loading...

सिस्टर को लण्ड लेने की लत लग गई

सिस्टर को लण्ड लेने की लत लग गई

हैंल्लो दोस्तों, मेरा नाम पवन हैं और मेरी उम्र 25 साल, लम्बाई 5.7 हैं. में दिखने में ठीक लगता हूँ और में एक मध्यमवर्गीय परिवार से हूँ. दोस्तों में भी आप सभी की तरह बहुत समय से सेक्सी कहानियों को पढ़कर मज़े लेता आ रहा हूँ

और मुझे सभी सेक्सी कहानियाँ बहुत पसंद आती हैं. फिर एक बार मैने मन में विचार बनाया की में भी अपनी उस सच्ची घटना जो मेरे साथ घटित हुई उसको आप सभी के लिए लिखकर पेश करूं और आज मैने उसको लिख लिया हैं और भेज रहा हूँ उम्मीद करता हूँ की सभी पढ़ने वालों को यह जरुर पसंद आएगी.

दोस्तों यह कहानी तब की हैं जब में अपनी स्कूल की पढ़ाई कर रहा था और मेरे उन दिनों 10th के पेपर पूरे होने के बाद में अपनी मौसी के घर अपनी छुट्टियाँ बिताने के लिए गया था. दोस्तों मेरी मौसी एक गाँव में रहती हैं और उस गाँव में उनका एक बड़ा सा घर हैं और जब में वहां पर पहुंचा, तब घर में मेरी मौसी और मौसा जी थे. दोस्तों वैसे मेरी मौसी को दो बेटियाँ हैं और वो दोनों शादीशुदा हैं, जिसमे से एक का नाम वर्षा हैं और दूसरी बेटी का नाम नंदनी हैं दोनों बेटियों की शादी हो जाने की वजह से अब मेरी मौसी-मौसाजी उसके कोई भी लड़का ना होने की वजह से उस इतने बड़े घर में अलेके ही रहते हैं.

दोस्तों मेरी वर्षा दीदी की उम्र करीब 27 साल हैं और नंदनी दीदी की उम्र 24 साल हैं और मेरे साथ जो घटना घटी वो मेरी वर्षा दीदी के साथ घटी. दोस्तों जब में अपनी मौसी के घर गया था, उस समय मेरी वर्षा दीदी भी वहीं अपनी माँ के घर आई हुई थी. फिर मेरे वहां पर पहुंचते ही वो सभी लोग मुझे देखकर बहुत खुश हुए, क्योंकी पिछले तीन साल से में अपनी स्कूल की छुट्टियों में वहीं पर जाता था.

में भी मेरी वर्षा दीदी को वहां पर देखकर बहुत खुश था, क्योंकी वो मुझे उनके घर पहली बार मिली थी और उनके शादी हो जाने के बाद हम दोनों एक दूसरे को बहुत कमी से मिले थे. फिर में अपनी मौसी के घर पहुंचकर मुहं हाथ धोकर उस लंबे सफर की थकान को दूर करके हल्का हो गया और उसके बाद में टीवी देखने लगा था. फिर थोड़ी ही देर के बाद वर्षा दीदी ने मुझे आवाज देकर अपने पास बुला लिया और में हाँ में अभी आ रहा हूँ कहकर तुरंत ही उनके कमरे में चला गया, क्योंकी उनका वो कमरा ऊपर था और फिर उस कमरे में जाते समय मैने देखा की मेरी मौसी अपना कुछ सामान एक बेग में जमा रही थी.

अब में मन ही मन में सोचने लगा की यह क्यों अपना सामान जमा रही हैं? फिर मैने अपनी दीदी के पास जाकर उनसे पूछा की मौसी बेग में सामान क्यों जमा रही हैं? तब वर्षा दीदी ने मुझे बताया की वो दोनों एक सप्ताह के लिए यात्रा पर बाहर जा रहे हैं. दोस्तों माफ करना में अपनी दीदी के बारे में आप सभी को बताना तो भूल ही गया और अब बता देता हूँ. मेरी दीदी थोड़ी लंबी और गोरी हैं, उसके बूब्स आकार में इतने बड़े नहीं थे, लेकीन उनकी वो गांड बहुत मस्त उभरी हुई थी और उनको एक बेटी भी हैं और वो शादीशुदा और एक बच्चे की माँ होने के बाद भी कीसी कुंवारी लड़की जैसी नजर आती थी.

अब में अपनी दीदी के कमरे में जाकर उनकी बेटी के साथ खेलने लगा और वो कुछ देर बाद नीचे चली गयी, फिर वर्षा दीदी ने हम सभी के लिए खाना बनाया और खाना खाने के बाद हम सभी बैठे हुए बातें कर रहे थे. फिर उन सभी ने मेरे घर का हालचल मुझसे पूछा और फिर मौसी ने मुझसे कहा की में अपनी दीदी के साथ यहीं पर ही रहूँ, क्योंकी जल्दी सुबह ही वो लोग ट्रेन से बाहर जाने वाले हैं तुम्हे यहाँ आया देखकर हमारी आधी चिंता खत्म हो गई और अब हम आराम से जा सकते हैं, क्योंकी घर की हमे पीछे से कोई भी चिंता अब नहीं होगी.

फिर हम सभी लोग बातें खत्म करके सोने के लिए चले गये और उसी समय जब में जा रहा था, तभी दीदी ने मुझसे कहा की में उनके साथ ही कमरे में सो जाऊं. अब मैने उनको तुरंत हाँ कर दिया और में साथ ऊपर वाले उनके कमरे में सोने चला गया, रात को बहुत देर तक हम दोनों बैठकर इधर उधर की बातें कर रहे थे. फिर मैने कुछ देर बाद दीदी से उनके पति के बारे पूछा, लेकीन वो मेरे मुहं से अपने पति के बारे में सुनते ही तुरंत ही उदास हो गयी और वो अब बिल्कुल चुप हो गयी जैसे उनको कोई सांप सूंघ गया हो, उनके चेहरे से वो मुझे थोड़ी सी नाराज़ भी लगी.

मैने कहा की मुझे माफ करे मेरा आपका दिल दुखाने का इरादा बिल्कुल भी नहीं था और अब में पलंग पर लेट गया, लेकीन वो तो अब रोने लगी थी और वो कहने लगी की उन दोनों पति-पत्नी का झगड़ा हो गया हैं. अब वो मुझसे कहने लगी की हमारे बीच यह झगड़ा उनको बेटी होने की वजह से हुआ हैं, क्योंकी उनके पति और सास को मुझसे एक बेटा चाहिए था, लेकीन पहली बार ही बेटी होने की वजह से हमारे बीच झगड़ा हुआ था और इस वजह से वो अपनी माँ के घर वापस चली आई. अब वो अपनी बात को खत्म करके दोबारा रोने लगी थी, उनको रोता देख मुझे उनके ऊपर दया आ गई.

फिर मैने उनको पानी लाकर दे दिया और में उनको चुप करवाने लगा था, कुछ देर के बाद हम दोनों सो गये. फिर दूसरे दिन सुबह जब में उठा तब मैने देखा की मेरी मौसी और मौसाजी अब तक जा चुके थे और मेरी दीदी उस समय रसोई में काम कर रही थी. फिर कुछ देर बाद हम दोनों ने साथ में बैठकर नाश्ता कीया और उसके बाद हम दोनों वापस ऊपर वाले कमरे में चले गये और तभी मुन्नी रोने लगी.

अब में उसको चुप करवाने के लिए उसको अपनी गोद में उठाकर उसके साथ खेलने लगा, लेकीन वो चुप ना होकर अब और भी ज़ोर से रोने लगी थी. फिर दीदी ने उसको मेरे पास से अपनी गोद में ले लिया और उन्होंने मुझसे कहा की मुन्नी को भूख लगी हैं इसलिए वो इतना रो रही हैं, उसका दूध पीने का समय हो चुका हैं, इसलिए उसको अब दूध पिलाना पड़ेगा और तब जाकर ही वो चुप होगी. दोस्तों उस समय मेरी दीदी ने गाउन पहना हुआ था और फिर दीदी ने तुरंत नीचे बैठकर मेरे ही सामने अपने गाउन के ऊपर के दो तीन बटन को खोलकर अपना एक बूब्स उस खुले हिस्से से बाहर निकालकर मुन्नी के मुहं में अपने एक निप्पल को दे दिया.

अब मुन्नी उस निप्पल को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी थी और में बस वही सब बड़े ध्यान से देख रहा था, क्योंकी मैने पहली बार कीसी को इतना पास से बच्चे को दूध पिलाते हुए और कीसी के गोरे गोल बूब्स को अपनी आँखों से देखा था, इसलिए में बड़ा चकीत था. फिर कुछ देर बाद दीदी ने मेरी तरफ अपनी नजर को उठाकर देखा और दीदी ने मुझसे पूछा की तुम ऐसे क्या घूरकर देख रहे हो?

अब में उनके मुहं से यह सवाल सुनकर शरमा गया. फिर तुरंत ही मैने अपनी नजर को नीचे झुका लिया था और में उनको कहने लगा की कुछ नहीं और फिर में उस कमरे से बाहर जाने लगा था. फिर दीदी ने उसी समय मुझसे कहा की तुम यहीं रहो, तुम्हे कहीं नहीं जाना और में उनकी यह बात सुनकर वापस बैठ गया और उस समय मैने अपनी झुकी नजर से चोरी छिपे देखा की दीदी ने आज अपने उस गाउन के अंदर ब्रा नहीं पहनी थी. अब मेरी दीदी के बूब्स को मुन्नी बड़े मज़े से चूस रही थी और कुछ देर दूध पीने के बाद मुन्नी बिल्कुल शांत हो गयी और शायद वो पेट भरने की वजह से चुप थी. फिर दीदी ने मुझसे कहा की तुम बैठकर कुछ देर इसके साथ खेलो, तब तक में नहा लेती हूँ और फिर वो मुझे अपनी बेटी के पास छोड़कर नहाने चली गयी और में मुन्नी के साथ खेलने मस्ती करने लगा था.

फिर दीदी थोड़ी देर के बाद नहाकर बाथरूम से बाहर आ गई और फिर में बस उन्हे देखता ही रहा गया, क्योंकी दीदी ने उस समय अपने गोरे चिकने बदन पर सिर्फ़ टावल ही लपेटा हुआ था और उनके वो खुले हुए लंबे काले बाल बहुत सुंदर थे वो उस गोरे बदन की सुंदरता को कुछ ज्यादा ही बढ़ा रहे थे, इसलिए मेरी दीदी उस समय क्या मस्त लग रही थी. अब पहली बार अपनी दीदी का वो कामुक द्रश्य उनका आधा नंगा बदन देखकर मेरे अंदर एक झनझनाहट होने लगी थी और में बस उनके गोरे चिकने पैर और जांघो को ही देख रहा था, जिसके वजह से मेरे अंदर की जवानी अंगड़ाई लेने लगी थी.

दोस्तों उस द्रश्य को देखकर मेरा मुहं पूरा खुला ही रह गया और वो कब मुझे देखने लगी थी मुझे यह भी पता नहीं रहा, मेरी नजरे अपनी दीदी के बदन को अपनी खा जाने वाली नजरों से देख रही थी, क्योंकी मेरे साथ ऐसा सब पहली बार हो रहा था. फिर दीदी ने मुझे अपने पास बुलाया, तब जाकर मैने उनकी आँखों में झांककर देखा और में शरमा सा गया और वो मेरी तरफ देखकर हंस रही थी. दोस्तों उसी समय मेरा लण्ड पूरा तनकर खड़ा हो चुका था और मेरी इच्छा हो रही थी की में अभी अपनी दीदी की चुदाई कर दूँ और मेरे झटके देते हुए लण्ड ने मुझे बड़ा मजबूर कीया, लेकीन मुझे बड़ा डर भी लग रहा था और इसलिए में चुप ही रहा.

loading...

फिर में वापस कमरे से बाहर जाने लगा, लेकीन दीदी ने मुझे रोक दिया और वो मेरे लण्ड का उभार बहुत ध्यान से देखने लगी थी और वो मेरी हालत को एकदम ठीक तरह से समझकर अब हंसने लगी थी. अब वो बिल्कुल अंजान बनकर मुझसे पूछने लगी की यह क्या हैं? मैने कुछ भी नहीं बोला में चुप ही रहा और अब दीदी ने मुझे वहीं पर बैठने के लिए कहा.

अब दीदी मेरे साथ मजाक करने लगी थी और वो मुझसे कहने लगी की अब तो तुम बड़े हो गये हो और साथ ही तुम्हारा बहुत कुछ भी मुझे बड़ा नजर आ रहा हैं. अब में उनकी बात का मतलब समझकर शरमा रहा था और में वहीं पर बैठा था, तभी दीदी अब मेरे सामने ही अपने कपड़े पहनने लगी थी, दीदी ने वापस ही सिर्फ़ वहीं गाउन पहन लिया था और वो भी बिना ब्रा और पेंटी के, उसके बाद तैयार होकर मुन्नी को अपनी गोद में लेकर वो दोबारा उसको अपना दूध पिलाने लगी थी. अब में लगातार वो द्रश्य देख रहा था, जिसकी वजह से मेरा लण्ड तनकर खड़ा हो चुका था और पेंट के अंदर ही हल्के हल्के झटके भी देने लगा था. फिर दीदी ने मुझे अपने पास बुलाया और मुझसे पूछा की क्या हुआ? में इस बार भी कुछ बोल नहीं पा रहा था, लेकीन वो मेरे चेहरे की तरफ देखकर हंसने लगी थी.

अब दीदी ने मुझसे कहा की तुम तो मुझे बहुत देर से अपनी इन गंदी नज़रो से देख रहे हो. अब में डरते हुए उनको कहने लगा की नहीं दीदी ऐसा कुछ भी नहीं हैं जैसा आप समझ रही हो आप प्लीज मुझे माफ कर दे अगर आपको लगता हैं की मैने कोई भी गलती की हैं तो मेरी उस गलती को प्लीज नजरंदाज कर दो. फिर वो मुझसे कहने लगी की अब तुम उसको बाहर निकालो जिसको तुम अपनी पेंट के अंदर छुपाए बैठे हो, में एक बार उसको देखना चाहती हूँ, उसी समय मैने डरते हुए उनको ना बोल दिया.

अब वो मेरे ना कहने की वजह से गुस्सा हो गयी और वो मुझसे कहने लगी की में तुम्हारी मम्मी को यह सब बोल दूँगी की तुमने मुझे कैसे देखा और हो सकता हैं की उनको कुछ ज्यादा झूठ भी बोलकर तुम्हे फंसा सकती हूँ. फिर में उनके मुहं से यह बात सुनकर बहुत डर गया और जल्दी से मैने अपना खड़ा लण्ड पेंट बाहर निकाल लिया और में उनके सामने अपना मुहं नीचे करके खड़ा हो गया और अब तक मुन्नी सो चुकी थी. अब दीदी उसी हालत में मुन्नी को बिस्तर पर लेटाकर उनका एक बूब्स बाहर ही लटके मेरे पास आकर मेरा लण्ड अपने एक हाथ में लेकर उसको सहलाने लगी थी और वो मुझसे कहने लगी की वैभव वाह तेरा तो बहुत ही बड़ा लण्ड हैं. दूर से इसका आकार बहुत छोटा नजर आ रहा था.

अब भी में चुप ही रहा और वो मुझसे बोली की भोड़सी के इतने दिनों तक तूने इसको कहाँ छुपा रखा था? वो उनकी बातों से बहुत खुश लग रही थी. अब मेरा भी थोड़ा सा डर कम हो गया और में भी शांत हो गया. वो मुझे पलंग पर बैठाकर मेरे लण्ड से खेलने लगी थी और मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मेरे देखते ही देखते दीदी ने मेरा लण्ड अपने मुहं में ले लिया और वो उसको चूसने लगी थी और लगातार मेरे लण्ड को कभी अंदर और कभी पूरा बाहर निकालकर टोपे पर अपनी जीभ को घुमाकर चाटने लगी थी वो यह सब कीसी अनुभवी रंडी की तरह कर रही थी.

दोस्तों में उनके ऐसा करने की वजह से बहुत गरम हो रहा था और जब वो मेरा लण्ड अपने मुहं के अंदर बाहर करने लगी. में मज़े मस्ती की दूसरी दुनियां में जा चुका था. फिर में भी उनका सर पकड़कर मज़े लेने लगा था और बस तीन चार मिनट में ही में उनके मुहं में झड़ गया, क्योंकी वो मेरा पहला अनुभव था और फिर झड़ने के बाद में पलंग पर वैसे ही लेट गया. अब दीदी चाटकर चूसकर मेरा सारा वीर्य पी गयी और मेरे लण्ड को दीदी ने लोलीपोप की तरह चूसकर एकदम साफ कर दिया, वो पूरी मेहनत से उस काम को कर रही थी.

फिर थोड़ी देर के बाद हम दोनों एक दूसरे को पागलों की तरह प्यार कर रहे थे और फिर दीदी ने मुझे बताया की पिछले पांच महीने से उन्होंने चुदाई के यह सब मज़े नहीं लिए हैं, इसलिए आज दीदी के सर पर अपनी चुदाई का भूत सवार हो गया था और अब उनको अपनी प्यासी बूर में मेरा लण्ड चाहिए था. अब दीदी ने बिल्कुल साफ शब्दों में मुझसे अपनी चुदाई करने के लिए कहा और में अपनी कामुक दीदी के मुहं से यह चुदाई के शब्द सुनकर बहुत खुश हो गया. अब में तुरंत उनके ऊपर चढ़कर उनके रसभरे गुलाबी होंठो को चूमने लगा था और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

उनको मेरे साथ यह सब करने में बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मैने कुछ देर मज़े लेने के बाद उनको बैठाकर उनका गाउन उतार दिया और आज पहली बार मैने कीसी लड़की की नंगी बूर को देखा था, जिसकी वजह से में बहुत चकीत था और मेरा पूरा ध्यान उस समय बस दीदी की बूर पर ही था. दोस्तों मैने देखा की मेरी दीदी की बूर पर एक भी बाल नहीं था, मानो बस अभी ही वो अपनी बूर को मेरे लिए साफ करके आई थी.

फिर दीदी ने मेरा हाथ अपनी तरफ खींचा तब जाकर में होश में आकर उनके पास गया और अब में दीदी को चूमने प्यार करने लगा था. अब में उनके बूब्स को मसलने और एक बूब्स को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा था और उस समय दीदी के बूब्स से दूध भी आ रहा था, इसलिए में उस दूध को बड़े मज़े से चूस चूसकर पी रहा था और दीदी बहुत गरम हो रही थी.

अब मेरा लण्ड एक बार फिर से खड़ा हो चुका था, कुछ देर बाद हम दोनों 69 आसन में हो गये और में अपना मुँह उनकी बूर पर ले गया और उनकी बूर की भीनी भीनी खुशबू से में मदहोश हो रहा था. अब अपनी जीभ को उनकी बूर के होंठो पर रगड़कर में बूर के दाने को चाटने लगा था, जिसकी वजह से दीदी की बूर गीली होने साथ ही चिपचिपी भी हो चुकी थी. अब वो जोश में आकर मेरा लण्ड अपने मुहं में लेकर चूस रही थी और मेरा लण्ड तनकर पूरा खड़ा हो चुका था. अब में आगे बढ़कर उनकी बूर को अपनी जीभ से चाटने लगा था और वो मेरे सर के बाल पकड़कर मेरी जीभ को और भी अंदर डालने लगी थी. फिर मैने कुछ देर बाद खड़ा होकर अपनी एक उंगली को उनकी बूर में डाल दिया. उस दर्द मस्त की वजह से वो आहह उह्ह्ह्ह करने लगी थी.

अब में अपनी उंगली को अपनी दीदी की गरम बूर में लगातार अंदर बाहर करने लगा था, जिसकी वजह से वो बहुत जोश में आ रही थी और अब वो मुझे गंदी गंदी गालियाँ देने लगी थी ऊफ्फ्फ्फ़ बहनचोद साले कुत्ते तू अब मुझे ज्यादा मत तड़पा, प्लीज मेरे अच्छे भाई अब तू डाल भी दे अपना लण्ड मेरी इस प्यासी बूर में आह्ह्ह्ह अब तू मुझे मत तड़पा.

में अपनी दूसरी उंगली को भी बूर के अंदर डालकर ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लगा था, ऐसा करने में मुझे बड़ा मस्त मज़ा आ रहा था. अब वो और भी ज़ोर से चिल्लाने लगी थी, जिसकी वजह से मुझे बहुत जोश आ रहा था और फिर मैने उनकी बूर से अपनी उंगली को बाहर निकला और अपने मुहं में लेकर उसको चूसकर साफ कीया. अब मैने दीदी के होंठो पर एक चुम्मा कीया और उसी समय दीदी ने मुझसे कहा की वैभव प्लीज अब तू मेरी बूर को ठंडी कर दे, नहीं तो में मर ही जाउंगी. फिर मैने जाकर तेल लिया और अपने लण्ड पर और उनकी बूर पर थोड़ा सा तेल लगाकर एकदम चिकना कर दिया. अब में उनके ऊपर चढ़ गया और में उनकी बूर के मुहं के पास अपने लण्ड को रखकर धीरे धीरे रगड़ने लगा था, जिसकी वजह से उनकी बूर बहुत गरम हो चुकी थी.

अब में अपने लण्ड का टोपा दीदी की गरम बूर में डालने के लिए तैयार करने लगा था और दीदी ने मेरे लण्ड को अपने एक हाथ से पकड़कर बूर के छेद के पास रख दिया और मैने उनका वो इशारा समझकर तुरंत ही धीरे से धक्का लगा दिया. अब वो इतने महीनों के बाद अपनी कसी बूर में मेरे मोटे सख्त लण्ड को महसूस करके दर्द की वजह से आह्ह्ह ऊह्ह्ह्हह करके मुझे गाली देने लगी. वो कहने लगी साले कुत्ते कमीने धीरे से कर बहनचोद मुझे दर्द होता हैं, इतने दिनों बाद मेरी बूर को कीसी का लण्ड नसीब हुआ हैं, लेकीन मैने और भी ज़ोर से अपना अगला झटका लगा दिया.

अब मेरे उस तेज धक्के की वजह से मेरा आधा लण्ड मेरी दीदी की गीली बूर के अंदर चला गया, जिसकी वजह से वो सकपका गई और काँपने भी लगी थी, लेकीन में अब धीरे धीरे अपने लण्ड को अंदर बाहर करने लगा था और वो आहे भर रही थी, क्योंकी बड़ा तेज दर्द हुआ था. फिर कुछ देर बाद मैने एक और ज़ोर का धक्का लगा दिया, जिसकी वजह से मेरा पूरा लण्ड उनकी बूर के अंदर चला गया और में ऐसे ही अपने लण्ड को रखकर उनके ऊपर लेटकर उनके होंठो को चूसकर मैने उनकी चीखने की आवाज को बंद कीया, लेकीन उस दर्द की वजह से उनकी आँखों से आंसू निकलने लगे थे.

फिर में धीरे धीरे अपने लण्ड को अंदर बाहर करने लगा था और वो आहह्ह्ह ऊह्ह्ह की आवाज़ कर रही थी और कुछ देर बाद जब उनका दर्द कम हुआ, तब वो भी मज़ा लेकर मेरे हर एक धक्के के साथ उछल उछलकर अपनी चुदाई के मज़े लेने लगी थी. अब मैने भी उनका वो जोश देखकर अपने धक्को की रफ्तार को बढ़ा दिया और वो ज़ोर ज़ोर से सिसकीयाँ लेते हुए चिल्लाने लगी आहहहह ऊह्ह्ह्ह हाँ और ज़ोर से धक्के मारो ऊह्ह्ह वाह मुझे अब बहुत मज़ा आ रहा हैं कहने लगी थी और थोड़ी ही देर के बाद वो झड़ गयी.

अब मैने भी अपनी रफ्तार को पहले से भी ज्यादा बढ़ा दिया और बस थोड़ी ही देर धक्के देने के बाद में भी उनकी बूर के अंदर ही झड़ गया और अब हम दोनों वैसे ही एक दूसरे से लिपटकर पड़े रहे और फिर एक दूसरे को चूमने चाटने लगे थे. फिर कुछ देर बाद दीदी ने मुझे अपने ऊपर से हटा दिया और वो उठकर खड़ी होकर वापस पलंग पर बैठ गयी और अब वो नीचे झुककर मेरे लण्ड को अपने मुहं में लेकर उसको चूसते हुए चाटकर साफ करने लगी थी. दोस्तों में पूरी तरह से थक चुका था और मेरा लण्ड अपनी जीभ से अच्छी तरह साफ करने के बाद दीदी ने अपनी बूर को मेरे मुहं के पास लाकर रख दिया और वो मुझसे उनकी बूर को चाटकर साफ करने के लिए कहने लगी.

फिर मैने भी बिना देर कीए दीदी की बूर का रस अपनी जीभ से चाटकर चूसकर साफ कर दिया और एकदम चमका दिया और अब हम दोनों थककर वहीं पर वैसे ही नंगे लेट गये.

loading...

आप के लिए चुनिन्दा कहानियां