loading...

मैने एकदम झटका दिया और लण्ड घुसेड़ दिया

मैने एकदम झटका दिया और लण्ड घुसेड़ दिया

मै आप सब को अपना थोड़ा सा परिचय दे दूं। मै इक्कीस साल का एक ठीक ठाक दिखने वाला लड़का हूँ। मै ऊपर वाले की कृपा से बी टेक आखरी साल का छात्र हूँ।

मेरी यह जो कहानी हैं वो दिल्ली में मेरे साथ घटी, वैसे तो मै यू.पी. का रहने वाला हूँ और अपनी पढ़ाई यहीं पर कर रहा हूँ। मेरे सबसे छोटे मामा से मै काफी मजाक करता हूँ, सामान्य मजाक सिर्फ, कोई अश्लील मजाक नहीं।

तो दोस्तों जब मेरा छटा सेमेस्टर ख़त्म हुआ तो उसके बाद मेरी लगभग दो महीने की छुट्टियाँ थी.. मै भी घर में बोर ही हो रहा था तो सोचा कि क्यों न मामा के पास कुछ दिन के लिए हो आऊँ।

मैने घर में पूछा तो घर वालों ने कहा- हाँ चला जा, वहाँ रहेगा तो तेरा मन भी बहल जायेगा।अगले दिन मै सुबह की ट्रेन से दिल्ली पहुँच गया। मामा मुझे स्टेशन पर लेने आ गए थे। मै एक बात बता दूँ कि मेरे ये मामा अभी अविवाहित हैंं तो इसीलिए मेरी इनसे इतनी अच्छी पटती हैं।

मै मामा के साथ बातें करता हुआ उनके फ्लैट पर पहुँच गया। वो पुरानी दिल्ली में रहते हैंं।

वैसे भी दिल्ली पहुँचते पहुँचते ग्यारह बज गए थे। मै थोड़ी देर उनसे ही बातें करता रहा। फिर वो बोले- चल, खाना खा आते हैंं।

क्यूँकि मामा अकेले रहते हैंं तो वो ज़्यादातर खाना बाहर ही खाते हैंं।

मै उनके साथ खाना खाकर आया तो लगभग एक बज रहा था। मैने सोचा कि थोड़ी देर सो लेता हूँ उसके बाद शाम को देखते हैंं क्या प्लान बनता हैं।

मै सोकर जब उठा तो लगभग पांच बज रहे थे। सारी थकन उतर चुकी थी। सोचा कि क्या किया जाये। रविवार होने की वजह से मामा की छुट्टी थी तो वो अपने एक दोस्त के घर बराबर में चले गए थे।

मै उठा, टी वी देखने लगा। लगभग छह बजे मामा आए, उन्होंने बताया कि आज उनके एक दोस्त का जन्मदिन हैं तो वो आज उसके साथ जा रहे हैंं और रात को ही आएँगे।

मैने सोचा- भेनचोद, ये क्या के एल पी डी हुई हैं मेरे साथ। मै यहाँ आया था मस्ती करने और ये ही जा रहे हैंं।

वो जाते हुए बोल गए कि खाना बाहर खा लेना और सो जाना, हो सकता हैं उन्हें देर हो जाये। तो वो जब आएंगे तो कॉल कर लेंगे और दरवाज़ा खोल देना।

मैने कहा- ठीक हैं मामा।

वो चले गए।

मैने सोचा कि अब क्या किया जाये, थोड़ा अँधेरा हो चुका था और मुझे गर्मी भी लग रही थी, मै छत पर आ गया।

आपको तो पता ही होगा कि पुरानी दिल्ली में घर कितने मिले हुए होते हैंं, आप एक छत से कूद कर दूसरी छत पर जा सकते हैंं। शाम को हल्की रोशनी थी, मै इधर उधर टहलने लगा।

इधर उधर टहलते हुए मेरी नज़र अपने बराबर वाले घर पर पड़ी। वहाँ पर कपड़े सूख रहे थे। मैने इतना ज्यादा ध्यान नहीं दिया लेकिन उसके बाद जो नज़ारा मेरे सामने आया शायद उसे बस मै महसूस ही कर सकता हूँ अभी तक। कपड़ों के पीछे से मुझे एक ऐसे मुजस्समे का दीदार हुआ जिसको देखते ही मुझे ऐसा लगा के वक़्त बस यहीं रुक जाये और मै उसे ऐसे ही देखता रहूँ।

उस लड़की में पता नहीं क्या कशिश थी कि मै उसे एकटक देखता रहा। वो शायद करीब बीस साल की होगी ऐसा मैने उस समय अंदाज़ा लगाया।उसका सारा ध्यान उस समय कपड़े उतारने पर था तो उसने मुझे देखा नहीं और मेरी नज़रें उस पर से हटी नहीं।

करीब दस मिनट बाद वो कपड़े उतार कर नीचे चली गई और मै मन ही मन खुश हो गया। वोह मेरे दिल में एक प्यार का बीज बो गई थी शायद।

इससे पहले मुझे कभी ऐसा एहसास नहीं हुआ था। यह थी मेरी उस से पहली मुलाकात। मुलाकात क्या, यूँ कहिये की मुँह दिखाई।

फिर मै भी नीचे आया और थोड़ी देर बाद खाना खाकर, आकर लेट गया..

मेरी आँखों से तो नींद गायब थी, आज एक नायाब चीज़ का दीदार जो हुआ था।

खैर थोड़ी देर बाद मेरे मोबाइल की घंटी बजी तो मैने देखा मामा का फ़ोन था। मैने उठ कर दरवाज़ा खोला तो मामा ने अन्दर आते ही पूछा- सोया नहीं अब तक?

मैने कहा- नहीं अभी तक तो नहीं..

तो वो बोले- चल, मुझे तो बहुत नींद आ रही हैं, मै तो सोने जा रहा हूँ तू भी सो जा।

मै वापस आकर बिस्तर पर ढेर हो गया।

जैसे तैसे रात कटी, सुबह मै फिर छत पर टंगा हुआ था इस आशा में कि शायद वो फिर से दिखाई दे जाये पर झांटू किस्मत में शायद ऐसा नहीं लिखा था तो मै किसी बुड्ढी औरत के लटके हुए वक्ष की तरह मुँह लटका कर वापस नीचे आ गया।

नीचे आकर देखा तो मामा ऑफिस के लिए तैयार हो रहे थे, उन्होंने पूछा- कहाँ गया था?

मैने कहा- कहीं नहीं ! बस छत पर टहलने चला गया था..अब उन्हें क्या बताता कि मै क्यों गया था।

उसके बाद मैने दोनों के लिए थोड़ा नाश्ता बनाया और नाश्ता करके मामा अपनी जॉब पर निकल गए। मै भी नहा धोकर घूमने निकल गया।

वैसे तो मै दिल्ली कई बार आ चुका था तो मुझे ज़्यादातर जगह पता थी इसलिए कोई परेशानी नहीं हुई। दिल्ली में लड़कियाँ कितनी चालू हैंं यह भी आप सब जानते ही होंगे तो मै दिन भर बस में घूमता रहा और लड़कियों और आंटियों की गांडों पर लण्ड मलता रहा। ऐसी ही दिन निकल गया और लगभग 4 बजे वापस आया। मै काफी थक चुका था सो आते ही सो गया लेकिन 6:30 का अलार्म लगा कर क्योंकि मुझे सात बजे फिर से छत का दौरा करना था।

जब अलार्म से मेरी नींद खुली तो मामा तब तक आ चुके थे और मेरे उठते ही मुझसे बोले- ले चाय पी ले।

मैने जल्दी से उठ कर हाथ-मुँह धोया और चाय पीकर मामा से बोला- मामा, आओ छत पर चलते हैंं।

मामा बोले- चल ठीक हैं।

आज सुबह तक तो मेरी किस्मत गांडू थी पर अब बुलंद निकली, वो छत पर ही टहल रही थी। मेरी तो बाछें खिल गई और दिल में देसी घी के लड्डू फूटने लगे।

हल्के हरे रंग के सूट में वो गज़ब की लग रही थी। मामा तो यहाँ काफी समय से रह रहे थे तो उनकी जान पहचान भी थी आस-पास वालों से तो वो मामा की तरफ हाथ हिला के बोली- हाय भैया..

मेरे मामा ने भी हाथ हिला कर जवाब दिया- हाय !

मेरे लण्ड ने भी अपने आप को हिला कर कहा- “हाय”

फिर मामा ने पूछा- कैसी हो?

तो वो बोली- ठीक हूँ, आप सुनाओ !

और ऐसे ही दोनों अपनी छतों पर पास में आकर बातें करने लगे। वो दोनों बातें कर रहे थे और मुझे उसे निहारने का भरपूर मौका मिल रहा था। मै सोच रहा था मामा मेरी पहचान कब करवाएगा इससे।

पर मामा तो लगा हुआ था अपनी बातों में। मैने सोचा कि भेनचोद यह क्या चुतियागर्दी हैं कि मै यहाँ बूरिया बना खड़ा हूँ और यह मामा अपना मामा-मिया कर रहा हैं।

वो बार बार मेरी तरफ देख रही थी शायद वो यह जानना चाहती थी कि मै कौन हूँ। मेरी झांटें आग हो रही थीं और मामा अपनी लाइन लगाने पर तुला था। मुझे मामा से ऐसे हरामीपने की उम्मीद नहीं थी पर मैने सोचा अभी के लिए इसको देख कर ही काम चलाता हूँ।

हालाँकि उसने दुपट्टा लिया हुआ था और अपना यौवन छुपाने की पूरी कोशिश की थी लेकिन वो मर्द ही क्या जिसकी नज़र से कोई लौंडिया बच निकले वो भी ऐसा माल।

तो मै थोड़ी देर उसको ऐसे ही ताड़ता रहा, कभी उसका मुँह तो कभी उसके मम्मे ! और मन ही मन मामा को बुरा भला कहता रहा इस हरामीपन के लिए।

तभी थोड़ी देर बाद उसके घर से नीचे से किसी की आवाज़ आई- नीलू ओ नीलू !

जी हाँ ! सही सुना ! मैने उसका नाम नीलू ही था।शायद उसकी माँ उसे नीचे बुला रही थीं। सो उसने मामा से बाय कहा पर भेनचोद मामा ने अभी भी मेरा परिचय नहीं करवाया उससे।

वो चली गई लेकिन आज उसका नाम मै जान चुका था। मामा अगर अपना गांडूपना नहीं दिखता तो शायद बात भी हो जाती।

फिर मेरे दिमाग में कीड़ा काटने लगा। मैने सोचा मामा से ही इसके बारे में पूछता हूँ.. मै बोला- मामा, यह कौन हैं?

मामा बोला- अरे यह नीलू हैं, यार बड़ी प्यारी लड़की हैं, बी.कॉम कर रही हैं।

मैने सोचा भोंसडी की प्यारी हैं तभी तो पूछ रहा हूँ।

मामा भी बड़ा हरामी हैं, फिर बोला- तू क्यों पूछ रहा हैं इसके बारे में?

मैने कहा- बस ऐसे ही !

पर हैं तो वो मेरा मामा ही.. हँसते हुए नीचे चला गया। शायद समझ भी गया हो। पर मुझे क्या अब प्यार किया तो डरना क्या।

उसके बाद मै हर वक़्त उसे देखने के चक्कर में लगा रहता… दो दिन बाद मुझे वो मौका मिल ही गया जिसका मै इंतज़ार कर रहा था.. उस दिन मै अपनी छत पर टहल रहा था शाम को तो वो छत पर आई.. उस दिन तो मै उससे मिल ही चुका था तो वो थोड़ा तो जानती ही थी।

हालाँकि उससे बात नहीं हुई थी मेरी पर मेरी भी तो अब बर्दाश्त की हद ख़त्म होती जा रही थी.. कब तक उसकी याद में रातें काली करता और बिस्तर गन्दा..

तो मैने उसकी तरफ देखकर हाय कहा..

उसने भी थोड़ा मुस्कुरा कर हाय कहा..

फिर मै उसकी छत की तरफ को चल पड़ा और जहाँ उस दिन मेरा मामा खड़ा हुआ बातें चोद रहा था, वहीं जाकर खड़ा हो गया..

मेरी थोड़ी फट भी रही थी क्यूंकि मै पहली बार उससे बात करने जा रहा था और अगर उसकी माँ या मेरा मामा देख लेता तो इंटरव्यू हो जाता मेरा तो…

फिर मेरे दिमाग में आया कि यार प्यार किया तो डरना क्या ! तो मैने उससे हिम्मत करके पूछ ही लिया- क्या नाम हैं तुम्हारा?

वो बोली- “नीलू”

मुझे पहले ही उसका नाम पता था लेकिन बात तो कहीं से शुरू करनी थी न.. फिर मैने थोड़ी और बातें करने की सोची और वो भी बातें करती रही..

loading...

उसने मुझसे भी पूछा कि मै कौन हूँ वगैरह वगैरह..

मेरी आदत बहुत मजाक करने की हैं, मै अपनी तरह ही बातें करता रहा और वो एक दो बार हंसी भी.. मैने सोचा यहाँ मामा के होने का कुछ तो फायदा मिल रहा हैं.. मै भी इन मौकों पर चौका मारता रहा .. हमने बहुत देर बातें की बहुत टॉपिक्स पर फिर उसकी माँ की आवाज़ आई तो वो बोली- अब मै जाती हूँ..

मैने सोचा कि इससे पूछ लेता हूँ कि फिर कब मिलोगी?

लेकिन जो उसने बोला उसे सुनकर तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ..

वो जाते जाते बोली- तुम बहुत अच्छी बातें करते हो, अब तुमसे कल बात होगी !

मुझे ऐसा लगा कि मेरा तो दिल वहीं निकल कर गिर पड़ेगा क्यूंकि इतनी तेज़ी से धड़क रहा था वो… अब तो मेरी चांदी ही चांदी थी.. मै गाने गुनगुनाता हुआ नीचे आया और फिर अगले दिन बहुत ही खुश था.. मेरा दिल तो यह चाह रहा था कि बस दिन निकलने से पहले शाम हो जाये..

जैसे तैसे शाम हुई तो मै फिर से छत पर पहुँच गया..

उस दिन भी उससे खूब बातें हुई.. अब उसकी और मेरी पक्की दोस्ती हो गई थी.. वो और मै खूब बातें करते ! उसकी माँ से भी अब मेरी जान-पहचान हो गई थी.. उसकी माँ मेरे मामा को अच्छी तरह से जानती थी इसलिए उसे मेरे से बात करने से मना नहीं करती थी..

ऐसे ही एक दिन हम बाज़ार गए.. सारा काम निपटने के बाद हमने सोचा कि आइसक्रीम खाते हैंं..

हम एक आइसक्रीम पार्लर में गए और खाते खाते वो बोली- तुम्हें पता हैं परसों मेरा बर्थडे हैं !

मैने बोला- अरे वाह ! यह तो बहुत अच्छी बात हैं, पार्टी करेंगे।

तो वो बोली- नहीं, मै पार्टी नहीं करती, मुझे बर्थडे सादगी से मनाना अच्छा लगता हैं।

तो मै थोड़ा निराश सा हुआ यह सुनकर पर फिर वो बोली- तुम हो न मेरे फ्रेंड, उस दिन तुम घर आना !

मै ख़ुशी से फ़ूला न समाया.. मुझे उस पर बड़ा प्यार आ रहा था.. मुझे उस दिन पता नहीं क्या हुआ मै उसे लेकर वहाँ से घर जाने के बजाये एक पार्क में ले गया..

वो बोली- यह कहाँ ले आये?

मैने कहा- नीलू, मुझे तुमसे कुछ बात करनी हैं।

तो वो बोली- वो तो तुम घर पर भी कर सकते थे, यहाँ क्यों लाये हो?

मैने कहा- नहीं, यह बात मै यहीं करना चाहता हूँ।

तो वो बोली- हाँ, बोलो?

मैने डरते डरते उससे अपने प्यार का इज़हार कर दिया.. पहले तो मेरी बहुत फटी लेकिन जब उसने कहा- मुझे मंज़ूर हैं !

तो मेरी लाटरी निकल गई.. फिर हम घर आ गए.. और मै परसों का इंतज़ार करने लगा..आखिरकार वो दिन आ ही गया.. मै सुबह में ही उसके घर पहुँच गया और उसको हैंप्पी बर्थडे कहा .. उसने मुझे थैंकयू बोला और मुझसे हाथ मिलाया.. हाथ क्या मखमल था..

फिर वो मुझे अपने कमरे में ले गई और हम बातें करने लगे .. फिर बातें करते करते वो बोली- लाओ मेरा गिफ्ट !

मैने उससे कहा- बोलो क्या चाहिए तुम्हें?

उसका जवाब था- तुम… !

मै तो हक्का बक्का रह गया, ये क्या बोला उसने ..

मैने फिर पूछा- क्या?

उसने फिर कहा- तुम !

मै सोचने लगा कि कहीं इसने पी तो नहीं रखी हैं.. क्या बोल रही हैं यह..

तभी उसकी आवाज़ आई- क्यूँ? डर गए क्या ?

मैने सोचा कि यह पागल हो गई हैं शायद..

वो फिर से बोली- दे सकते हो अपने आपको मुझे?

मैने सोचा कि जब यही निमंत्रण दे रही हैं तो मै क्यों पीछे रहूँ.. मैने बोला- देखो जो काम तुम कह रही हो उसके बाद रोना मत !

वो बोली- तुम शुरू तो करो..

मैने कहा- तुम्हारी माँ हैंं बाहर !

वो बोली- वो तो अब तक चली भी गई होगी.. उन्हें थोड़े काम से जाना था अपनी सहेली के यहाँ !

अब मै थोड़ा जोश में आ गया और मैने उसका चेहरा अपने हाथों में लेकर चूम लिया.. उसकी और मेरी दोनों की आँखें बंद थी.. और शायद यह मेरा और उसका पहला ही चुम्बन था.. इतना गहरा चुम्बन उसके बाद शायद ही मैने कभी लिया होगा.. मेरी और उसकी साँसें बहुत तेज़ हो गई थी जिसे मै महसूस कर रहा था.. पहला प्यार होता ही ऐसा हैं दोस्तों..

चूमने के बाद मैने उसे अपने अलग करते हुए कहा- तुमने पहले कभी किया हैं क्या?

तो वो मेरी आँखों में देखती हुई बोली- तुम पहले इंसान हो जिसने मुझे छुआ हैं.. मैने अभी तक किसी को हाथ तक नहीं लगाने दिया.. बिल्कुल कोरी हूँ मै !

यह सुनकर मैने उसके चूचियों पर हाथ रखा और हल्के से दबाया.. उसने उफ़ किया और थोड़ा कसमसाई..

फिर मैने थोड़ा दबाव डालकर दबाया तो वो तड़पते हुए बोली- मैने तुम्हें अपने आप को सौंपा हैं, जो भी करो प्यार से करना !

मैने फिर हल्के हल्के उसकी चूचियों को दबाना शुरू किया.. उसे थोड़ा दर्द भी हो रहा था और वो थोड़ी थोड़ी देर बाद उफ़ किये जा रही थी..

मैने फिर उसे चूमा और उसकी कमीज़ उतार दी.. अन्दर का नज़ारा तो बड़ा ही शानदार था.. काली ब्रा में उसके नुकीले निप्पल पता चल रहे थे.. मैने उसकी ब्रा का इलास्टिक खीच कर छोड़ दिया.. वो उसके लगा तो उसने आउच किया .. फिर एक मुक्का मेरे को मारा हल्के से गुस्से में…

मैने फिर उसकी ब्रा उतार दी.. और उसके निप्पल बिलकुल पेंसिल की नोक की तरह थे.. उसके दूध ज्यादा बड़े नहीं थे.. खिलती जवानी थी एकदम..

फिर मैने उसके निप्पल को अंगूठे और ऊँगली के बीच रख कर खींचा तो उसकी सिसकारी निकल गई..उससे भी शायद बर्दाश्त नहीं हो रहा था और मुझसे भी नहीं.. फिर मैने जीभ निकल के जीभ की नोक उसकी निप्पल की नोक पर लगाई तो वो एकदम सिहर गई… मैने दूसरे निप्पल के साथ भी ऐसे ही किया..फिर मैने उसका एक निप्पल मुँह में लिया और हल्के से चूसा.. वो उफ़ ही करती रही..

मैने फिर थोड़ी देर उनको हल्के-हल्के चूसा तो वो अपना सर इधर उधर करने लगी.. यह कहानी आप काम वासना एप्प पर पढ़ रहे हैंं।

मैने फिर उसका निप्पल अपने दांतों के बीच लेकर हल्के से काटा तो बोली- क्या कर रहे हो? दर्द होता हैं उफ़…

मैने दोनों निप्पलों के साथ ऐसा ही किया.. उसके बाद मै उसे तड़पाने के लिए ऐसे ही पीछे हट गया तो वो आकर मुझसे लिपट गई.. बोली- मुझे ऐसे छोड़ कर मत जाओ, मुझे अपनी बना लो..

मैने अपने सारे कपड़े उतारे और नंगा होकर उसके सामने लण्ड हिलाने लगा और उससे बोला- तुम्हें इसे चूसना पड़ेगा !

वो बोली- मुझे आता तो नहीं लेकिन मै कोशिश करुँगी..

फिर वो अपने घुटनों पर बैठ कर लण्ड को मुँह में लेकर चूसने लगी.. मुझे तो बड़ा मज़ा आया.. वो जैसा भी चूस रही थी मेरे लिए तो पहली बार ही था.. मैने सोचा अगर अब और चुसवाऊँगा तो झड़ जाऊँगा.. मैने उसे उठाया और उसको भी नंगा कर दिया.. उसको लिटाया.. और उसकी योनि में उंगली करने लगा..

वो बोली- आज मेरा असली बर्थडे मना हैं !

उसे थोड़ा दर्द भी हो रहा होगा पर उसने कहा नहीं.. मै फिर दो उंगली करने लगा.. थोड़ी देर बाद वो बोली- यार, अब डाल दो, सींच दो मुझे अपने पानी से !

मैने बोला- देखो थोड़ा दर्द होगा, सहन कर लेना !

फिर मैने नारियल का तेल अपने लण्ड पर और उसकी बूर पर लगाया और अपना लिंग उसके मुहाने पर रख दिया.. वो काँप रही थी.. मैने थोड़ा रुक कर हल्का सा जोर लगाया और हल्के-हल्के अन्दर करने लगा..

उसको तकलीफ हो रही थी, यह उसकी बेचैनी से पता चल रहा था..

मैने सोचा ऐसे तो यह हल्का दर्द होता रहेगा.. अब एकदम कर देता हूँ..

मैने एकदम झटका दिया और लण्ड घुसेड़ दिया .. वो एकदम से तड़प उठी और उसकी बूर से खून आया थोड़ा और वो अपना सर इधर उधर पटकने लगी और थोड़े घूंसे मारने लगी मुझे हटाने को.. लेकिन मै उसे जोर से पकड़े रहा..

उसका दर्द कम होने का इंतज़ार करने लगा..

थोड़ी देर में वो थोड़ी सामान्य हुई तो मै धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगा.. फिर उसका दर्द हल्का होने लगा तो वो भी हल्के हल्के सीत्कारने लगी तो मै भी अब थोड़ा तेज़ हो गया..

फिर मैने उसे घोड़ी बना दिया.. मुझे यही पोजीशन सबसे ज्यादा पसंद हैं.. फिर मै उसके पीछे आकर अपने लण्ड से उसके बूरड़ों पर मारने लगा.. वो भी अपने बूरड़ हिला कर दिखा रही थी.. मैने फिर पीछे से लण्ड डाला तो वो चिहुंक उठी.. अब मै फिर से मस्ती में आगे पीछे होने लगा.. मै उसकी गांड पर थप्पड़ मार रहा था और वो आह आह कर रही थी..

फिर मैने उसके मम्मे पकड़ लिए और चोदने लगा.. मै उसकी गर्दन पर चूम रहा था और उसकी कमर पर हाथ फिरा रहा था.. उसे गुदगुदी भी हो रही थी.. अब वो भी मेरे धक्कों से कदम मिला रही थी.. जब मै आगे होता वो पीछे होकर पूरा लण्ड लेती.. मैने दोबारा उसके मम्मे पकड़ लिए और उसका मुँह पीछे करके उसका चुम्बन लेने लगा.. मै बिल्कुल उससे चिपका हुआ था.. यह आसन कितना सेक्सी होता हैं यह मै ही जान सकता हूँ दोस्तो.. उसके दोनों मम्मे मेरे हाथों में थे.. मेरा लण्ड उसकी बूर में और दोनों चुम्बन करते हुए.. फिर मै उसको झुका कर दोबारा से धक्के मारने लगा.. अब मै भी बहुत तेज़ धक्के मार रहा था क्यूंकि मेरा भी होने वाला था.. मैने उससे पूछा- नीलू, मेरा होने वाला हैं, कहाँ निकालू?

वो बोली- मेरा यह पहला प्रेम हैं, मेरे अन्दर ही डालना..

मै दो धक्कों बाद ही उसके अन्दर झड़ने लगा और सपनों की मीठी दुनिया में खो गया..

हम दोनों निढाल होकर बिस्तर पर गिर पड़े और जोर जोर से साँसें लेने लगे.. थोड़ी देर के बाद दोनों सो गए…

दोस्तो, आपको मेरी कहानी कैसी लगी, बताइएगा ज़रूर.. अपनी राय अवश्य दें.. अच्छी या बुरी जैसी भी हो.. मुझे आपके मेल का इंतज़ार रहेगा..

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां