loading...

लण्ड v/s चूत

लण्ड v/s चूत

हेलो दोस्तो, आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार.

मेरा नाम संतोष हैं. मेरी उम्र बीस साल हैं. मै बारहवी वीं क्लास में पढ़ता हूँ. मै एक बोर्डिंग स्कूल में रहता हूँ. मै लगभग तीन साल से पर हिंदी सेक्स स्टोरी का मजा ले रहा हूँ. आज मुझे लगा कि मै अपनी स्टोरी आपके साथ शेयर करूँ. मैने कभी सोचा भी नहीं था कि मै अपनी सेक्स स्टोरी आपके साथ शेयर करूँगा पर आज वो मौका मिल ही गया.

ये सेक्स स्टोरी एकदम रियल हैं और इसमें केवल प्राइवेसी के कारण मेरे नाम के अलावा सबके नाम चेंज कर दिए गए हैंं. मै पहली बार पर कोई सेक्स स्टोरी लिखने जा रहा हूँ तो अगर कोई ग़लती हो जाए तो मुझे माफ कर देना.जब मै दस क्लास में था तो तब से पर सेक्स स्टोरी पढ़ना शुरू हो गया था और तब से ही मेरे मन में सेक्स करने का विचार आने लगा था. पर कभी मौका ही नहीं लगा क्योंकि कभी मेरी गर्लफ्रेंड भी नहीं बनी थी तो बिना बूर के कभी बात बनने का अवसर ही हाथ नहीं लगा.

जवानी मचलने लगी थी छेद की जुगाड़ नहीं हो रही थी, तभी एक दिन मुझे ‘गे सेक्स..’ की स्टोरी पढ़ने को मिली. मुझे मजा आने लगा और अब मै इसी तरह की सेक्स स्टोरी पढ़ने लगा.

फिर मुझे पता ही नहीं चला कि कब मुझे ‘गे सेक्स..’ करने की चाहत मन में आ गई. पर अभी भी मै किसी से ये सब बोल नहीं पाता था.. मन में अपनी निजता और इज्जत मेरी कामना को दबाए हुए थी.

जब भी मै घर पर अकेला होता था तो लड़की की ड्रेस पहन लेता था, जैसे कि ब्रा-पेंटी और ऊपर से लड़कियों की ड्रेस जैसे सलवार सूट आदि पहन लेता था. कुछ मेकअप वगैरह भी कर लेता था, बिंदी लगा लेता था.. लिपस्टिक भी यूज कर लेता था. बालों को लड़कियों जैसे बना कर सिंदूर लगा लेता और गालों पर पाउडर लगाना तो आम सी बात होने लगी थी.

ये सब तभी होता था, जब मै घर पर अकेला होता था. घर पर दीदी की सैंडिल वगैरह तो होती ही थीं, जो मुझे बिल्कुल फिट आ जाती थीं, तो मै वही पहन लेता था और एकदम लड़की बन कर घर में घूमने लगता. फिर अपनी प्यास को शांत करने के लिए मुठ मार लेता और अपनी गांड में फिंगरिंग भी कर लेता था.

मै आपको एक बात बताना तो भूल ही गया कि प्राकृतिक रूप से मेरे चूचे थोड़े ज्यादा बाहर की ओर उभरे हुए हैंं और मेरे नितंब भी फूले हुए हैंं. दोनों ही आइटम बहुत मुलायम यानि बिल्कुल लड़कियों जैसे सॉफ्ट हैंं.
इसी कारण से मै एकदम हॉट एंड सेक्सी लड़की बन जाता था. मुझे लगता हैं कि भगवान ने मुझे लड़की बनाते बनाते ग़लती से बूर की बजाए लण्ड दे दिया.

इसी कारण से जब भी मै लड़की बनता तो अपने मम्मों को भी दबा लेता था और नितंबों को भी दबाता था. लेकिन मै कभी भी किसी दोस्त से इसके बारे में बात नहीं कर पाया था. क्योंकि जब भी करने की सोचता तो अपनी इज्जत का ख्याल दिमाग में आ जाता था.

इसके बाद मै अगली क्लास करने के लिए बोर्डिंग स्कूल में चला गया. वहां मुझे हॉस्टल के कमरे में एक दूसरे लड़के के साथ रहना पड़ा तो मेरी वासना एक बार फिर जाग गई. मैने सोचा कि क्यों ना अपने रूममेट के साथ ही काम कर लूँ. पर मै शुरुआत में उसे खास जानता नहीं था. वहां सब नये दोस्त थे तो उनके बीच अपनी इज्जत बनाना थी, न कि उनके हाथों अपनी इज्जत लुटवानी थी. इसीलिए मै उनके सामने नॉर्मल रहता था. एक और कारण भी था मै उनके सामने सेक्सी गर्ल बन कर भी नहीं जा सकता था क्योंकि मेरे पास ना तो कोई कपड़े थे लड़कियों वाले, ना मेकअप किट और ना ही कोई हाई हील्स या सैंडिल्स थे मतलब मेरे पास लड़की बनने का कोई भी समान नहीं था. इसीलिए मैने वहां अपने आप को शांत रखा.

फिर ऐसे ही कुछ महीने बीत गए, महीने क्या पूरी गर्मी का मौसम निकल गया और फिर सर्दियाँ शुरू हो गईं. सर्दियों की छुट्टियों में भी सिर्फ़ लड़की बन कर अपनी गांड में फिंगरिंग कर लेता, मम्मों को दबा लेता.. बस इसी तरह समय कटने लगा.

छुट्टियों के बाद दोबारा हॉस्टल वापस जाने का समय आ गया.

मै आपको एक बात पहले ही बता दूँ मेरे साथ मेरे शहर से ही मेरे दो पुराने दोस्त भी उसी बोर्डिंग स्कूल में गए हुए थे. पर हम अभी तक एक रूम में एक साथ नहीं रहे थे. हम सब हॉस्टल वापस पहुँच गए.

फिर अगले दिन ही सभी विद्यार्थियों को कमरे अदला बदल करने को कहा गया और उसी दिन शाम में सभी को दूसरे कमरे आबंटित भी कर दिए गए.
एक दो दिन में ही सभी छात्रों ने अपने अपने रूम चेंज कर लिए.

loading...

अब मेरे रूम में मेरा पुराना दोस्त पिंटू भी आ गया.. और इसी कारण से मेरे मन की वासना फिर जाग गई. पर मै उसे कुछ बोल नहीं पाया.

जैसा कि मैने पहले बताया था कि मेरे चूचे उभरे हुए हैंं तो चिंटू कई बार मेरे मम्मों को टच करके भाग जाता था और मै भी सबके सामने होने के कारण थोड़ा सा विरोध करता कि ये सब ठीक नहीं हैं. पर मेरे मन को तो ख़ुशी मिलती थी. मै तो चाहता ही था कि पिंटू मेरे मम्मों को सिर्फ़ टच ना करे, बल्कि उन्हें दबाए और चूसे.

फिर एक रात हम सब बातें कर रहे थे तो मै चिंटू के बेड पर उसके साथ ही लेटा था. हमने लाइट बंद कर रखी थी क्योंकि रात के करीब ग्यारह बज चुके थे.

वो हमेशा की तरह मेरे मम्मों को टच कर रहा था, पर लाइट्स ऑफ होने की वजह से किसी और को ये दिख नहीं रहा था. मैने इसी बात का फायदा उठाने की सोची और उससे कुछ नहीं कहा बल्कि इस पोज़िशन में लेट गया कि वो मेरे मम्मों को आराम से सहला सके और किसी को पता भी ना चले.
मेरे इस तरह के रिएक्शन से चिंटू की हिम्मत भी बढ़ गई. अब उसने अपना एक हाथ मेरे एक चुचे पर रखते हुए मेरे कान में पूछा- क्या मै तेरे मम्मों को दबा सकता हूँ?
मैने कहा- ज़रा ध्यान से.. कोई और ना देख ले.
उसने फिर वही पूछा- पक्का दबा लूँ ना.. तू कुछ बोलेगा तो नहीं?
मेरे हामी भरने के साथ उसने ये कहते हुए कि तू चिंता मत कर कोई नहीं देखेगा.. उसने मेरे मम्मों को टी-शर्ट के ऊपर से ही सहलाने चालू कर दिए. वो हाथ अन्दर ले जाना चाहता था पर मैने ही मना कर दिया कि अभी ये बाकी के दोस्त देख लेंगे.. कल जब हम अकेले होंगे तो तुम जैसे चाहो वैसे मेरे मम्मों को दबा लेना.

कुछ देर बात सब चले गए और हम सो गए. अगले दिन जब हम रूम में अकेले थे तो चिंटू ने गेट बंद कर दिए और मुझे अपने बिस्तर पर बुला लिया. हम दोनों एक दूसरे की ओर मुँह करके लेट गए और जैसे ही लेटे, उसने एक हाथ मेरी टी-शर्ट में डाला और मेरे मम्मों को दबाने लगा. उसे मेरी टीशर्ट के कारण मेरे मम्मों को दबाने में दिक्कत सी हो रही थी तो मैने अपनी टीशर्ट निकाल दी और वो मेरे मम्मों को आराम से दबाने लगा.

मुझे पता ही नहीं चला कि इसी बीच कब मेरा हाथ चिंटू के लण्ड के पास पहुँच गया था. उसका खड़ा लण्ड एकदम गरम था. वो कभी मेरा एक चुचा दबाता तो दूसरा चूसता और अगर दूसरा दबाता तो पहला चूसता. इधर मै उसके लण्ड के साथ खेल रहा था. थोड़ी देर मम्मों को दबाने और चूसने के बाद हमने लगभग दस मिनट तक किसिंग की.

फिर चिंटू ने मेरी गांड मारने को कहा तो मै चाहता था कुछ ऐसा करना लेकिन मैने मना कर दिया क्योंकि मुझे डर लग रहा था कि गांड में दर्द होगा और न जाने क्या हो जाए!
उसने कहा- ठीक हैं या, लण्ड गांड के अन्दर मत लेना, पर सिर्फ़ गांड पर टच करवा ले. मै ऊपर ऊपर रगड़ कर मजा ले लूंगा और अपना पानी निकाल दूँगा.

तो मै उसकी यह बात मान गया क्योंकि दिल तो मेरा भी कुछ करने को कर रहा था लेकिन मेरे मन में में थोड़ा भय सा बना हुआ था.
पहले तो उसने मेरे कपड़ों के पहने पहने ही मेरी गांड पर लण्ड रगड़ना शुरू किया, पर उसर मजा नहीं आया तो चिंटू ने बोला- यार, ऐसे मज़ा नहीं आ रहा हैं, तू अपनी निक्कर भी उतार ड़े और पूरा नंगा हो जा!
मै भी यही चाहता था तो मैने अपनी निक्कर और चड्डी दोनों उतार दिए, मेरी नर्म मुलायम गांड नंगी हो गयी.
अब चिंटू ने भी अपनी शर्ट और निक्कर चड्डी सब उतार दिया. हम दोनों पूरे कपड़े उतार कर पूरे नंगे हो चुके थे.
मैने चिंटू का लण्ड देखा, वो पूरा खड़ा था, मेरे लण्ड जितना ही लंबा लग रहा था करीब पांच इंच का… लण्ड देख कर मेरे मन में आया भी कि एक बार इसे अपनी गांड में डलवा कर देख लूं, लेकिन मेरे मन से दर्द का डर नहीं निकला. तो सोचा जितना हो रहा हैं, उतना ही ठीक हैं.

अब चिंटू सीधा लेट गया और मै उसके ऊपर ऐसे बैठ गया कि मेरी गांड उसके लण्ड पर आ गई थी. फिर वो मेरे मम्मों को दबाते हुए धक्के मारने लगा. बीच में एक बार उसके लण्ड का सुपारा मेरी गांड के छेद पर लगा तो मुझे दर्द हुआ और मै उठ गया.
डर के मारे मैने लण्ड लेने से मना कर दिया.

फिर थोड़ी देर चूमा चाटी के बाद उसने मुझे उलटा लेटने को कहा, मैने सोचा कि ये फिर मेरी गांड में लण्ड डालेगा तो मैने मना कर दिया.
लेकिन जब उसने मुझे आश्वासन दिया कि वो मेरी गांड को देखेगा, उससे खेलेगा, उंगली से रागादेगा लेकिन मेरिउइ गांड में लण्ड नहीं घुसायेगा तो मै मान गया और उसके कहे अनुसार लेट गया.

वो मेरी टांगों पर बैठ गया और मेरे नंगे कूल्हों को अपने दोनों हाथों से सहलाने लगा, मसलने लगा. मुझे ये सब अच्छा लग रहा था.
फिर उसने अपने दोनों हाथों से मेरे बूरड़ के पट खोले और मेरी गांड का छेद देखने लगा. उसने मेरे छेद में उंगली लगाई तो मेरा बदन सिहर उठा, मेरे मन में आया कि कहीं ये मेरी गांड में उंगली तो नहीं डाल देगा? लेकिन मै चुपचाप लेटा रहा और चिंटू की अगली हरकत का इन्तजार करने लगा.

चिंटू मेरे छेद में उंगली का ज़रा सा हिसा रखा कर उसे गोल गोल घुमाने लगा, मुझे अच्छा लगा रहा था तो मैने उसे कुछ नहीं कहा.
मेरे चुप रहने से उसका हौंसला बढ़ गया और वो अपनी उंगली मेरी गांड के छेद में दबाने लगा, उसकी उंगली आधा इंच मेरी गांड में घुस गई, तो भी मुझे अच्छा ही लग रहा था.
जब उसके उंगली और घुसाने की कोशिश की तो मुझे दर्द होने लगा और मैने डर कर उसे अपने ऊपर से हटने को कहा.

वो मेरे ऊपर से हट गया और तब उसने मुझे उसका लण्ड चूसने को कहा, तो पहले तो मै मना करने का नाटक करने लगा, पर बाद में मान गया क्योंकि लण्ड चूसने का मन तो मेरा भी कर रहा था.
मैने पिंटू को लेटने को कहा और मै उसके लण्ड के ऊपर झुक गया, लण्ड को एक हाथ से पकड़ कर उस पर अपने होंठ रख दिए.
मुझे थोड़ा अजीब सा लगा लेकिन मन में एक जोश भी था और मेरी कामवासना भी काफी बढ़ी हुई थी तो मैने उसका पूरा लण्ड अपने मुंह में ले लिया.

अब मै अपने दोस्त चिंटू का लण्ड चूसने लगा. थोड़ी देर लण्ड चूसने के बाद जब उसका वीर्य छूटने वाला था, तो उसने मेरे मुँह से लण्ड निकाला और डस्टबिन में माल गिरा दिया.

उसके बाद जब भी मौका मिलता, हम दोनों चूमाचाटी कर लेते, पर मैने हॉस्टल में कभी गांड नहीं मरवाई.

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां