तो मै कुछ कर नहीं पाया, मै बहुत परेशान हो चुका था, सोचता था एक बार तो सेक्स करना ही हैं। तो मैने अपन एक दोस्त से पूछा- यार, तू बाहर रहता हैं, तेरी कोई गर्ल्फ़्रेन्ड नहीं हैं क्या ? उसकी किसी सखी से मेरी दोस्ती करा दे !

तो उसने मुझसे बोला- ठीक हैं, पर मै तुझे नम्बर दे दूँगा, बात तुझे खुद करनी हैं।

मैने उसे बोला- ठीक हैं !

उसने मुझसे कहा- थोड़ी मोटी हैं !

मैने उसे बोला- मोटी हो या पतली, बूर सभी के पास होती हैं।

तो उसने मुझे नम्बर दे दिया। मैने उस नम्बर पर मैसेज किया।

उसने पूछा- कौन?

तो मैने रिप्लाई दिया- सॉरी ग़लती से मैसेज हो गया ! पर आप कहाँ से? और आपका शुभ नाम?

तो उसने गुस्सा होते हुए कहा- आज के बाद मैसेज मत करना !

मैने उसे फ़िर रिप्लाई दिया- ओके लेकिन अपना नाम तो बता दो !

तो उसने अपना नाम मुझे स्वाति बताया।

मैने उसे थॅंक्स बोला और उसके बारे में कुछ ओर जानने की सोची तो उसने बड़े ही गुस्से में कहा- मै पुलिस में तुम्हारा नम्बर दे दूँगी। मैने सोचा कि इस समय बात करने का लाभ नहीं हैं, फ़िर कभी करता हूँ। उसका बाद मैने उसे मैसेज नहीं किया। मैने अपन दोस्त से बात की- यार, वो तो बहुत ही गुस्से वाली हैं, बात बन जाएगी ना?

तो उसने बोला- बात करके देखना !

दोबारा मैने उसे तीन दिन बाद मैसेज किया, उसने फ़िर से मुझसे यही पूछा- कौन?

तो मैने उसे कहा- सॉरी आपको उस दिन मेरी वजह से गुस्सा आया ! मेरे दिल में ऐसा कोई विचार नहीं था कि जिससे आपको गुस्सा आया ! मै तो बस आपसे दोस्ती करना चाहता हूँ, और कुछ नहीं !

तो उसने मुझसे पूछा- तुम कहाँ से हो?

तो मैने उसे कहा- शिवन से !

मैने उससे उसके बारे में पूछा तो उसने बताया- मै दिल्ली से हूँ, शादीशुदा हूँ, मै अपने पति के साथ में ही रहती हूँ, बच्चा अभी कोई नहीं हैं।

तो ऐसे हमारी बात होती रही, इसी तरह से हम दोनों की दोस्ती होती रही, हम फ़ोन पर एक दूसरे की सेक्स की लाइफ की बात करने लगे।

उसने बताया कि उसका पति सेक्स में कभी इतनी रुचि नहीं लेता जितनी मुझे हैं।

मैने उससे पूछा- क्या कभी तुम्हारे पति ने तुम्हारी बूर को चाटा हैं?

तो उसने कहा- नहीं !

हम दोनों ने एक महीना मोबाइल पर ही बात की तो मैने उसे बोला- क्या हम मिल सकते हैंं?

तो उसने बोला- मै परसों गाज़ियाबाद आऊँगी, आप मुझे स्टेशन पर लेने आ जाना !

उसने मुझे अपने पहनने वाले कपड़ों के बारे में बताया पहचान के लिए !

तो मै उसे साहिबाबाद रेल स्टेशन पर लेने पहुँच गया ! सही टाइम पर रेल रुकी और सही टाइम पर मै भी अपनी मोटरसाइकिल से वहाँ पहुँच गया। उसकी कॉल आई- कहाँ हो?

तो मैने उसे प्लेटफॉर्म की सीढ़ियों पर आता हुआ देख लिया और बोला- मै तुम्हारे सामने ही हूँ, सीधा आ जाओ !

loading...

पहली बार उसे देखा था, उसका साईज़ क्या बोलूँ, आप समझ सकते हो कि मोटे इंसान का कोई फिगर नहीं होता, बस साइज़ होता हैं। मेरा दिल तो बहुत खुश था क्योंकि आज बूर जो मिलने वाली थी !

न जाने कब की तलब आज पूरी होने वाली थी।

मैने उसे बोला- बहुत भूख लगी हैं, पहले खाना खाने चलते हैंं। फिर लोंग ड्राइव पर !

हम दोनों ने एक रेस्तराँ में खाना आर्डर किया। उसके बाद हम दोनों बैठ कर बात करने लगे।

मैने अपनी नज़र चारों तरफ़ घुमाई, बाकी टेबल खाली थी और जो रेस्टोरेंट का दरवाजा था उस पर काला शीशा लगा हुआ था जिसमें से अंदर का कुछ नहीं दिखता था पर अंदर काउंटर वाला आदमी सब कुछ देख सकता था। मैने मौका देख कर स्वाति के होंठों पर एक चुम्बन किया और दोबारा दरवाजे की तरफ़ देखा तो वहाँ कोई नहीं था। उसके बाद मैने देखा कि काउंटर वाला आदमी इधर ही देख रहा हैं। मैने कुछ भी करना मुनासिब नहीं समझा। हम थोड़ी देर में खाना खाकर वहाँ से निकल लिए।

बाइक पर मैने उसे अपनी पीठ से चिपका कर अपन पीछे बिठा लिया और उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया। मेरा लण्ड तो पहले से ही झटके मार रहा था। मैने उसका हाथ पकड़ कर पैंट के ऊपर से लण्ड पर रख दिया। उसने उसे बड़े प्यार दबा कर पकड़ लिया और बोली- यह तो पहले से ही तैयार लगता हैं।

मैने कहा- हां तुम्हें देखते ही सलाम करने लगा था।

हम शिवम से काफ़ी दूर आ चुके थे, मै कुछ सुनसान जगह खोज रहा था तो मुझे एक रास्ता नज़र आया, एक नहर की साइड में सड़क थी, धूप काफ़ी तेज थी, गर्मी भी बहुत थी, कुछ दूर आगे चलने का बाद सड़क के किनारे आम का पेड़ था, काफ़ी अच्छी छाँव थी, मैने उसे बोला- हम यहीं रुकेंगे !

कुछ देर रुक कर मैने रास्ते के दोनों तरफ़ देखा, कोई नहीं आ रहा था, ऐसी धूप में बहुत कम लोग निकलते हैंं।

तो उसने मुझसे कहा- मुझे टॉइलट जाना हैं।

तो मैने कहा- कर लो, मै यहीं हूँ !

तो वो आम के पेड़ के बराबर में सड़क से नीचे उतरी और अपनी सलवार नीचे कर के मूतना शुरू करके मुझसे बोली- इधर मत देखना ! मै कहाँ मानने वाला था, उसे मूतते हुए ही देखा !उसके बाद मैने उसे बोला- अब मै मूतने जा रहा हूँ।

और मै नीचे उतर कर खेत में उसके सामने लण्ड बाहर निकाल कर मूतने की कोशिश करने लगा। लण्ड जब खड़ा हो तो मूत नहीं आता। ऐसा ही हुआ, उसने मेरी तरफ़ देखा और उसकी नज़र मेरे लण्ड पर गई, उसका मुँह खुला का खुला रह गया।

उसे देख कर मै लण्ड को ऐसे ही भीतर करके उसका पास गया और फ़िर लण्ड बाहर निकाल कर उसके हाथ में दे दिया, उसे पूछा- कैसा लगा?

तो उसने बोला- बहुत अच्छा हैं, मेरे पति का ऐसा नहीं हैं।

मैने उसकी सलवार में अपना हाथ डाल दिया और उसकी बूर पर ले गया। उसकी छूट काफ़ी टाइट लग रही थी और गीली भी हो चुकी थी। वो मेरे लण्ड को आगे पीछे कर रही थी और रास्ते की तरफ़ भी हम देख रहे थे, कहीं कोई आ ना जाए !

फ़िर मै उसका हाथ पकड़ कर नीचे खेत में ले आया और देखा कि सड़क की तरफ़ काफ़ी झाड़ी हैं ओर दूसरी तरफ़ पूरा खेत खाली हैं।

अब मै कहाँ रुकने वाला था, मैने उसका चुम्मा लिया और उसे बोला- अपनी सलवार नीचे करो !

उसने सलवार नीचे की और मैने अपना लण्ड उसका आगे से खड़े खड़े बूर में डालने लगा पर लण्ड अंदर नहीं गया, मैने उसे कहा- आप नंगी हो जाओ !

उसने वैसा ही किया, उसके पीछे जाकर मेरा विचार बदला, उसके गोल बूरड़ों के बीच में साफ बूर देख कर मुझसे रुका नहीं गया, मैने अपनी जीभ उसकी बूर पर लगा दी और चाटने लगा। बहुत मस्त खुशबू आ रही थी। मै अपनी जीभ उसकी बूर में गोल गोल घुमाने लगा, उसको बर्दाश्त नहीं हुआ, उसने कहा- जल्दी लण्ड डालो !

मैने अपने लण्ड पर थूक लगा कर बूर पर टिका दिया और धीरे से अंदर करते हुए पूरा लण्ड अंदर डाल दिया। मुझे लण्ड पर उसकी बूर का कसाव बहुत लगा, वो तो अपनी आँखें बंद किए बस लण्ड का पीछे से मज़ा ले रही थी। फ़िर टाइम ना गंवाते हुए मैने उसकी चुदाई शुरू कर दी। वो हर धक्के पर आगे को हो जाती थी मगर कुछ बोल नहीं रही थी,

बीस मिनट चुदाई के बाद मै उसे बोला- मै झड़ने वाला हूँ !

तो उसने कहा- अंदर ही झड़ना !

और हम दोनों साथ में ही झड़े !

मैने अपना लण्ड जब बाहर निकाला तो उसके और मेरे पानी से लण्ड पूरा भीगा हुआ था। तब मैने उसका चेहरा देखा तो वो बहुत खुश थी, और बोल रही थी कि उसे बच्चा चाहिए इस लिए उसने मुझे अंदर झड़ने के लिये बोला।

मैने उसे बोला- अगर भगवान चाहेगा तो आपको ज़रूर बच्चा होगा, आपने मुझे खुश किया, बरसों की तड़प पूरी की !

फ़िर एक गहरा किस करके हम दोनों वहाँ से चल दिए और उसे स्टेशन पर छोड़ कर अपने घर आ गया।

उस दिन को आज भी याद करता हूँ, बहुत अच्छा लगता हैं।

स्वाति को जो चाहिए था, उसे वो मिल गया, वो माँ बनी, वो बच्चा भी मेरा ही था, उसने मुझे बताया था। वो बहुत खुश हैं।उसके बाद मैने कभी उसे मिलने के लिए नहीं बोला क्योंकि उसकी अपनी शादीशुदा जिन्दगी हैं, जब तक वो नहीं कहेगी, मै उसे नहीं मिलूँगा।

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां