loading...

लन्ड की खुजली रुकती नही

लन्ड की खुजली रुकती नही

हेलो दोस्तो.. खड़े लन्ड और खुली बूर को नमस्कार मेरा नाम अभिषेक हैं और मै दिल्ली का रहने वाला हूँ।
एक दिन मै ऑफिस से घर वापिस आ रहा था.. तब शमिका कॉर्नर के ग्रोसरी शॉप पर खड़ी थी।

शमिका उन चार लड़कियों में से एक थी जिसकी मम्मी को मैने पिछली बार झूठा साबित कर दिया था और उसके एवज में शमिका की मम्मी ने तानिया नाम के एक शीमेल से मेरी दुर्गति करवा दी थी इस घटना को आप मेरी पूर्व की कहानियों में पढ़ सकते हैंं।

अब उस घटना के बाद आज पहली बार मेरा शमिका से सामना हुआ था। तो इस घटना को आगे जानते हैंं।

मै कुछ लेने के लिए शॉप में गया.. पर उससे नज़रें नहीं मिला सका।
जब मै वापिस निकला.. तब ये मेरी बाइक के पास जाकर खड़ी हो गई थी। मैने पुराने डर की वजह से उस पर ध्यान नहीं दिया।

तब शमिका बोली- रूको मुझे तुमसे बात करनी हैं।
मै सुनने के लिए रुक गया।

उसने पूछा- अभी भी आदत हैं तुम्हारी नंगा रहने की.. या फिर छूट गई हैं? बहुत दिनों से तुम्हें छत या बाल्कनी में मंडराते हुए देखा नहीं हैं.. या फिर टाइमिंग्स बदल दिए हैंं?
और शमिका हँसने लगी।

मैने कहा- नहीं ऐसी कोई बात नहीं.. थोड़ा टाइम कम मिलता हैं..
तो वो हँसने लगी और बोली- कुछ भी कहो.. तुम नंगे काफ़ी अच्छे दिखते हो.. क्या फिर से मेरे सामने नंगा होना चाहोगे?

मै इस सवाल से चौंक गया था.. पर पुरानी बातें याद करके डर भी लग रहा था।
मैने हिचकिचाते हुए कहा- कहीं फिर से मुझे ठुकवाने का इरादा तो नहीं हैं?

शमिका एकदम से हँस पड़ी और बोली- अरे नहीं उस दिन जो किया वो सज़ा के तौर पर काफ़ी था और वो भी पूरा मॉम का ही प्लान था.. क्योंकि तुमने उन्हें सबके सामने झूठा साबित किया था.. जबकि वो सही थीं।
मै सिर्फ़ खामोश खड़ा था।

तब वो बोली- बात ऐसी हैं कि हम सहेलियों ने कुछ दिन पहले एक ब्लू फिल्म देखी थी.. उसमें दिखाया गया था कि एक लेडी बहुत देर तक मर्द के मुँह पर नंगी बैठ जाती हैं और शायद झड़ने के बाद ही उठ जाती हैं.. थोड़ा ह्युमाइलियेशन तरह का एक्शन था.. पर उससे ‘कुछ’ करवाती नहीं हैं.. उसे वैसे ही छोड़ देती हैं.. नंगा तड़फता हुआ। जब मैने इस चीज़ को गूगल किया तो मुझे पता लगा इसे ‘फेस सिटिंग’ कहते हैंं। जिसमें लड़की मेल के मुँह पर बैठकर उसकी जीभ और होंठों से अपनी ‘पुसी’ को चटवाती हैं.. ‘एस होल’ को भी तब तक चटवाती हैं.. जब तक वो पूरी तरह से शांत ना हो जाए।

तो मैने कहा- इसमें मै क्या कर सकता हूँ?
शमिका बोली- अरे बुद्धू, मुझे ये एक्सपीरियेन्स करना हैं और मुझे लगता हैं कि मुझे ये एक्सपीरियेन्स करने के लिए तुम पूरी तरह से मेरा साथ दोगे।
मैने कहा- पर इसमें मेरा क्या फ़ायदा?
उसने कहा- और क्या फ़ायदा चाहिए जबकि तुमको मुझे पूरा देखने को मिलेगा और लिक करने को भी मिलेगा।
मैने कहा- हाँ ये सब तो ठीक हैं.. पर कुछ और भी मिल जाए तो..
शमिका बोली- अपनी औकात में रहो.. तुम जो सोच रहे हो.. वो मै तुम्हें नहीं देने वाली.. समझे।

मैने कहा- फिर और कुछ?
शमिका बोली- साफ़-साफ़ बताओ और क्या चाहिए?
मैने कहा- ज़्यादा कुछ नहीं.. जब भी आप मुझे बुलाएँगी और आप का सेशन खत्म हो जाएगा.. तब मुझे आपकी बाल्कनी या फिर छत पर नंगा घूमने देखना पड़ेगा।

शमिका बोली- शायद तुम्हें फिर से उस हिजड़े से चुदवाने का शौक चढ़ रहा हैं.. ये नहीं हो सकता.. अगर ग़लती से भी मॉम को पता चला.. तो वो तुम्हारे साथ मेरी भी खाल उधेड़ देंगी।
इतना कहने के बाद वो थोड़ी भड़क सी गई थी।

फिर से बोली- देखो जितना मिलता हैं उतने में खुश होना सीखो और राज़ी हो जाओ.. नहीं तो मुझे फिर से सब को कहने में ज़रा भी देर नहीं लगेगी कि आज ये फिर से छत पर नंगा था.. और प्रूफ भी देने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी.. सब तुम्हारी आदत से वाकिफ़ हैंं।

loading...

उसने मुझे क्लीन बोल्ड कर दिया था, मै पुराने ख़यालों से फिर डर गया और मै झट से कहा- ठीक हैं.. कब आना हैं।
उसने कहा- अभी एक घंटे बाद मॉम निकल जाएंगी बाहर.. वे शायद किसी फंक्शन में जा रही हैंं.. जैसे ही तुम्हें वो जाते हुए दिखें.. तुम आ जाना.. तब तक मै ‘सफाई भी करके रखती हूँ..
मैने कहा- ठीक हैं।

शमिका बोली- और हाँ.. क्लीन शेव करके आना.. सब तरफ.. जैसे तुम्हें दिखाने की आदत हैं.. बिल्कुल वैसे ही।
मैने कहा- ठीक हैं..
इसके बाद हम लोग चले गए।

मै घर में आया.. कपड़े उतार दिए.. देखा तो लौड़े के आजू-बाजू में थोड़ी हरियाली थी और गाण्ड पर भी कुछ रोएं थे। बालों को निकालने के लिए बाथरूम में जाकर पहली बार उस दिन शेविंग फोम का इस्तेमाल किया।

पूरी तरह से सब कुछ क्लीन होने के बाद में बेडरूम की खिड़की के पास आकर खड़ा हो गया। मै सोच में डूब गया कि एक कुंवारी बूर को चाटने का आज मौका मिलेगा।

मै अपनी कल्पनाओं में पूरा सीन महसूस किए जा रहा था.. तभी मुझे उसकी मॉम उनकी बिल्डिंग के गेट से बाहर निकलते हुए दिखाई दी।
मैने एक शॉर्ट और टी-शर्ट पहन ली और अपनी नई मंज़िल की ओर निकल पड़ा।

जैसे ही मै उसके घर पहुँचा और डोरबेल बजाई।
शमिका ने दरवाजा खोल दिया.. मुझे अन्दर खींच कर उसने कहा- बड़े जल्दी आ गए तुम.. लगता हैं नंगा होने के लिए मरे जा रहे हो..? अच्छा चलो.. मै बस नहाने ही जा रही हूँ.. तुम जल्दी से कपड़े उतार दो और अन्दर आ जाओ।

वो मुड़ कर अन्दर चली गई.. मैने फटाक से अपने दोनों कपड़े उतार दिए और उसके पीछे चला गया।
मुझे देख कर वो बोली- अरे वाह.. ज़्यादा कपड़े भी नहीं पहने थे हाँ.. और गुड.. हमेशा की तरह आज भी पूरे साफ़ हो।

ये सब कहते-कहते उसने उसका टॉप उतार दिया और जीन्स को अनबटन करते हुए उसे पैन्टी के साथ ही नीचे खींच दिया।
आज तक मैने भी कई लड़कियों औरतों को नंगी देखा था.. पर पता नहीं इसे उस हालत में देखकर मुझे एक अजीब सा फील आने लगा। शायद एकदम कुँवारी लड़की का बदन देखकर वैसा फील होने लगा था।

तभी उसने मेरी तरफ पीठ करते हुए कहा- ज़रा इस ब्रा के हुक्स निकाल दो।
उसकी मुलायम और राउंडेड गाण्ड देख कर मे में हलचल शुरू हो गई

मैने उसी हालत में ब्रा को अनहुक किया और उसने उस आखिरी कपड़े को अपने बदल से अलग कर दिया।

मै यकीन नहीं कर पा रहा था कि ये वही लड़की हैं.. जिसने कुछ महीनों पहले एक बदला लिया था और आज मै उसे ही बिना कपड़ों के देख पा रहा हूँ।
उसने मुझसे कहा- अच्छी तरह से मुझे नहलाओ।

मैने गरम पानी का शावर चालू कर दिया और शमिका को पूरा गीला करने के बाद बॉडी वॉश उठाकर उसके बदन पर मलने लगा।

उसका बदन सचमुच एक संगमरमर की तरह था। उसका जिस्म मुलायम तो इतना अधिक था कि हाथ फिसल जाए और कपड़ों को गोंद लगा कर ही पहनाया जाए.. नहीं तो फिसल जाएँगे।

पीठ पर बॉडी वॉश लगाते हुए मेरे हाथ शमिका की गाण्ड पर जा पहुँचे। जैसे ही उसे समझ आया वो शावर की नॉब को पकड़ कर नीचे झुकी और अपनी कच्ची गाण्ड मेरी तरफ उठा दी।

मैने बॉडी वॉश जैल को हाथ में लिया और उसकी गाण्ड पर.. दरार में.. और फिर नीचे बूर तक लगा दिया और मलना शुरू किया।

दोस्तो.. ये मदमस्त खेल अभी बदस्तूर जारी हैं, मेरे साथ अन्तर्वासना से जुड़े रहिये और अपने विचारों को मुझ तक ईमेल के जरिए जरूर भेजिएगा।
कहानी जारी हैं।

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां